Driver se Gand Marwai मुंबई से दिल्ली के सफर में – Hindi Gay Sex Story

Driver se Gand Marwai मुंबई से दिल्ली के सफर में – Hindi Gay Sex Story

नमस्ते दोस्तों मेरा नाम नमन है। मैं आज आपको अपनी ट्रक से मुंबई से दिल्ली के सफर में Driver se Gand Marwai का अजीब किस्सा सुनाने जा रहा हूँ।

दोस्तो, मेरा नाम नमन है. मैं दिल्ली में रहता हूँ. मैं आपको सच्ची Gay Hindi Sex Story बताने जा रहा हूँ कि ट्रक वाले ने मेरी गांड कैसे चोदी।

मुझे अपनी गांड मरवाना बहुत पसंद है. ये बात दो महीने पुरानी है. मुझे गांड मरवाये बहुत दिन हो गये.

मैं काम के सिलसिले में महाराष्ट्र गया था। मुझे वापस लौटने में थोड़ा समय लग गया. मैं जिस कार में था वह खराब हो गई।

मैं घबरा गया. मैं अपनी कार सड़क के किनारे खड़ी कर दी और मदद ढूंढने लगा. अब दिल्ली करीब 36 किलोमीटर दूर था.

मैं आने वाली कारों की ओर इशारा करता था और उन्हें रुकने के लिए कहता था, लेकिन कोई भी मेरी मदद करने के लिए नहीं रुकता था।

उसी समय एक ट्रक आता हुआ दिखाई दिया। मैंने एक ट्रक ड्राइवर को इशारा किया. उसने ट्रक रोक दिया. मुझे बहुत ख़ुशी हुई.

उसने मुझसे पूछा: क्या हुआ?

मैंने उसे अपनी समस्या बताई.

ड्राइवर ने कहा: मैं कार ठीक नहीं कर सकता. हाँ, अगर तुम मेरे साथ आना चाहो तो मैं तुम्हें साथ आने दूँगा।

मैं हताशा में कुछ भी कर सकता था। मैंने कार लॉक की और उसके ट्रक में चढ़ गया।

उस ट्रक ड्राइवर की उम्र करीब 55 साल थी. उनका शरीर बहुत मजबूत था.

दो मिनट के बाद मुझे उसमें उम्मीद नजर आने लगा कि शायद वह अपना लंड मेरी गांड में डाल सकता है.

क्योंकि मैंने ट्रक चालकों द्वारा अपने यात्रियों की गांड मारने की कई कहानियाँ सुनी थीं।

मैं फिर से उसकी तरफ देखने लगा. वह अपने ट्रक में अकेला था। मैं उसके बगल वाली सीट पर बैठ गया. ट्रक फिर चलने लगा.

हम दोनों ट्रक में आराम से बैठे हुए थे. कुछ दूर चलने के बाद उसने अचानक ट्रक रोक दिया। मुझे देखकर उसने अपनी छोटी उंगली उठाई, ट्रक से उतर गया और ट्रक के पास खड़ा हो गया। वो पेशाब करने लगा.. मैं उसकी तरफ देखने लगा।

फिर वो मुझे देखकर पेशाब करने लगा और हंसता हुआ और अपना लंड हिलाता हुआ ट्रक के पास वापस आ गया.

उसके मुस्कुराने के तरीके, मेरी तरफ अपना सिर घुमाने और अपना लंड हिलाने के अंदाज से मुझे उसके इरादे समझ में आ गये थे.

मैंने सोचा कि वह तो खुद ही मुझे चोदने की कोशिश कर रहा है तो मैं क्यों कोशिश करूँ? हम दोनों बातें करने लगे. मैं उसके साथ गुदा मैथुन करना चाहता था। इसलिए मैं उसके लंड को देख रही थी और उससे बातें कर रही थी.

बातचीत के दौरान पता चला कि उसका नाम नमन है।

अचानक उसने मुझसे पूछा- ऐसे क्यों देख रहे हो? क्या आप देखना जारी रखेंगे? चाहो तो आकर ले जाओ.

