Land Ki GhudSawari – अंकल के लंड की घुड़सवारी के मजे

Land Ki GhudSawari – अंकल के लंड की घुड़सवारी के मजे

मेरा नाम रोहित है. मैं दिल्ली से हूं. ये Hindi Gay Sex Story मेरी है।

इस कहानी में अंकल के Land Ki GhudSawari के मजे लिए है मैंने और ये सच्ची कहानी है।

चलिए Gay Hindi Sex Stories शुरू करते है

मैं 19 साल का एक-दम गोरा, 5.7 फीट की ऊंचाई, थोड़ा बहुत मोटा हूं, इसलिए रोजाना घर पर ही योगा और एक्सरसाइज करता हूं, 

जिससे मेरी जांघें, छाती और गांड अब उभर कर आने लगी है। बिल्कुल चिकनी बॉडी है मेरी, पूरी बॉडी पर एक भी बाल नहीं है।

बचपन से ही मुझे लड़के बहुत अच्छे लगते हैं। मेरे पापा फाइनेंस डिपार्टमेंट में हैं। मम्मी हाउसवाइफ हैं, एक बहन है जो अभी स्कूल में है और एक बड़ा भाई है जो प्राइवेट जॉब करता है।

एक दिन पापा के फ़ोन पर कॉल आया। उनके दोस्त के जोड़े में चोट लग गई थी। तब मैं पापा को बाइक पर उनके दोस्त के घर लेकर गया। 

वहा पापा के 2 दोस्त और भी आये हुए थे। पापा के दोस्त (अमित), 45 साल, 6 फीट हाइट, बालों वाला जिम टाइप मस्कुलर बॉडी बहुत स्मार्ट। 

एयरफोर्स से रिटायरमेंट ले ली थी। अब किसी स्कूल में काम करते थे. उनकी पत्नी से तलाक के बाद उनके बच्चे भी पत्नी के साथ ही रहते थे। 

दिल्ली में अमित अंकल का कोई नहीं था उनके दोस्तों के अलावा। पापा: यार मेरे घर चल, वहीं तेरा ध्यान हम रख लेंगे। 

सभी अंकल को साथ ले जाने के लिए ज़िद कर रहे थे। लेकिन अंकल बार-बार मना ही कर रहे थे। 

पापा: यार मैं रुक जाता हूँ यहीं। 

अमित: यार टेंशन क्यों ले रहा है? तुझे दिल्ली भी तो जाना है मीटिंग के लिए। मेरे लिए क्यों परेशान हो रहे हो? 

पापा को दिल्ली किसी काम से जाना था। इसलिए उन्होंने थोड़ी देर सोचा और फिर बोले। 

पापा: हाँ यार जाना तो है। रोहित रुक जाएगा तेरे पास तेरा ध्यान रख लेगा। सभी दोस्त इस बात पर “हां ठीक है ठीक है बोलने लगे”। 

अंकल पहले तो मना ही कर रहे थे। लेकिन सब ज़िद कर रहे थे, इसलिए वो मान गए। 

अमित: यार बच्चा है, परेशान हो जाएगा। 

पापा: तू कुछ मत सोच। मैंने सूरज (पापा के एक दोस्त) को कॉल कर दिया है, वो भी 2-3 दिन में आ जाएगा। 

तब तक रोहित है तेरे साथ। ये बोल कर पापा चले गए, और पापा कुछ देर बाद हमारा खाना और मेरा बैग लेकर आ गए। 

हम सब ने खाना खाया और सब अपने-अपने घर चले गए। अमित अंकल और मैं रात में जल्दी सो गए। 

अगली सुबह मेरी आंख नहीं खुली। तभी अचानक बोतल गिरने की आवाज़ आई। 

मैं: अंकल मुझे बोल देते क्या लेना है। आप परेशान क्यों हो रहे हो? 

अमित: मुझे वॉशरूम जाना है। मैं अंकल को वॉशरूम तक ले गया। उसके बाद मैंने घर का सारा काम करके नाश्ता तैयार किया। 

मैं: आप खा लो, तब तक मैं नहा कर आता हूँ। 

अमित: मेरी वजह से तुम कितना परेशान हो रहे हो। 

मैं: नहीं अंकल, आप मेरे पापा के जैसे ही तो हो, ऐसे मत सोचो आप। नहा कर टोलिये में ही मुख्य कमरे में आ गया। 

अमित अंकल मुझे देख कर बोले: वाह बेटा, क्या बदन है तुम्हारा। 

मैं: कहा अंकल, बॉडी पर तो काम करना है अभी। अमित अंकल बिस्टर पर लेते हुए थे। तभी वो बोले: लेकिन चड्डी बड़ी मस्त है तेरी।

 इस पर हम दोनो ही हँसने लगे। मैंने अंकल को दवा दी, उसके बाद अंकल सो गए। तब तक मैंने सारा काम ख़त्म कर दिया। 

बहुत बिखरा हुआ था बेचारा घर। 2 बजे मैंने अंकल को उठा लिया। अब हम दोनो खाना खाकर बिलकुल फ्री होकर बात करने लगे। 

तभी अंकल अपने कमर और छाती पर खुजली करने लगे।

मैं: क्या हुआ अंकल? सब ठीक है ना? 

अंकल: रोहित बेटा, वो जब से पेअर में लगी है, मैं नहीं पा रहा इसलिए। 

मैं: कोई नहीं मैं हूं ना, आप रुको तोड़ी देर। मैं बेडरूम में ही पानी की बाल्टी ले आया। अमित 

अंकल: यहां कैसे, और मेरे पैर में पट्टी भी लगी हुई है, वो गीली हो जाएगी। 

मैं: अंकल आप कुर्सी पर बैठ जाओ, और अपने जोड़े के सामने वाली कुर्सी पर रख लो। फिर कपड़े निकालकर यहां बिस्तर पर रख दो। 

अंकल ने शर्ट और बनियान निकाल दी। उनकी छाती के बालों से भरी हुई थी। लेकिन उनका पायजामा नहीं निकल रहा था।

मैं: रुको मैं खोल देता हूं पायजामा। मैंने बिस्तर पर बहुत प्यार से अंकल का पायजामा खोल दिया। 

अब वो काले अंडरवियर में है. मैंने उनको कुर्सी पर बैठाकर बहुत प्यार से धीरे-धीरे उनके बदन को साफ करने लगा। 

अंकल के इतने करीब आ कर मेरे अंदर हवास जाग रही थी। मैं बहुत प्यार-प्यार से उनकी जांघों को साफ करने लगा। 

धीरे-धीरे अंडरवियर के पास साफ करते-करते वह थोड़ा घबराने लगे। मैं बहुत प्यार से उनके अंडरवियर के पास ही करता रहा। 

अब उनके लोडे ने थोड़ी हरकत करनी शुरू कर दी थी, लेकिन उनको यह सामान्य नहीं लग रहा था। अमित: बेटा बस हो गया। 

बाकी जब पट्टी उतर जाएगी, तब नहा लूंगा। शायद वो अपना खड़ा लोड़ा मुझसे छिपाना चाहते थे। अंकल को ऐसे देख कर मेरा मूड भी बनने लगा था। 

ऐसे ही 2 दिन तक मैं अब जान-बूझकर अंकल के सामने शॉर्ट्स में ही रहने लगा। अंकल के कमरे का गेट खोलकर ही घर के मुख्य हॉल में व्यायाम करता है। 

वो हर बार मुझे देखते ही रहते थे। 2 दिन बाद अंकल को डॉक्टर के पास लेकर गए। वहा उनकी पट्टी अब हटा दी गई थी। 

घर आते-आते हमें 2 बज गए। 

मैं: आप आराम कर लो, मैं खाना बना देता हूँ। मैं खाना बना कर आया. तभी अंकल बहुत प्यार से बोले-

अमित: आज नहाने का मूड हो रहा है। लेकिन वॉशरूम में अगर मैं फिसल गया तो? 

मैं समझ गया था वो क्या बोलना चाहते थे। 

मैं: कोई नहीं अंकल, मैं हूं ना। घर के आँगन में ही नहा लो। मैं कुर्सी लगा देता हूँ. घर का गेट हमेशा ही लॉक होता है। 

अमित: रोहित मेरे कपड़े तो उतार दे। आज सब मेरे हिसाब से ही हो रहा था। मैंने भी पूरे जोश से उनको अंडरवियर में कर दिया। फिर कुर्सी पर बैठा कर मैं बहुत प्यार से उन पर पानी डाल रहा था। 

अमित: तू गीला हो जाएगा, तू भी उतार ले अपने कपड़े। बस फिर क्या था. मैं भी सब उतार कर अंकल के सामने अंडरवियर में ही आ गया। अमित अंकल मेरी चूचियों को पकड़ कर बोले-

अमित: रोहित तेरा बदन कितना चिकना है।

Land Ki GhudSawari -

मैं: आप भी बाल काम रखो। आपका भी स्मूथ हो जाएगा। 

अमित: तू हटा दे फिर, तुझे किसने रोका है? मैंने मेरे बैग से हेयर रिमूवल क्रीम अंकल की छाती और अंडरआर्म पर लगा कर उनके सारे बाल हटा दिए। 

क्रीम लगाते हुए वो बार-बार मेरी कमर को पकड़ लेते। ये सब करते-करते अंकल का लोडा हरकत करने लगा। अंडरवियर में भी अंकल का लोडा बहुत फूला हुआ लग रहा था। 

मैं मज़े लेटे हुए. मैं: बस हो गए या अभी और है? 

अमित: अंडरवियर के साथ ही नहीं पहनेगा क्या? तो फिर नीचे के भी कर दे. ये बोलते-बोलते अंकल ने अंडरवियर निकाल दिया। 

उनका लोड़ा अभी पूरा खड़ा भी नहीं था, फिर भी 4.5 इंच लम्बा और मोटा था। मेरा तो लोडे पर से ध्यान भी नहीं हट रहा था। अमित अंकल ने मेरे हाथ पकड़ कर कहा-

अमित: हटा बाल, अब क्या देख रहा है? तेरे पास नहीं है क्या? मैं तो बिलकुल चुप हो गया था इतना मोटा लौड़ा देख कर। 

मैंने जैसे ही क्रीम लगाई, उनका लोडा हरकत करने लगा। थोड़ी देर में सारे बाल हटा दिए गए। मेरा ध्यान अभी भी लोडा पर था। 

मैंने अंकल पर पानी डाल कर जैसे ही साबुन लगाया, मेरा ध्यान अभी भी लोडा पर ही था। फिर लोडे के पास बैठ कर मैंने बड़े प्यार से साबुन लगा कर उसे साफ करने लगा। 

तभी अंकल मेरे हाथ से अपने लोडे को हिलाने लगे और मेरे ऊपर पानी डालने लगे। मैं अभी भी लोडा हिला रहा था। अब लोडा पूरा कड़ा हो कर 8 इंच लंबा हो गया था। 

अमित: सिर्फ हाथ से ही हिलता रहेगा। अब मुँह में लेले मेरी जान। 

मैं: कितना मस्त लोडा है आपका अंकल। मैं पूरे जोश से एक साथ पूरा लोडा मुँह में लेकर चुनने लगा। 

पता नहीं मुझे क्या नशा हो गया था। ये पहली बार था, जब मैं किसी का लंड मुँह में लेकर चूस रहा था। अंकल भी मेरा सर पकड़ कर बहुत तेज़-तेज़ मेरा मुँह चोद रहे थे। 

अमित: रोहित क्या मस्त चुन रहा है। मूड ही बना दिया यार. अंकल मेरी अंडरवियर में हाथ डालकर मेरे छेद को दबाने लगे। फिर मुझे पूरा नंगा कर दिया। 

5 मिनट तक चुनने के बाद. अमित: रोहित कमरे में चल, आज पूरे मज़े करेंगे। बहुत दिन हो गए. 

मैं: जो हुकुम मेरे मालिक. हम दोनो ही हँसने लगे। अंकल फिर बिस्तर पर लेट गए, और फिर मैंने उनका लौड़ा चूँ-चूँ करके गीला कर दिया। 

अमित: तुम तेल लेकर आओ। मैं तेल लेकर आया. अंकल मेरी गांड में तेल लगाते लगाते मेरी गांड में उंगलियों को अंदर-बाहर करने लगे। 

अमित: बीसी क्या मस्त चिकनी गोल-गोल गांड फुला रखी है। पहले भी मरवाई है क्या? 

मैं: नहीं अंकल आपका लोडा पहला होगा जो इसे खोलेगा। 

अंकल ने मेरी गांड के अंदर तक बहुत सारा तेल लगा दिया और अपने लंड पर भी तेल लगा दिया। अब मैं अंकल के ऊपर धीरे-धीरे लोडे को अपने अंदर लेने लगा। 

बहुत दर्द हो रहा था. मैंने लोडा बाहर निकाल दिया। फिर अंकल मिशनरी पोजीशन में मेरी गांड में तेल लगाकर फिर से लौड़ा घुसाने लगे। 

एक ज़ोर का झटका मारा, और उनका टोपा मेरी गांड में घुस गया। मैं: बाहर निकालो, बहुत दर्द हो रहा है। आह्ह.

तभी उन्होंने एक और झटके के साथ आधा लौड़ा मेरे अंदर कर दिया। 

मैं बहुत तेज़ चीखने लगा. उन्होंने मेरे मुँह पर हाथ रख दिया और धीरे-धीरे आगे-पीछे करके मेरी गांड मारने लगे। 

5 मिनट वो ऐसे ही मुझे छोड़ रहे थे। अब मेरा रोना भी बंद हो गया था। उन्होंने तभी एक और झटके के साथ पूरा लोडा मेरे अंदर कर दिया। 

मैं अंकल को दूर करने की कोशिश करने लगा। लेकिन वो पूरे जोश में थे. धीरे-धीरे झटकों के साथ वो मेरी गांड मारने लगे। 

अब अंकल एक तरफ मुझे लिटा कर खुद मेरे पीछे लेट गए, और मेरी गांड में लौड़ा डाल कर मुझे चोदने लगे। 

फिर मेरे एक जोड़े को ऊपर करके अब ज़ोर-ज़ोर से झटके देने लगे। पूरा पलंग अंकल के झटकों से हिलने लगा। 

मेरी गांड में अभी भी दर्द हो रहा था। अंकल का 8 इंच लम्बा लौड़ा मुझे मेरे पेट तक फील हो रहा था। 

मैंने अपने हाथ की गांड के छेद पर लगा कर देखा, तो वहां से खून निकल रहा था। 

इसी पोजीशन में 20 मिनट चोदते-चोदते अंकल ने लौड़ा बाहर निकाल कर मेरी कमर पर सारा माल निकाल दिया। मुझे पीछे से पकड़ कर मेरी गांड दबाते हुए बोले-

अमित: क्या मस्त गांड है रोहित तेरी। आज तूने दिल खुश कर दिया। फिर अंकल मुझे किस करने लगे। 

मुझे दर्द हो रहा था, लेकिन आज मैं बहुत खुश था।

मैं: क्या हम रोज़ प्यार कर सकते हैं? 

अमित: ये भी कोई पूछने की बात है। मैं तुमसे प्यार करता हूँ बेटा. फिर हम दोनो सो गये। 

Sex Stories Hindi Gay का अगला भाग बहुत जल्दी आएगा। ईमेल: soni4u9@gmail.com

अगला भाग पढ़े:-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *