रैगिंग के दौरान हुआ सीनियर से प्यार » Hindi Gay Sex Stories

रैगिंग के दौरान हुआ सीनियर से प्यार » Hindi Gay Sex Stories

मेरा नाम करण है. ये कहानी रैगिंग के दौरान हुआ Senior Se Pyaar की है। मेरी कुछ महीनों पहले की है। मैं बिलकुल सीधा-सादा लड़का हूं।

चलिए ये Hindi Gay Sex Stories शुरू करते है।

जब मैं कॉलेज हॉस्टल में रहने लगा, वहीं मुझे एक सीनियर मिल गया जिसने मुझे पूरे गांडू से और उसकी रंडी बना दिया।

ये शुरुआत दिनों की बात है, जब हॉस्टल में रात को सीनियर्स हमारी रैगिंग ले लेते थे। 

मैंने वही पहली बार नॉर्मल रैगिंग के दौरान देखा। हमारी बात-चीत हुई। कॉलेज लाइब्रेरी में हम दोनो बैठ कर बातें करने लगे।

एक रोज सीनियर्स को ज्यादा गुस्सा आया था। उन्हें छोड़ने के लिए हम जूनियर्स को छत पर ले जाकर एक लाइन में खड़ा किया और सबके कपड़े उतार दिए। 

सब जूनियर चड्ढी में खड़े थे और सब की रैगिंग शुरू हुई। 

उनमें से एक सीनियर मेरे पास आया और मुझे कोने में ले जाकर खड़ा कर दिया।
यहां से हम दोनो किसी को नज़र नहीं आ रहे थे।

उसने मुझे मेरी चड्डी उतारने को कहा। मैं दंग रह गया. मैंने मना किया तो उसने मुझे कहा-

वो: ये नॉर्मल रैगिंग है. सबके साथ होता है.

मैंने ठीक बोला, और उसने मेरी चड्डी खींचनी शुरू कर दी, और गांड पर से थोड़ी नीचे उतार दी।

 उतने में वह दूसरा सीनियर जिसकी बात मैंने स्टार्टिंग में की वो आया। 

उसका नाम राजा था। वो हट्टा-कट्टा और हॉट था। उसने वहा आके कहा-

राजा: इसे छोड़ दो। इसकी रैगिंग मैं लूंगा.

उसने मुझे उस दिन नंगा होने से बचा लिया। मैंने अपनी चड्डी ऊपर उठाई और मुझे रोना आ रहा था। वो मुझे ऐसे ही चड्डी में अपने कमरे में ले आया।

वो बोला: रोता क्यों है? पहले कभी नंगा नहीं हुआ क्या?

मैं चुप था.

उसने कहा: देख तू मेरा फेवरेट जूनियर है।

ये सुन के पता नहीं क्यों पर मेरे मन में लड्डू फूट गए।

राजा: कल से तुझे मर्द बना दूंगा। मैं जैसा कहता हूं वैसा ही करता जा बस।

राजा: किसी के साथ सेक्स किया है?

मैं: नहीं.

राजा: आज हिलाया?

मैं: नहीं.

राजा: हफ़्ते में कितनी बार हिलाता है?

मैं: एक-दो बार.

राजा: अबे मर्द है तू, रोज हिलाया कर।

मैं: हम्म.

राजा: किसी के सामने नंगा हुआ कभी?

मैं: नहीं.

राजा: अबे तू तो साले बेचारी ही लड़की है। तुझे मर्द बनाना पड़ेगा। कल सुबह 9:30 बजे आना, साथ में नंगे नहाएंगे।

मुझे समझ नहीं आया कि मैं क्या बोलूं। इसलिए हाँ कर बैठा। दूसरे दिन सुबह मैं अपना सामान लेकर उसके कमरे में गया। 

बाकी सीनियर्स जो उसके रूममेट थे, वही थे। सबके सामने राजा ने अपने कपड़े उतारे,
और चड्ढी पर आ गया। और मुझसे कपड़े उतारने को कहा. सब ने पूछा क्या हो रहा था।

राजा ने कहा: आज इसके साथ नहीं रहूंगा।

सबके लिए ये बड़ी सामान्य बात थी, पर मैं शर्मा रहा था। उसने मेरा हाथ पकड़ा, और बाथरूम में ले गया, और शॉवर चालू कर दिया। 

हम दोनो भीग गये। उसने मोबाइल पर हल्का गाना चलाया और डांस करने लगा। उसने मुझे भी नचाया।

साबुन लेकर मेरे और अपने बदन पर लगाया। अब तक सब ठीक था. फिर मेरे पास आया, और बोला-

राजा: चल खोल दे अपनी चड्डी। इसे उतारो.

मैं काम करने लगा. मुझे डर हुआ देख कर राजा ने खुद अपनी चड्डी उतार दी, और मेरे सामने नंगा हो गया। 

नंगा देख कर मेरी शर्म चली गई। पर उसका गोरा शरीर और लंबा लंड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया।

उसने कहा कि मैं खुद अपनी चड्डी उतारू। तभी मुझमें कॉन्फिडेंस आएगा। कुछ देर में मुझे अजीब सा महसूस हुआ क्योंकि वो नंगा था। 

तो मैंने भी अपनी चड्डी उतारी। हमने साथ में शॉवर लिया और तौलिया लपेट कर बाहर आये। सब हमें देख रहे थे।

वहा दो और सीनियर थे. उन्होंने मस्ती में मेरा और राजा का तौलिया खींच कर हमने नंगा किया,
और मैं पानी-पानी हो गया। पर उनको देख के ऐसा लगा कि ये उनका रोज़ का काम था।

राजा नंगा होकर भी मस्ती में था, मानो सबके सामने नंगा होकर उसे और मजा आ रहा हो। जाते वक्त राजा ने कहा-

राजा: रात को ११:३० बजे आ जाना। हम साथ में पोर्न देखते है.

उस रात हम दोनो अकेले ही थे। तो हम राजा के मोबाइल पर पोर्न देखने लगे। कुछ वक्त के बाद हम दोनो गरम होने लगे। 

राजा तो कई बार अपने शॉर्ट्स में हाथ डालकर हिलाने लगा। पर मुझे शर्म आ रही थी। उसने ये बात जान ली.

उसने कहा: चल साथ में मुठ मारते है, और एक साथ शॉट निकालेंगे।

मैं डर तो गया, पर अंदर से मजा भी आ रहा था। हमने दोनो ने शर्ट पैंट नहीं उतारी। हम अब सिर्फ चड्डी में थे. 

उसने अपनी चड्डी के अंदर हाथ डालकर हिलाना शुरू किया। मैंने भी वैसे ही किया, पर मेरा ध्यान पोर्न से ज्यादा उसकी बॉडी और हाथों पर था।

उसकी चड्डी अब गीली होनी शुरू हो गई थी। उसने एक झटके में अपनी चड्डी नीचे की, और दो फेल के लंड को सहलाने लगा। उसने मुझे देखा और कहा-

राजा: बहनचोद खोल अपना, मुझे भी देखने दे खड़ा हुआ कैसा लगता है।

मैं भी नंगा हो गया. हम दोनो अपना लंड हिलाने लगे। पर कुछ ही देर में उसने मेरा लंड पकड़ा और हिलाने लगा। 

उसके हाथ मेरे लंड को छूते ही मुझे एक करंट सा लगा, और मैं सातवे आसमान पर पहुंच गया। मैने भी उसके लंड को पकड़ा.

पहली बार किसी लड़के का लंड अपने हाथ में लिया था। उसके टाइट लंड को मसलने में मुझे मजा आ रहा था।

उसने कहा: भड़वे। दम नहीं है क्या? ज़ोर-ज़ोर से हिला, और तब तक हिला जब तक निकल न जाए।

ये सुनते ही मैंने एक हाथ से उसका हिलाना शुरू किया। उसने भी मेरा लंड हिलाया. 

कुछ वक्त में ही मेरा पानी उसके पूरे हाथों में निकल गया। पर उसका अब तक नहीं निकला था।

उसने कहा: चखेगा, आज़माएगा। लेले मुँह में मादरचोद।

वैसे मुझे गालियां पसंद नहीं। पर उसके मुँह से मुझे गालियाँ अच्छी लगने लगी। पहले मना किया,
पर वो जबरदस्ती मेरा सिर पकड़ के अपने लंड के पास लाया,
और अपना लंड मेरी नाक और होठों पर रगड़ने लगा।
पहले अजीब लगा, पर बाद में उसकी खुशबू मुझे पसंद आई।

धीरे से उसने टोपा मेरे मुँह में डाला। मैंने जीभ से चाटा,
तो उसने पूरा लंड एक झटके में मेरे मुँह में डाल दिया।
कुछ देर चुनने के बाद हम दोनो को काफी मज़ा आने लगा।

अब तक मैं उसके लंड का दीवाना हो चुका था। इसलिए लंड मुँह से बाहर निकालने के बाद भी मैंने उसकी बॉल्स और गांड को चाटना शुरू किया। 

मुझे खुद से एन्जॉय करता देख उसे भी मजा आने लगा।

उसने फिर एक बार इशारा किया, और मैंने डॉगी बन कर उसका लंड मुँह में ले लिया। उसने मेरा सिर पकड़ कर मेरे मुँह की जाम कर चुदाई शुरू कर दी। 

4-5 मिनट तक लगातार चूसने के बाद वो मेरे मुँह में झड़ गया। पहली बार था इसलिए मैं पूरा कम पेशाब नहीं पाया।

उस दिन से मैं उसके साथ सहज हो गया, और हर रात को या सुबह को मैं अब उसका पर्सनल खिलौना बन चुका था। 

उसका पानी अब मेरे मुँह में या मेरे शरीर पर ही निकलता था। और मैने भी हस्तमैथुन करना छोड़ दिया था। अब राजा ही मेरा पानी निकाल देता था। .

एक रात ऐसे ही हम गरम हो चुके थे। राजा ने मुझे बाहों में भर लिया, और कहा-

राजा: जानेमन, तेरी गांड मारने का बहुत मन कर रहा है। प्लीज मारने दे यार आज।

मैंने बहुत मना किया, पर मैं अपने बाप को चोदना कैसे सिखा सकता था। और राजा ने मुझे चुदाई के लिए मना लिया। 

उसने मुझे टेबल पर बिठाया, और मुझे नंगा करके मेरे दोनों पैर अपने कंधे पर रख दिए।

उसने मुझे हवस भरी नज़र से देखा, और मुझे किस करने लगा गाल पर, गर्दन पर, छाती पर। 

और यहाँ नीचे से उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर सेट कर दिया। 

धीरे-धीरे उसने लंड को मेरी गांड के अंदर डालना शुरू किया। मैं दर्द में चिल्ला उठा, पर वो नहीं माना।

उसका आधा लंड मेरी गांड में था, और मैं रो रहा था। उसने ऐसा ही पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया और कुछ देर एक ही पोजीशन में खड़ा रहा। 

थोड़ी देर बाद उसने लंड से चुदाई शुरू की।

पहले धीरे-धीरे अंदर-बाहर और बाद में स्पीड बढ़ाई। मेरा पहली बार था. ऐसा लग रहा था कि जैसे किसी ने गरम रॉड मेरी गांड में डाल दी हो। 

पर मेरी चुदाई शुरू हो गयी थी। 15-20 मिनट तक उसने मेरी गांड मारी। फिर वो मेरे अंदर ही झड़ गया, और छोटे बच्चों की तरह मुझसे लिपट गया।

मैं उससे चुद के बहुत खुश हुआ। उस रात आधी रात को उसका लंड फिर खड़ा हुआ। मैं ऐसा कर रहा था, 

पर उसने मेरे से मेरा पैर उठा कर चोदना चाहा। मेरी नींद खुल गयी। मैंने इसका उससे करने दिया। 

उसने पीछे से एक-दो झटकों में लंड अंदर डाल दिया। लेकिन उसका एक बार निकल चुका था, इसलिए इस बार वह जल्दी नहीं झड़ा।

उसने खूब जम कर चुदाई की. मैं धीरे-धीरे रो रहा हूं, पर उसने मेरी गांड पकड़ी, और एक्सप्रेस ट्रेन की तरह मेरी गांड मारी। 

मेरी चुदाई की स्पीड बढ़ चुकी थी। मैं थक चुका था, इसलिए उसे रोक नहीं पाया। मेरी गांड चुदाई ज़ोरो पर थी। 

२०-२५ मिनट की चुदाई के बाद वो मेरे लंड के ऊपर ही झड़ गया, और हम दोनो ऐसे ही सो गए।

सुभा उसके कम ने मेरे शरीर को धक रखा था। मैं वो देख के बहुत खुश हुआ. 

पर सुबह-सुबह मेरी गांड जलने लगी और मैं साफ करने उठा तो मैं चल नहीं पा रहा था।

मैं नहा के नंगा ही बाहर आया। तब राजा जाग उठा था। वो मुझे वापस बाथरूम में ले गया, और शॉवर के नीचे बैठ के अपना लंड चूसा। 

और सुबह एक और राउंड के लिए वह तैयार था। मैं अब इसका उससे कैसे कर सकता था। 

वही बाथरूम में मैं नंगा डॉगी बन गया, और पीछे से सुबह-सुबह मॉर्निंग सेक्स के साथ Meri Chudai हुई।

उस रात के बाद हर दो दिन मेरी चुदाई होती है। हमने आउटडोर अनुभव किया है। ग्रुप और गैंगबैंग भी किया है। अगर आपको और जानना है तो प्लीज बताइये। Website – Aerocity Escorts

One thought on “रैगिंग के दौरान हुआ सीनियर से प्यार » Hindi Gay Sex Stories

Comments are closed.