मैंने शर्म से मुँह फेर लिया.

उसने अपने फेफड़े खोले. इसके तहत उन्होंने अंडरवियर वगैरह नहीं पहना हुआ था. उसने मुझे आंख मारी और अपनी ओर खींच लिया. मैं भी उसकी ओर खिंचता चला गया.

नमन ने मेरा सिर पकड़ कर अपने लंड के करीब लाया और बोला- इसे मुँह में ले लो.

मैंने बिना किसी हिचकिचाहट के उसका लिंग अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।

Driver se Gand Marwai

अब वह मजे से ट्रक चला रहा था और मैं उसकी गोद में मुँह रख कर उसका लिंग चूस रही थी। मुझे लंड चूसने में मजा आने लगा और उसके मुँह से ‘आहाहा आहा उहाहा…’ की कामुक सिसकारियां निकलने लगीं.

करीब 5 मिनट बाद उसने एक हाथ से मेरा सिर दबाया और मेरे मुँह में डाल दिया. मैंने उसका लिंग अपने मुँह से निकाला और खांसने लगा. उसका वीर्य मेरे मुँह में आ गया था. मैंने लंड का रस थूक दिया.

अब नमन ने मुझसे कहा: अरे लंड तो चाट कर साफ़ कर लो.

मैं फिर से उसका लंड चाटने लगा.

फिर उसने ट्रक को सड़क के किनारे रोका और मेरे कपड़े उतारने लगा। कुछ ही पलों में उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और खुद भी नंगा हो गया. (-)

फिर उसने मुझे घोड़ी की पोजीशन में बिठाया और मेरी गांड चाटने लगा.

नमन- अरे तेरी गांड तो बहुत टाइट है.. ऐसा लग रहा है जैसे बहुत दिन हो गए कोई लंड अन्दर आए हुए।

में : हाँ मुझे आज तक कोई ऐसा लंड नहीं मिला जो मेरी गांड को मज़ा दे सके.

नमन- चल आज मेरा लंड ले ले. मैं तुम्हें खूब मजा दूँगा.

उसने उसे मेरी गुदा पर रखा और एक जोरदार झटका मारा। उसका 6 इंच लम्बा और 3.5 इंच मोटा लंड मेरी गांड में घुसता चला गया. एक ही झटके में इतना बड़ा लंड घुसाने के बाद मेरी जोर से चीख निकल गई.

मैं- उह… गांड… फटने वाली है… धीरे धीरे करो… दर्द होता है।

वो मेरी चीख सुने बिना और जोर से धक्के लगाने लगा. मुझे बहुत दर्द हुआ, मैं रोने लगा.

नमन- माँ के लौड़े, तुझे तो लौड़ा चाहिए था ना…क्यों रो रहा है भोसड़ी के?…ले ले लौड़ा, चिल्लाता रह…जितना चाहे चिल्ला ले…चीख…पर अब तो लौड़ा चाहिए अपना काम करके ही बाहर निकलें. आज तुम्हें कोई बचाने नहीं आएगा.

वो जोर जोर से मेरी गांड मार रहा था. मुझे भी कुछ राहत महसूस होने लगा. मैं भी मजे से उसका लंड अपनी गांड में डलवाने लगा.

करीब 15 मिनट बाद उसकी स्पीड एकदम बढ़ गई और उसने मेरी गांड चोद दी.

फिर उसने अपना लंड मेरी गांड से बाहर निकाला और मेरी गांड को देख कर हंसने लगा- अरे हरामजादी, तेरी तो टूट गई… पूरी तरह टूट गई.

मुझे अब बेहतर महसूस हो रहा था. मैं भी हंसने लगा.

मैं- अब और जोर से चोदो मुझे … बहुत दिनों के बाद इतना दमदार लंड मिला है.

नमन- ठीक है बेटी… रुको, मैं तुम्हें फिर चोदूंगा… रुको… मेरे पास पॉटी है… मैं करूंगा।

मैं- रुको.. मैं भी चलता हूँ.. मुझे अकेले डर लगता है।

नमन- चलो.

हम दोनों नंगे होकर ट्रक के नीचे आ गये और वह शौच के लिये सड़क के किनारे बैठ गया।

मैं वहीं रुका… उसने मुझे बुलाया। जैसे ही मैं उसके पास आया, उसने मेरा लिंग अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा। (-)

नमन- मजा आ रहा है?

मैं- मुझे चोदने में मजा आता है.

यह सुनकर वह हंसने लगा और बोला- तो फिर तू असली साली है.

इसके बाद उसने अपनी गांड धोई और खड़ा हो गया. एक मिनट बाद उसने मेरा सिर पकड़ा और अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया. मैंने भी उसका लंड अपने मुँह में डाल लिया.

मैं समझता हूँ। वो जोर जोर से मेरे मुँह को चोदने लगा.

फिर उसने मुझे ट्रक के टायर के पास खड़ा कर दिया और मेरे पीछे आकर मेरी गांड में अपना लंड डाल दिया और मुझे चोदने लगा.

उसने मुझे करीब 15 मिनट तक चोदा और फिर मेरी गांड में ही झड़ गया.

नमन- बहुत देर हो गई है.. चलो ट्रक में ही सो जाते हैं। मैं तुम्हें सुबह दिल्ली छोड़ दूंगा.

मैं- हां ठीक है.

हम दोनों सोने के लिए ट्रक की पिछली सीट पर लेट गये। वो तो सो गया, लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी. हम दोनों नंगे थे.

वो मेरे बदन को सहला रहा था. जैसे ही मेरा हाथ मेरी गांड पर गया तो मुझे लगा कि मेरी गांड का छेद खुला हुआ है और नमन का वीर्य मेरी गांड से बाहर आ रहा है।

मैंने उसका वीर्य अपनी उंगली से लिया और चाटने लगा.

इससे मुझे फिर से गांड चोदने की इच्छा होने लगा।

मैंने देखा कि नमन सो रहा था और उसका लंड सिकुड़ गया था. मैंने उसका लिंग अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा। करीब 5 मिनट तक चूसने के बाद नमन का लंड फिर से खड़ा हो गया.

वो लेटा हुआ था, मैं उसके लंड पर बैठ गयी और उसका पूरा लंड अपनी गांड में ले लिया. लंड लेने के बाद मैं अपनी गांड को ऊपर नीचे करके चोदने लगा.

मैं झुकने के साथ ही उसके होंठों को भी चूम रहा था। करीब पांच मिनट बाद नमन की आंख खुली. (-)

नमन- तेरी गांड की प्यास अभी भी नहीं बुझी… मैं तेरी गांड दो बार मार चुका हूं. तुम किसी भी अन्य महिला से अधिक वेश्या हो।

मुझे नहीं पता कि मुझे तुम्हारे जैसा लंड दोबारा कब मिलेगा.

ये सुनकर अंकल नीचे से धक्के लगाने लगे. दस मिनट की चुदाई के बाद मैं पीठ के बल लेट गई और उस लड़के ने मेरी टाँगें अपने कंधों पर रख लीं।

उसने अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया और मुझे चोदने लगा.

ट्रक के अंदर से हमारे सेक्स करने की आवाजें आ रही थीं. करीब 20 मिनट तक मेरी गांड चोदने के बाद वो मेरी गांड में ही झड़ गया. फिर हम दोनों सो गये.

सुबह उठते ही चाचा ने फिर से मेरी गांड चोदी. उसके बाद हम तैयार हुए और उसने कार स्टार्ट कर दी.

नमन- तुमने मुझे बहुत मजा दिया… तुम्हें चोदने में जो मजा आया, वो आज तक किसी औरत को चोदने में नहीं आया.

उसने मेरा नंबर ले लिया.

अब जब भी वह दिल्ली आता है.. तो मुझे बुलाता है और हम दोनों पूरी रात मस्ती करते हैं।

ये Hindi Gay Sex Story कहानी आप Hindi X Story पे पढ़ रहे थे और भी ऐसी दिलचस्प कहानियो के लिए पढ़ते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *