Actress Sneha Sex Stories 8 » Actress Sex Stories

Actress Sneha Sex Stories 8 » Actress Sex Stories

This entry is part in the series Sneha Actress Sex

सब मेरी इस कहानी Sneha Actress Sex की Series को इतना ज्यादा पसंद कर रहे हैं,
और हमेशा इसके भाग के लिए आप सब बेताब रहते हैं।
इसके लिए आप सभी को दिल से धन्यवाद।

अब Actress Sneha Sex Stories 8 आगे.

अब मैं अपनी सीट पर बैठी थी और करण सर से दुबई के बारे में कुछ बातें कर रही थी। 

तभी पाटिल सर किसी से फ़ोन पे बात कर रहे थे-

पाटिल सर: अब हम लोग कुछ देर में यहां से टेक-ऑफ करने वाले हैं। तुम सारा इंतजाम अच्छे से कर देना।

शायद वो दुबई में ही किसी से बात कर रहे होंगे। कुछ देर में सारे यात्री विमान में चढ़ जाते हैं। अब बस कुछ ही समय बाद हम लोग आसमान में उड़ने वाले थे।

मेरे लिए ये सब बिलकुल अविश्वसनीय था। मुझे तो लग रहा था कि मैं कोई सपना देख रही थी, लेकिन ये हकीकत थी।

फिर एयर-होस्टेस सीट बेल्ट बांधने के लिए अनुरोध करती है सारे यात्रियों से। करण सर ने बेल्ट बांध ली और पाटिल सर ने भी बांध ली, 

लेकिन मैं सही से नहीं कर पा रही थी। क्योंकि इसका सिस्टम कार से बिल्कुल अलग ही था।

फिर पाटिल सर अपना हाथ आगे करते हैं, और सीट बेल्ट लगाने लगते हैं। वो मुझे बताते हुए कहते है-

पाटिल सर: देखो स्नेहा, ये ऐसा लॉक होता है, और जब फ्लाइट टेक-ऑफ कर लेती है, तो इसको हम ओपन कर सकते हैं।

सीट बेल्ट लगाने से मैं दर्द के कारण आरामदायक महसूस नहीं कर पा रही थी। Actress Sneha Sex Stories 8

लेकिन मैं क्या करती, कुछ देर तो मुझे ये लगाना ही पड़ा था। अब फ्लाइट आखिरकार रनवे पर आ गई, 

और अब शायद हमारी फ्लाइट अपनी बारी का इंतजार कर रही थी

लगभाग सारी ही सीटें भरी थी। मैंने सुना था टेक-ऑफ के समय थोड़ा डर लगता है, और पहली बार के कारण मैं थोड़ा नर्वस भी थी

अंततः वह समय आ ही गया। अब हमारी फ्लाइट रनवे पर दौड़ रही थी। मुझे उस टाइम इंजन की आवाज़ से इतना डर ​​लग रहा था कि क्या बताऊँ। 

लेकिन देखते ही देखते हमारी फ्लाइट कब आसमान में आ गई, पता ही नहीं चला।

अब तो मुंबई शहर का नजारा कमाल का लग रहा था। 

ये सब देख के मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। लेकिन दर्द भी अपनी कसर छोड़ने वाला था।

अब हम लोग बहुत उंचाई पे आ गए थे। नीचे का अब कुछ साफ़ नहीं दिख रहा था। 

तभी मैंने देखा कि करण सर और पाटिल सर और लंबे समय तक आस-पास के सारे लोग कंबल निकाल कर ओढ़ने लगते हैं।

आप सब को बता दूं कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में यह कंबल हर यात्री को कॉम्पलीमेंट्री दिया जाता है।

तो तभी पाटिल सर मुझसे बोलते हैं: स्नेहा तुम भी ओढ़ लो। क्या तुम्हें ठंड नहीं लग रही है? इतनी शॉर्ट ड्रेस में हो.

मैंने कहा: हाँ सर, लग रही है।

पाटिल सर ने कहा: ओढ़ लो। Actress Sneha Sex Stories 8

मैंने अपना कम्बल निकाला और उसको ओढ़ लिया। अब लगभग 2 घंटे 15 मिनट हम लोग इसी फ्लाइट में बैठने वाले थे। 

ऐसे तो ये समय बहुत थोड़ा है। लेकिन जब आप किसी मुश्किल में होंगे, तो आपके लिए बहुत ही ज्यादा लगेगा।

आप सब को अगर याद होगा तो मुझे वॉशरूम जाने की जरूरत एयरपोर्ट से ही हो रही थी।

लेकिन पाटिल सर ने मुझे रोक दिया था कि ये कह कर फ्लाइट में वॉशरूम का इस्तेमाल कर लेना।

अब मुझे बहुत ज़ोर की लगी थी। तो मैंने करण सर से कहा-

मैं: मुझे तो फ्लाइट के बारे में कुछ भी ज्यादा पता नहीं है। मुझे वॉशरूम जाना है।

तब तक पाटिल ने पूछ लिया: क्या हुआ स्नेहा? कोई समस्या?

मैंने कहा: नहीं सर, असल में वो मुझे वॉशरूम जाना था। लेकिन मैं फ्लाइट के वॉशरूम के बारे में कुछ भी नहीं जानती।

तो तभी पाटिल सर बोलते हैं: मैं एयर-होस्टेस को बोल देता हूं, तुम चली जाओ।

मैंने कहा: सर मैं अंदर अकेले रहूंगी, और मुझे कुछ पता भी नहीं है कि वॉशरूम को कैसे इस्तेमाल करना है।

तब करण सर पाटिल सर से बोलते हैं: क्या किया जाए सर? स्नेहा का कहना तो सही है। 

उस वॉशरूम को ये अकेले इस्तेमाल भी नहीं कर पाएगी, और डरेगी भी अकेले।

पाटिल सर ने कहा: स्नेहा तुम दो घंटे तक कंट्रोल नहीं कर सकती हो?

मैने कहा: नहीं सर, इमरजेंसी है

तब पाटिल सर बोलते हैं: जाओ करण, तुम ही कुछ करो।

करण सर कहते हैं मुझे: चलो मेरे साथ। Actress Sneha Sex Stories 8

फिर वो मेरी सीट बेल्ट खोलते हैं, और फ्लाइट के पीछे की तरफ चलने को बोलते हैं। मैं उठी, और थोड़ी सी अपनी ड्रेस सही की। 

क्योंकि बैठने पर काफी ऊपर चढ़ गई थी। फिर मैं जाने लगती हूँ करण सर आगे-आगे और मैं उनके पीछे-पीछे।

सारे लोगों की नज़र मुझपे ​​ही थी, क्योंकि मेरी ड्रेस ही ऐसी थी। सब मेरी अधनंगी जवानी और हॉट फिगर का आनंद ले रहे थे। 

चलने में भी मुझे नहीं बन रहा था सही से, क्योंकि दर्द बहुत ज्यादा था।

फिर हम लोग वॉशरूम के पास पहुंचे। एयर-होस्टेस एक दम से चौंक गई, इसलिए कि एक जेंट्स लेडी एक साथ वॉशरूम के पास खड़ी थी। 

उसपे मेरी इतनी हॉट ड्रेस लोगों को पागल कर रही थी।

मेरी खूबसूरती और ड्रेस के आगे एयर-होस्टेस की खूबसूरती और ड्रेस तो कुछ भी नहीं थी। तभी एक एयरहोस्टेस ने करण सर से कहा-

एयरहोस्टेस: सर, क्षमा करें। महोदय, हमारे विमान में केवल एक ही शौचालय है। अतः एक समय में आप में से केवल एक ही इसका उपयोग कर सकता है। 

(सर हमारे प्लेन में एक ही वॉशरूम है। इसलिए आप में से कोई एक ही टाइम में इसको इस्तेमाल कर सकता है)

करण सर ने उस एयरहोस्टेस से कहा: दरअसल यह मेरी बेटी है। और उसे फोबिया है (वॉशरूम फोबिया नमक की बीमारी है)। Actress Sneha Sex Stories 8

 इसलिए वह अकेले शौचालय नहीं जा सकती। और वह किसी अजनबी के साथ शौचालय भी नहीं जा सकती। 

(ये मेरी बेटी है और इसको वाशरूम फोबिया है (एक प्रकार की बीमारी)। इसलिए वाशरूम जाने में इसको अकेले डर लगता है। और ये किसी भी अनजान के साथ भी नहीं जा सकती)।

एयरहोस्टेस: ओह माय गॉड, ओके सर। आप इस स्थिति में जाइए, तब बात अलग है।

करण सर: समझने के लिए धन्यवाद।

और एयर-होस्टेस ने हम दोनो को अलाऊ कर दिया। करण सर के ऐसा कहने पर मुझे अंदर से बड़ी हंसी आ रही थी ये सब सुन कर। 

Call Girls » Actress Sneha Sex Stories 8

फिर मैं और करण सर अंदर जाते हैं, और दरवाजे को अंदर से लॉक करते हैं। फिर करण सर बताते हैं कि शौचालय का उपयोग कैसे करना है, उसकी सारी प्रक्रिया।

मुझे बहुत ज़ोर की आई थी। मैं तुरन्त ही करने लगती हूँ। उसके बाद वह बड़ा सा मिरर लगा हुआ रहता है, 

तो उसमें मेरी चूत की सूजन एक-दम साफ दिख रही थी, और करण सर बड़ी मस्ती भरी आंखों से मेरी जवानी को देखे जा रहे थे।

उन्होंने कहा: स्नेहा वो क्रीम लगाने वाली कहां है?

मैंने कहा: वो तो मेरे हैंड पर्स में था। सीट पर ही है.

करण सर बोलते हैं: तुम्हें लेते आना चाहिए था ना।

मैंने कहा: याद नहीं रहा।

सर बोले: चलो अब चला जाए।

फिर मैं हाथ धोती हूं और अपनी ड्रेस ठीक करती हूं। और हम दोनो निकल जाते है।

बाहर आने पर एयर-होस्टेस और वॉशरूम के आस-पास वाली पैसेंजर सीट पर बैठे लोग अजीब नजरों से हमें देख रहे थे।

मुझे थोड़ी शर्म आ रही थी। लेकिन मैं क्या कर सकती थी? मैं अपनी सीट पर करण सर के साथ जा रही थी, 

कि तभी मेरे साथ एक बड़ी घटना घटित हुई, जिसका मुझे अंदाज़ा भी नहीं था कि मेरे साथ कुछ ऐसा भी होगा उस फ्लाइट में।

अचानक चलते-चलते ही मेरे पेट में बहुत तेज़ दर्द होने लगा। ऐसा लगा जैसे मैं वही फ्लाइट के जिस कॉरिडोर में चल रही थी, 

वहीं पर बैठ जाउ। सीट तक जाने की तो दूर की बात थी। Actress Sneha Sex Stories 8

आप लोग सोचिए कि मेरे साथ ऐसा क्या हुआ होगा। 

और अपनी कल्पना को मुझे मेल करके जरूर बताएं, ताकि मैं जान सकूं कि कितने लोगों ने सही कल्पना की।

बाकी आगे असल में मेरे साथ क्या हुआ, यह आने वाले Actress Sex Stories Hindi भाग में बहुत जल्दी पता चलेगा।

Series Navigation<< Actress Sneha Sex Stories 7 » Actress Sex StoriesActress Sneha Sex Stories 9 » Actress Sex Stories >>