मेरी एक गे सेक्स फैंटेसी थी – Gay Sex Fantasy

मेरी एक गे सेक्स फैंटेसी थी – Gay Sex Fantasy

जब से मुझ लड़कों में इंटरेस्ट आया, तभी से एक Gay Sex Fantasy मेरे दिमाग में चल रही थी। 

चलिए जल्दी जल्दी शुरू करते है ये Hindi Gay Sex Stories

मुझे नहीं पता कितने लोग इसे रिलेट कर पायेंगे। पर आज मैं वो बात आपसे शेयर करना चाहूंगा। मैं अपनी जिंदगी में किसी ऐसे इंसान की तलाश में था, 

जिसे मैंने अपना सब कुछ दे दिया, और उस पर आंख बंद करके भरोसा कर सका। साथ ही मैं चाहता था कि कोई हो जो मुझे परेशान करे।

 मेरे साथ रफ डील करें. मुझे पता है कि ये सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा, लेकिन मैं ये चाहता था। मुझे लंड चूसना बहुत पसंद है. 

मुझे स्पैंक करवाना बहुत पसंद है। मैं हमेशा से यही चाहता था कि कोई हो, जो मेरी चड्डी उतार कर मेरी गांड पर तमाचे मारे, स्केल, बेल्ट या केन से मारे। 

साथ ही मुझे नंगे रहना पसंद है। तो मैं चाहता था कि मेरा पार्टनर मेरे सामने नंगा ही रखे। भले वो खुद कपड़े पहन कर क्यों ना हो। 

एक तरह से ये कहना गलत नहीं होगा कि मुझे गुलाम बनना पसंद है। मेरा पार्टनर मास्टर बन के मेरा फैदा उठाये। फिर एक पब में मैं मोहित से मिला जो मुझसे सिर्फ दो महीने बड़ा था। 

पर पहली मुलाकात कुछ खास नहीं थी। फिर एक दिन मैं रूम शेयरिंग के लिए पार्टनर ढूंढ रहा था, तो मैंने ऑनलाइन पोस्ट डाली थी। 

मोहित ने उस पोस्ट पर रिप्लाई दिया और हमने साथ में एक फ्लैट कर लिया। पहला एक महीना तो बड़ा ही नॉर्मल रहा। साथ में अच्छा वक्त बीता हमारा. 

हम साथ-साथ अलग-अलग जगह घूमने चले गए, रेस्तरां, फिल्में आदि। हम दोनो बिना कुछ कहे एक-दूसरे के थोड़े करीब आ गये थे। 

एक रात हम एक पब में गए जहाँ मोहित ने बहुत पी ली। अब उसे संभालना मुश्किल हो गया। मैं किसी तरह फ्लैट पर वापस लाया। 

उस रात मोहित ने जाने-अनजाने में मेरी वो फैंटेसी पूरी कर दी, जो मैंने कई बार सोच कर अपना लंड हिला देता था। 

मैंने उसे कमरे में ले जाकर बिस्तर पर पटका। पर वो थोड़ा ज़ोर से गिर गया. मैं दरवाजा बंद करके पलटा तो उसने मेरे पीछे से दोनों हाथ पकड़े, और अपनी और खींची। 

वो मुझपे ​​घुसा हुआ और चीखी देने लगा। वैसे तो मैं चीखी नहीं देता, और जो देते है वो मुझे कुछ खास पसंद नहीं आते। पर उसके मुँह से मेरे लिए चीखी सुन कर मुझे कुछ वक़्त के लिए अच्छा लगा। 

फिर उसने मुझे बिस्तर पर पटका. मैं पेट के बाल उल्टा ले गया। उसने मेरी जैकेट पकड़ी और ज़ोर से खींचा। उसने इतना ज़ोर लगाया कि जैकेट आधा उतर चुका था। 

मुझे लगा कहीं फट ना जाए, इसलिए मैंने अपने हाथों से भी उसे उतार दिया। उसने जैकेट उठा कर फेंक दी। 

फिर उसने अपना एक जोड़ा मेरी गांड पर रखा और दबाया। वो मेरे करीब आया और उसने कहा-

मोहित: आज तेरी गांड लेने का मन कर रहा है।

उसके मुँह से ऐसी बातें सुन कर मुझे शॉक लगा। पर कहीं अंदर डर भी लगा. साथ ही एक प्यारा सा मन में लड्डू भी फूटा। 

उसने झटके से मेरी जींस की बटन खोल दी, और मेरी जींस नीचे सरक गई। मैं उल्टा उसे ये सब करने दे रहा था। 

उसने मेरी सफेद चड्डी को हल्का नीचे खींचा, और मेरी गांड के क्रैक को देखा और कहने लगा, “चल ना कुत्ते, आज दिखा दे अपनी गांड मुझे। 

मस्त चिकनी लग रही है”। फिर इतना कहके उसने मेरी चड्डी मेरी गांड से नीचे खींची। मेरी गोरी गांड उसके सामने नंगी खुली पड़ी थी। 

वो अपने हाथ को रोक नहीं पाया, और कस कर दोनो हाथो से दोनो गधे को दबाने लगा। कुछ देर दबाते ही उसने मुझे बट पर काटा, और मेरे मुँह से चीख निकल गई। 

उसके दांत के निशान मेरी गांड पर छप गए। उसने फिर थप्पड़ पर थप्पड़ जड़ने शुरू किये, और मेरी गांड को तबला मान कर बजाने लगा। 

कुछ 10-12 टप्पड़ो के बाद वो खड़ा हुआ, और मुझे सीधा किया। उसने मेरी जींस और चड्ढी को मेरे पैरों से उतार कर साइड में फेंक दिया। 

और अब मैं उसके सामने सिर्फ टी-शर्ट में था, और नीचे से पूरा नंगा हो चुका था। मैं उसे देखने लगा, और वो मेरे पूरे नंगे बदन को ताड़ने लगा। 

उसकी आँखों में हवास नज़र आ रही थी। उसने भी अपनी जैकेट उतारी और अपनी पैंट की बेल्ट को ढीला किया। फिर झट से पैंट के बटन खोले, और ज़िप को नीचे खींचे। 

मैं ये सब देख रहा था. उसने अपना लंड चड्डी से बाहर निकाला और हिलाने लगा। मैं देख कर शॉक हो गया. उसका लंड 8″ लम्बा और 3″ मोटा था। उसने मेरे हाथ को पकड़ा और मुझे बिस्तर पर बिठा दिया। 

उसने मुँह में लेने का इशारा किया। उस वक्त मैं बहुत थक गया था, और मुँह में लेने का मन भी नहीं था। तो मैंने मना कर दिया. पर उसने मेरे सिर को पकड़ा, और अपना लंड मेरे मुँह, नाक और होंठों पर रगड़ने लगा। 

उसके लंड की खुशबू मुझे अच्छी लगी, और उसके लंड से निकला हल्का गीला पानी मेरे चेहरे पर आ गया था। कई बार कहने के बाद मैं लंड मुँह में लेने को राजी हुआ। 

मैंने पहले लंड को बाहर से छुआ, और पहले लंड के टोपे को चूमते हुए अपनी जीभ से चाटने लगा। फिर मैंने थोड़ा मुँह में ले लिया। 

साथ में आधा लंड चूसने लगा। पर उसका लंड बहुत बड़ा था, तो मैं पूरा लंड नहीं ले रहा था। कुछ देर बाद उसने मेरे सिर को पकड़ा, और खुद अंदर बाहर करने लगा। 

वो ज़ोर लगा कर पूरा लंड मेरे गले तक अंदर थुस्ने लगा। मेरे गले में लंड के शॉट लगाने लगा। कुछ देर ऐसे मेरे मुँह की चुदाई हुई। फिर उसने मुझे लिटाया, और अपनी जींस और चड्डी उतार दी।

उसके बाद वो मेरी छत्ती पर आके बैठ गया। मैं उसके नीचे दब गया. फिर उसने मेरे मुँह में एक और बार लंड डाला, और मैं रो पड़ा। 

उसने फिर मेरे मुँह की चुदाई करनी शुरू की। मेरी आँखों से आँसू निकलने लगे और मुँह से भी थके आजू-बाजू से बाहर निकलने लगी। 

उसने पहली बार जाम के मेरा मुँह छोड़ा, और मेरे मुँह में ही झड़ गया। उसका आधा कम मैं पी गया, और आधा उसने मेरे पूरे चेहरे पर डाल दिया। 

गर्मी के कारण उसने अपनी टी-शर्ट उतारी, और अब वो मेरे सामने नंगा हो गया था। उसे नंगा देख कर उसके दिए सारे दर्द को भूल गया। मैंने उसके नंगे बदन को ताड़ने लगा। 

वो मेरे बाजू में आया, और मुझे एक तरफ दूसरी तरफ मुंह करके लिटा दिया। अभी मेरा मुँह उसकी तरफ़ नहीं था। वो नंगा होकर मुझे लिपट कर आराम करने लगा। 

अभी भी मैं टी-शर्ट में था, और अपने चेहरे पर उसका माल चिपकाये लेता था। फिर मैंने भी अपनी टी-शर्ट उतारी, पर ये ध्यान रखा उसका और मेरे मुँह से पोंच ना जाए। 

मैं भी उसे कडल करके सो गया। अभी नींद लगी ही थी, कि मैंने जाना कि वो मेरा लंड हिला रहा था। मेरी नींद लगते-लगते टूट गई, और हस्तमैथुन के कारण मेरा लंड खड़ा हो गया। 

उसे लगतार हिलाना जारी रखा। मैं तड़प उठा, और अपने ही पेट पर मैंने अपना सारा वीर्य निकाल दिया। फिर उसी पोजीशन में मोहित ने मेरा एक पैर उठाया और अपना लंड मेरी गांड पर सेट किया। 

मेरा वीर्य निकल चुका था, इसलिए मेरी ऊर्जा कम हो गई थी। इसिलिए चुदाई के लिए मैं तैयार नहीं था। मोहित ने फिर ज़ोर लगाया और मेरे अंदर लंड डालने की कोशिश की।

 मना करने पर भी मैं उसको रोक न सका। कुछ प्रयासों के बाद उसका टोपा मेरी गांड में घुस गया था। मैं ज़ोर से चिल्लाया, तो मोहित ने बाजू में पड़ी उसकी चड्डी उठाई, और मेरे मुँह में डाल दी। 

मेरे हाथ पकड़ कर और मेरी एक टांग उठा कर उसने मेरी गांड मारना शुरू की। फिर धीरे-धीरे पहले आधा, और फिर पूरा लंड मेरी गांड को चीरता हुआ अंदर आया। मानो जैसे कोई लोहे का रॉड घुस दिया हो। 

कुछ देर बाद धीरे-धीरे और फिर तेज़ चुदाई शुरू हुई। उसके लंड ने मेरी गांड को ढीला कर दिया। और अब चुदाई से पूरे कमरे में चप-चप की आवाज़ गूंजने लगी। 

ऐसे ही 15-20 मिनट मेरी चुदाई चली। जब मोहित को लगा कि उसका निकलने वाला है, तब उसने लंड निकाल दिया और माल नहीं निकला। 

कुछ देर बाद उसने मुझे एक ऐसे पोजीशन में रखा जिसे मैंने सपनों में भी नहीं सोचा था। उसने मुझे उल्टा किया, और मेरे दोनो हाथों से बिस्तर से नीचे ज़मीन पर चिपकाया, 

और मेरी गांड और दोनो जोड़ी अभी भी आगे बिस्तर पर थे। मैं उल्टा नंगा अपनी गांड ऊपर उठाए, आधा बिस्तर पर और आधा नीचे सपोर्ट लेकर लेता था। 

तभी मोहित नीचे उतरा, और मेरी गांड के दोनों और एक-एक जोड़ी रख कर अपना लंड सेट किया। उसका मुँह मेरे पैरों की तरफ था, और वो घुटनों के बल बिस्तर पर चढ़ गई। 

उसने अपना लंड मेरी गांड में इस बार बड़ी आसानी से डाल दिया, और फिर चोदने लगा। उसे तो मजा आ गया, पर मुझे हाथो और सर में दर्द होने लगा, क्योंकि मैं उल्टा था। 

कुछ देर चुदाई चली, और फिर जैसे ही उसने लंड बाहर निकाला, वो तो बिस्तर पर उल्टा लेट कर आराम करने सो गया। पर मैं ज़मीन पर गिर गया. मैं उठ नहीं पा रहा था। 

कुछ देर मैं वैसे ही उल्टा ज़मीन पर पड़ा रहा। फिर मोहित एक और बार मेरे ऊपर आया, और अपने लंड को मेरी गांड पर रखने लगा। मैंने रटते हुए कहा, “कृपया ना मोहित। 

प्लीज यार. बहुत दर्द कर रही है गांड. और मत मारना. प्लीज, कल कर लेना यार, और मत छोड़ो”. तो उसने कहा, “चुप रह रंडी।” तू मेरा है समझा ना. मैं जब चाहे तुझे चोदूंगा। 

चल अब और नखरे मत कर। ठीक है आखिरी बार चोदूंगा अभी। फिर तो जाना. चल खोल अपनी गांड गांडू”

उसने मेरी बात नहीं मानी और मैंने भी अपनी जोड़ी फेलाई, और उसके लंड को अपनी गांड पर सेट करने में मदद की। फिर उसने उल्टा करके मेरी गांड मारी। 

15-20 मिनट तक एक बार चुदाई चली। मेरी गांड चुदाई और रोने और चीखों की आवाज़ से कमरा भर गया। और मेरी गांड पर भी मोहित ने सारा का सारा माल निकाल दिया। 

सुबह के साढ़े चार बज चुके थे। हम दोनो ने बाथरूम में जाकर एक दूसरे को साफ किया। आँखों में नींद थी, तो बिस्तर पर आके नंगे ही सो गए। 

सुबह जब आंख खुली तो पाया की गांड बहुत दर्द कर रही थी, और मोहित और मैं दोनो नंगे चिपक कर सोये थे। उसके बाद वो पूरे दिन में चल नहीं पा रहा था। 

फिर भी मोहित के साथ दूसरी रात में २-३ बार चुदाई की। ये कहानी अच्छी लगी तो जरूर बताएं। हमारी Website – Karol Bagh Escorts