गैंगबैंग सेक्स का मिला चांस 1 » Pehli Gangbang Chudai

गैंगबैंग सेक्स का मिला चांस 1 » Pehli Gangbang Chudai

हेलो दोस्तों, मेरा नाम जानवी है। मैं दिल्ली से हूं, मेरी उम्र 30 है और मेरा फिगर 34-26-40 है। 

ये बात तब की है जब मैं 26 साल की थी, और उस समय भी मेरा आंकड़ा वही था। तो चलो मेरी Pehli Gangbang Chudai का मिला चांस की कहानी शुरू करते हैं।

ये Hindi Sex Story आपको पसंद आये तो जरूर से बताये।

मैं जब 24 की थी, तब मेरी नई शादी हुई थी, और मैं अपने पति से पूरी तरह संतुष्ट थी। 

लेकिन जैसे-जैसे हम सेक्स करते गए, मेरी यौन इच्छाएं बढ़ने लगीं। 

मैं हमेशा से गैंगबैंग ट्राई करना चाहती थी। लेकिन कभी चांस नहीं मिला. 

धीरे-धीरे समय निकलता गया, और मैं 26 साल की हो चुकी थी। 

मेरे पति मुझे प्रेग्नेंट करने की प्लानिंग कर रहे थे। उस समय मैंने सोचा था कि अगर मैं मां बन जाऊंगी तो फिर व्यस्त हो जाऊंगी। 

और फिर कभी गैंगबैंग सेक्स नहीं करूंगी। तो मैंने अपने पति को बहाने दे दिया कि मैं अभी तैयार नहीं थी।

लेकिन दूसरी तरफ मुझे अपनी यौन इच्छाओं को भी पूरा करना था। 

उसके 2 दिन बाद मेरे पति ऑफिस के काम से 10 दिन के लिए बाहर जा रहे थे। 

तो तभी मैंने सोचा कि यही सही मौका रहेगा मेरे लिए अपनी यौन इच्छा पूरी करने का। 

मेरे पति जा चुके थे, और मैं अच्छे लड़कों को और मर्दों को ढूंढ़ने सिटी सेंटर की तरफ निकल गई। ~ Pehli Gangbang Chudai

मैं सोच रही थी कि लड़कों की व्यवस्था कैसे करूंगी। सिटी सेंटर जाने के लिए मैंने ऑटो किया था,

और रास्ते में ऑटो वाले को बहुत ज़ोर से टॉयलेट लग रही थी। 

तो उसने कहा: मैडम आप थोड़ी देर रुको, मुझे टॉयलेट आ रहा है। 

उसने ऑटो साइड में रोका और सड़क के किनारे खड़े होकर टॉयलेट करने लगा। 

लेकिन मैंने उसका लंड देख लिया था। एक दम काला था उसका लंड। 

साइज़ भी ठीक-ठाक था, पैंट के ऊपर से पता नहीं चल रहा था। 

और तभी मैंने सोचा क्यों ऑटो वाले से बात की जाए। ऑटो वाला भी हैंडसम था. फिर ऑटो वाला टॉयलेट करके जैसे ही ऑटो में आया, तो मैंने उससे बोला-

मैं: अभी रुको, ऑटो स्टार्ट मत करना। मुझे आपसे बात करनी है। 

मैंने उससे पहले उसका नाम पूछा, और थोड़ी बातें करते हुए उससे रिक्वेस्ट की-

मैं: प्लीज मुझे आपका लंड देखना है।

ऑटो वाले का नाम मोहित था। वो थोड़े शर्माए, फिर वो मान गया और हम दोनो वहा पर एक पेड़ था, उसके पीछे चले गए। फिर उसने अपना लंड मुझे दिखाया। 

उसका लंड 8.5″ का था और 3″ मोटा होगा। बहुत काला था, और बहुत गंदा हो रखा था। 

उसमें से खुशबू आ रही थी, लेकिन मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। ~ Pehli Gangbang Chudai

फिर मैंने उससे कहा: तुम्हारा लंड बहुत गंदा हो रहा है, चलो इसे साफ कर देती हूँ। इतना कहने के बाद मैंने उसका लंड मुँह में ले लिया। 

मुझे बहुत मज़ा आने लगा था, और उसका वीर्य भी पिया मैंने। फिर मैंने उससे कहा: तुम मेरे लिए 8-10 लड़कों का इंतजाम कर सकते हो? 

मुझे Ganbang Chudai करना है। वो मान गया. फिर मैंने उसका नंबर ले लिया, 

और अपनी डिमांड बताई कि मुझे लम्बे मोटे और गंदे लंड जिसमें से महक आती है, वो बहुत पसंद है। 

फिर मोहित ने बोला: मैं लड़के लेकर आता हूँ। तुम उन्हें सेलेक्ट करके लेना चाहते हो कि तुम्हारे साथ ऐसा करना है। यहां हमारी डील हो गई। 

अगले दिन मोहित करीब 30 लड़के लेकर आया और उसने मुझे एक कमरे में बिठा दिया। वो खुद कमरे के बाहर खड़ा हो गया, 

और एक-एक करके उसने लड़कों को कमरे के अंदर भेजना शुरू कर दिया। 

उस दिन मैंने एक-एक बार हर लड़के का लंड मुँह में लिया था और वीर्य भी पिया था। 

सब लंड बहुत गंदे हो रखे थे, और महक भी आ रही थी। लेकिन हममें से मुझे केवल 7 लड़के ही पसंद आए जिनको मैंने सेलेक्ट किया था। ~ Pehli Gangbang Chudai

सबका लंड 8″ से लंबा था, और मोटा था। मोहित को मिला कर अब मेरे पास 4 लड़के थे जिनके साथ मैं गैंगबैंग सेक्स करने वाली थी।

तो उस दिन तो नहीं, लेकिन 3 दिन के बाद मैंने उन सबको घर आने के लिए बोल दिया था। 

जिस दिन मेरा Ganbang Chudai होने वाला था, उस दिन मैं ब्यूटीफुल होकर तैयार हुई।

मैंने सेक्सी टाइट लेगिंग और सलवार पहनी थी, और पूरा अच्छी तरह से मेकअप किया था, जो कि कुछ समय बाद खराब होने वाला था। 

मैं जैसे ही घर पहुंची उसके 1 घंटे बाद सारे लड़के आ गए, और उन सबका मुझे देखकर खड़ा हो गया था। सब मेरी बहुत तारीफ कर रहे थे। 

लेकिन समझ नहीं पा रहे थे कि कैसे शुरुआत करें। मैं मोहित के साथ शुरुआत करना चाहती थी। 

तो मैंने मोहित को अपने पास बुलाया और किस करते हुए उसकी पैंट खोल दी। 

Book Call Girls » Delhi Escort Services » Pehli Gangbang Chudai

फिर मैंने उसका लंड चूसना शुरू कर दिया, जिसको देखने के बाद सबने अपना लंड निकाला और एक-दम मेरे मुँह के पास आ कर खड़े हो गए। 

मैंने बारी-बारी से सबका लंड मुँह में लिया और तब तक मैं पसीने से भीग चुकी थी। 

क्योंकि गर्मियों का टाइम था, और हमने एसी के पंखे में कुछ भी नहीं चलाया था। 

मेरी अंडरवियर पूरी गीली हो चुकी थी। मुझे बहुत मज़ा आने लगा था। 

उसके बाद उन लोगों ने मुझे नंगा कर दिया, और एक लड़के ने मेरी चूत में लंड डाला, और एक ने गांड में। 

बाकी सब मेरे आगे अपना लंड लेकर खड़े हो गए। मैं बारी-बारी से सबका लंड चूसने लग गयी। जब मेरी गांड में लंड गया था तो मुझे बहुत दर्द हुआ। 

पर वो दर्द कब भूलभुलैया में बदल गया मुझे पता नहीं चला। धीरे-धीरे गर्मी भी लगने लगी, और हम सब पसीने में भीग चुके थे। और Meri Chudai चल रही थी। 

बारी-बारी से सब मेरी चूत में और गांड में अपना लंड डाल रहे थे, और जैसे ही उनका वीर्य निकलने वाला होता, वो मेरे मुँह में डाल देते। 

मुझे लड़कों का वीर्य पीना बहुत अच्छा लगता है। मुझे पहले वीर्य पीने की आदत नहीं थी। 

लेकिन मेरे पति ने वीर्य पीने की आदत मुझे लगाई थी, जो आज काम आ रही थी। ~ Pehli Gangbang Chudai

पहले मुझे वीर्य अच्छा नहीं लगता था। लेकिन अब मुझे कभी किसी लड़के का वीर्य पिला दो, 

मुझे बहुत अच्छा लगता है। मेरी गांड फट चुकी थी और चूत भी घिस चुकी थी। 

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था इतने सारे लंड एक साथ मेरे आस-पास देख कर। फिर धीरे-धीरे सब ने तेज़-तेज़ सेक्स करना शुरू कर दिया था। 

मेरा मेकअप पूरा फेल हो गया था। मेरे बाल बिखर चुके थे। मेरी चुदाई पूरे 4 घंटे चली थी, 

जिसमें 15 कंडोम के पैकेट खत्म हो चुके थे, और 4 घंटे लगाकर मेरे सभी छेदों में लंड जा रहे थे। 

सब बहुत गंदे तरीके से मुझे चोद रहे थे। फिर जैसे ही उनका मन भर गया मुझे चोद-चोदते, तो उन लोगों ने मुझसे एक मांग की, 

कि मैं फिर वही कपड़े पहन लूं और पानी में पूरी गीली हो कर उनके पास आऊ। मुझे सुन के बहुत अच्छा लग रहा था, ~ Pehli Gangbang Chudai

तो मैंने अपने कपड़े पहन लिए, और पानी में गीली होकर उनके पास गई। फिर मैंने सबका लंड चूसा और वीर्य भी पिया। 

मुझे गीले होने के बाद और भी मज़ा आ गया। तो ये थी मेरी indian gangbang sex stories

अगला भाग पढ़े: Pehli Gangbang Chudai 2

One thought on “गैंगबैंग सेक्स का मिला चांस 1 » Pehli Gangbang Chudai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *