Land Ki GhudSawari 2 – अंकल के लंड की घुड़सवारी के मजे

Land Ki GhudSawari 2 – अंकल के लंड की घुड़सवारी के मजे

पिछला भाग पढ़े:- Land Ki GhudSawari

मेरा नाम रोहित है. मैं दिल्ली से हूं. ये Hindi Gay Sex Story मेरी है।

इस कहानी में अंकल के Land Ki GhudSawari 2 के मजे लिए है मैंने और ये सच्ची कहानी है।

चलिए Gay Hindi Sex Stories शुरू करते है,

अमित अंकल के साथ जोरदार चुदाई से मेरी गांड का उद्घटन हो गया था। ऐसे ही हमने अगले दिन भी 3 बार चुदाई की। 

अगली सुबह अमित अंकल अभी भी नंगे ही सो रहे थे। मैं जल्दी से घर की सफाई करके घर के आँगन में पायजामा और बनियान में योगा करने लगा।

तभी पीछे से अमित अंकल बिस्तर पर अपना लौड़ा पकड़ कर बोले-

अमित: इसकी एक्सरसाइज कब करेगा मेरी जान?

मैं: बस आपकी ही प्रतीक्षा कर रही थी मेरी गांड मेरी जान। बिस्तर में जाते ही हमने एक-दूसरे को कस के पकड़ लिया, और किस करने लगे। 

मैंने अंकल का लोड़ा चूँ-चूँ करके पूरा लोड़ा गीला कर दिया। 

फिर अंकल की दोनो बॉल्स अपने मुँह में लेकर लोडा हिलाने लगा। कुछ देर ऐसे ही चूसने के बाद-

मैं: अब छोटे अमित को गुफा में ले चलते हैं।

ये बोलते ही मैंने अपनी गांड और अंकल के लोडे पर तेल लगाकर धीरे-धीरे अपनी गांड में ले लिया। अब लौड़ा आराम से जा रहा था। 

लेकिन दर्द तो अभी भी हो रहा था। अंकल ने तभी मुझे पकड़ कर एक साथ पूरा लोडा अंदर कर दिया। मुख्य: आआआआह, ओह्ह्ह मुझे चोदो डैडी।

अंकल ने झटके तेज़ कर दिए, और 20 मिनट तक मेरी गांड चोद-चोद कर पूरा माल मेरी गांड में ही निकाल दिया। अमित: बेटा, मैं तुमसे प्यार करता हूँ।

हम दोनो एक दूसरे को किस करने लगे। थोड़ी देर बाद अंकल थोड़ा-थोड़ा चल कर वॉशरूम चले गए। और मैं पहले आँगन में योग करने लगा। 

5 मिनट बाद घर का मुख्य गेट खुला और एक 6 फीट लंबा 38 साल का पहलवान जैसे बदन का आदमी घर के अंदर बैग लेकर आया। 

सुबह सफाई के बाद मुख्य गेट बंद करना ही भूल गया था। 

मैं: आप कौन हो? किसे मिलना है? 

वो आदमी: मैं सूरज हूं, अमित का दोस्त, और तुम रोहित हो ना? (ये मेरे पापा और अंकल के दोस्त सूरज हैं)

मुझे अचानक से याद आया अंकल वॉशरूम में नंगे ही गए थे, और कहीं बाहर ऐसे ही ना आ जाए। 

तभी मैंने बहुत ज़ोर-ज़ोर से बोला। 

मैं: अमित अंकल आपके दोस्त आये हैं सूरज अंकल। 

सूरज: इतना चिल्ला क्यों रहे हो? मैं कुछ बोलता उससे पहले ही अमित अंकल बाहर आ गए लुंगी लपेट कर। 

आते ही वो झगड़े वाले थे। तभी हम दोनो ने अमित अंकल को पकड़ लिया। फिर उनको कमरा तक ले गए।

 सूरज: बॉडी बढ़िया बना रखी है तुमने। मैने तब ध्यान दिया गांड चुदाई के बाद मैं केवल अंडरवियर में था। पजामा अंकल के कमरे में ही रह गया था। 

मैं: नहीं-नहीं, वो मैं योग कर रहा था, और गर्मी कितनी हो रही है, इसीलिए। ये बोल कर मैं नहाने चला गया। 

जब तक आया, सूरज और अमित कमरे में बातें कर रहे थे। 

अमित: रोहित तुम नाश्ता बना लो, तब तक मैं नहा लेता हूँ। मैं रसोई में नाश्ता बनाने लग गया। सूरज रसोई में आया. 

मैं: आप यहाँ, कुछ चाहिए क्या? 

सूरज: नहीं बेटा बस तुम्हारी मदद करने आया हूँ। 

मैं: कोई नहीं, मैं कर लूंगा। आप मुझे बेटा मत बोलो, आप इतने बूढ़े थोड़े हो। इस बात पर हम दोनो हँसने लगे। 

सूरज अंकल ने पूरे दिन मेरी बहुत मदद की, और रात तक हम एक-दूसरे को अच्छे से जान चुके थे। 

रात में सूरज अंकल रसोई में खाना बना रहे थे, और मैं अमित के पास जाकर उनका लोडा चूसने लगा। अमित: तेज़-तेज़ कर, सूरज आ जाएगा। 

Land Ki GhudSawari 2 –

मैंने जल्दी-जल्दी सारा माल पी लिया, और फिर रसोई में चला गया। डिनर टाइम पर-

अमित: रोहित तुम सूरज का बैग मेरे कमरे में रख दो, और तुम ऊपर वाले कमरे में रह लेना। वहा तुम पढाई भी कर लेना, कोई डिस्टर्ब नहीं करेगा।

मैं: सूरज अंकल आपकी बॉडी तो बहुत बढ़िया है। क्या कुश्ती करते हो क्या? 

अमित: रोहित इनके घर पर तो सब पहलवानी ही करते हैं। 

सूरज: तुझे भी करनी है क्या रोहित? कल सुबह में करवा दूंगा। आज वैसे भी मेरी वजह से तेरा योग पूरा नहीं हुआ। 

बस ऐसे ही हम बहुत देर तक बात करते-करते अमित अंकल के कमरे में ही सो गए। अगली सुबह मैं 5 बजे उठ गया था, और घर का सारा काम करके ऊपर छत पर योग करने लगा। 

थोड़ी देर बाद सूरज अंकल ऊपर आ गए। 

सूरज: कब उठा तू? मुझे भी जगा देता. मैं खड़ा होकर अपने हाथों से अपने दोनों जोड़ों को छू रहा था। थोड़ी देर बाद अंकल मुझे पीछे कमर से पकड़ कर बोले-

सूरज: ऐसे करो, कमर सीधी रखो।

ये करते-करते वो मुझसे बार-बार चिपके जा रहे थे। मैंने सफेद पायजामा और बनियान पहना हुआ था, जिसमें से मेरा बदन साफ ​​नजर आ रहा था। 

अब सूरज अंकल चाट पर रखे टेबल पर मेरी एक टांग रख कर मुझे हाथ से पैर चूसने के लिए बोलना लगे। सूरज: आराम से करो। 

ये बोलते-बोलते वो बार-बार मेरी गांड को छूने लग रहे थे। 

रोहित: आप करके बताओ मुझे समझ नहीं आ रहा। वो तभी अपना पायजामा उतारने लगे। 

सूरज: बिना पजामे के सही से नहीं होगा। सूरज ने संक्षिप्त पेहनी हुई थी। क्या मस्त जाँघ थी उनकी, एक-दम मोटी-मोटी। 

लौड़ा तो अंडरवियर में नीचे ही लटक रहा था। वो योग करके मुझे बता रहे थे. मेरा ध्यान तो बस उनके लोडे पर ही था। मेरा भी अब मूड बन रहा था। 

मैं: मैं भी पायजामा उतार कर करता हूँ। लेकिन यहाँ नहीं अंदर कमरे पर (छत पर मेरा कमरा था)। यहाँ सब देखते हैं। 

सूरज: कोई नहीं, अंदर चल ले। वैसे भी सब खुले में होगा भी नहीं। अंदर मैंने जैसे अंडरवियर उतारी, सूरज मेरे पीछे आ कर मेरी कमर को पकड़ कर अपने लोडे से चूसने लगे। 

सूरज: गर्मी बहुत है. जैसे कल योगा कर रहा था सिर्फ अंडरवियर में, वैसे ही करते है। सूरज ने मेरी बनियान निकाल कर अपनी भी निकाल दी। उनकी छत्त एक-दम मांसल थी। 

बहुत मूर्ख हुई थी। फिर हम वो ही पोजीशन में योग करने लगे। अब वो मेरी कमर को हाथ लगाते-लगाते कभी मेरे चुचो को दबा रहे थे। 

कभी मेरी गांड को मसल रहे थे. मेरा कोई विरोध ना करने पर वो और ज्यादा करने लगे। अब वो मेरी जांघों से लेकर मेरे अंडरवियर को मेरी गांड की दरार तक ले गयी। 

अब मेरी गांड साफ नजर आ रही थी। सूरज: ऐसा कर नीचे ले जा. मुझे लिटा कर वो मेरे पैरों को ऊपर करके अपना लौड़ा मेरे छेद के पास लाकर मुझे दबाने लगे। 

मेरी गांड को दबाते-दबाते वो मेरे छेद को अपनी उंगलियों से मज़े दे रहे थे। धीरे-धीरे मेरी अंडरवियर को साइड करके मेरे छेद पर अपनी उंगलियां लगाने लगे। 

मैंने मज़े में अपनी आंखों को बंद कर लिया था। तभी सूरज ने मेरी अंडरवियर को निकाल दिया। मैंने जैसी ही आंखें खोली, सूरज ने मुझे एक लंबा सा किस कर दिया। बहुत देर तक किस करने के बाद। 

सूरज: कल सुबह से तेरे बदन ने पागल सा कर दिया था यार। फिर सूरज मुझे पहली बार किस करके मेरी गांड को फेल कर, उसको थूक लगाने लगा। 

सूरज अंकल की ये हरकत मुझे और ज्यादा पागल कर रही थी। 3 मिनट तक गांड चाटने के बाद वो अब मेरे निप्पल चूसने लगे। अमित अंकल भी ऐसे सेक्स नहीं करते, जितना मजा आज सूरज दे रहे थे। 

सूरज: मेरा लोडा चूसेगा? मैंने खुद अपने हाथ से उनके लोडे को आज़ाद कर दिया। 6 इंच लम्बा और बहुत मोटा था उनका लौड़ा। 

मैं पूरे मज़े में चूसने लगा। थोड़ी देर में ही मेरा मुँह दर्द करने लगा। मोटा ही बहुत था. अब अंकल मेरे सर को पकड़ कर बहुत तेज़ झटके देने लगे। 

बहुत देर तक मेरी मुँह की चुदाई ऐसे ही चलती रही। 

अंकल का पूरा लोडा मेरी थूक से गीला हो गया था। फिर चाचा ने मेरी गांड को अपनी थूक से गीला किया, और थोड़ा थूक अपने लोडे पर लगा कर मेरी गांड में अपना मोटा लोडा घुसाने लगे। 

टोपा आराम से अन्दर चला गया। लेकिन जैसे ही दूसरा झटका मारा मेरी गाल निकल गयी।

अमित अंकल ने मेरी गांड खोल दी थी। लेकिन उनका इतना मोटा नहीं था. सूरज ने तो मेरी गांड ही फाड़ दी। मैं: आआआह बाहर करो इसे, बहुत मोटा है।

सूरज मेरे मुँह पर हाथ लगाकर धीरे-धीरे झटके देने लगे। 

फिर अचानक ही पूरा लोडा मेरे अंदर कर दिया, और तेज़-तेज़ झटके देने लगे। तेज़-तेज़ झटके के साथ मेरी गांड चुद रही थी। 

थोड़ी देर बाद वो मुझे डॉगी पोजीशन में चोदने लगे। अब तो अंकल ने अपनी स्पीड और भी तेज़ कर दी थी। 

मेरी गांड का दर्द जैसा-जैसा नॉर्मल हो रहा था, मैं भी पूरा जोश में आने लगा। 

10 मिनट बाद अंकल मुझे बिस्तर पर मेरी तांगे फैलाने कर गांड को चोदने लगे। 

सूरज पूरा पसीने-पसीने होने लगा। फिर मैंने उनको लिटाकर उनके लोडे की सवारी शुरू कर दी। 

३० मिनट की जबरदस्त गांड फाड़ चुदाई के बाद वो मेरी गांड में ही झड़ गए। हम दोनो ने एक दूसरे को किस किया और फिर नीचे चले गए। 

अमित अभी भी सोया हुआ था। आगे की कहानी में देखना कैसे दोनो ने मेरी गांड के पूरे मज़े के लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *