ब्यूटी पार्लर वाली की चुदाई – Beauty Parlour Wali Ki Chudai

ब्यूटी पार्लर वाली की चुदाई – Beauty Parlour Wali Ki Chudai

दोस्तो, मैं साथी अनु चुदाई की कहानी में आपका स्वागत करता हूँ। आपने ‘ब्यूटी सैलून में चूत चुदाई का मजा’ में पढ़ा था कि नूर मुझसे चुदने के लिए मरी जा रही थी, हवस के मारे उसे उसी ब्यूटी सैलून में चोद दिया गया। उसने जल्दी से अपनी बहन का फेशियल पूरा किया। मैंने उसका सेल फोन लिया और अपना नंबर डायल किया।

इस तरह हम दोनों को एक दूसरे के नंबर मिल जाते हैं. वहां से मैं अपनी बहन के साथ घर लौट आया. अब आगे की गर्लफ्रेंड चूत सेक्स कहानी: थोड़ी देर बाद नूर का मैसेज आया- अगले महीने मेरी शादी है, लेकिन तुम मेरी सांसें रोक रहे हो अनुज… तुम वो पानी हो जो मेरी प्यास बुझाते हैं.

मैंने उसका जवाब लिखना शुरू किया. हम दोनों बात करते रहते हैं और अपनी भावनाएं साझा करते रहते हैं।’ अगले दिन सुबह हो चुकी थी, तभी उसका फोन आया- ठीक 12 बजे घर आ जाना और याद रखना कि रात तुम्हें यहीं बितानी है. मैं मान गया और घर जाने का बहाना बना दिया.

मैं उसके घर पहुंचा. उसने मुझे अंदर धकेला और धक्का देकर सोफ़े पर गिरा दिया. वो मेरे ऊपर बैठ गया और मुझे अपने होंठों से चूमने लगा, पास में जो पानी था उसे मुँह में भर लिया और मुझे पिलाने लगा.

फिर थोड़ी देर के बाद वो उठे और चाय बनाकर लाए और चाय के साथ उन्होंने मुझे अपने डॉक्टर अब्बू के डिब्बे से दो सेक्सवर्धक गोलियाँ भी दीं. मुझे पता ही नहीं चला कि आज उसने मेरे लंड पर लोहे का सरिया रख दिया है. हम दोनों प्यार करने लगे.

थोड़ी देर बाद एक बज चुका था. मेरे लिंग में तनाव बहुत बढ़ गया था. वह मुझसे दूर चली गई और अपने कमरे में चली गई और वही दो कपड़े ब्रा और लाल पैंटी पहनकर बाहर आई। जब मैंने उसे देखा तो मुझे ऐसा लगा जैसे कोई परी आ गई हो. मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ कि नूर एक आकर्षक लड़की बन गई थी।

वो बड़ी अदा से चलकर मेरे पैरों के सामने बैठ गई और अपने हाथ से मेरी पैंट की बेल्ट खोलने लगी. उसने जल्द ही मेरी पैंट उतार दी और नीचे खींच दी. मैंने अपनी पैंट को अपने पैरों से उतार कर अपने शरीर से अलग कर दिया. अब उसका हाथ मेरे लंड पर चलने लगा. वो मेरे अंडरवियर के ऊपर से मेरे लिंग के उभार पर अपनी जीभ फिराने लगी.

थोड़ी देर बाद उसने अपना अंडरवियर दांतों से पकड़ कर उतार दिया. मेरा लंड बाहर निकल कर उस मुँह से टकराया. उसने तुरंत लिंग को मुँह में ले लिया और चूमने लगी. उसने लिंग को ऊपर से चूमते हुए लिंग का सिर अन्दर ले लिया और लिंग के मध्य भाग को मजे से चूसने लगी।

चाटो चाटो, उसने मेरे लिंग का सिर अपने मुँह में डाला और उसे बाहर निकाल लिया। उनका ये स्टाइल सबसे कूल था. वो अपनी जीभ को लंड पर ऊपर-नीचे घुमाने लगी और बोली- आह अनुज … बहुत बढ़िया लंड बनाया है मैंने … सबके छेद में घुसा दिया है.

यह…सचमुच, यार, मेरा लंड बहुत मोटा हो गया है। अनुज, काश तुम मेरे पति होते! मैंने कुछ नहीं कहा, बस उसके सिर को अपने लिंग पर दबाने लगा। वह अपने मुँह से लौड़ा निकाल कर बोली :- अनुज, जब भी मैं अपने पापा के घर रहती हूँ तो तुम मेरे पति का काम करना। मैं तुम्हारे लंड की दीवानी हूँ मुआह मुआह आह! इसके साथ ही उसने अपना लिंग वापस अंदर डाल दिया और चूसने लगा।

थोड़ी देर बाद उसने इसे चखा और कहा- आह यार… ये स्टिक तो बहुत स्वादिष्ट बन गई है… सच में बहुत मीठी लग रही है. वो और तेजी से लंड चूसने लगी. वो भी अपनी चूत चुसवाना चाहती थी तो मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसकी तरफ देखने लगा. आआआह बहुत साफ़ चूत…

मैंने झट से उसकी ब्रा भी उतार दी. मेरे सामने खूबसूरत सफ़ेद मलाईदार दूध खड़े थे. ‘आह मेरी नूरजहाँ, आओ… मुझे अपना दूध पिलाओ रानी.’ नूर- नहीं मेरे राजा… पहले मैं तुम्हारा लंड चूसूंगी और फिर तुम्हें भी चूसने का समय दूंगी. मैंने नूर को 69 पोजीशन में लेटा दिया और हम दोनों ने एक साथ सेक्स किया.

नूर मेरा लंड चूसने लगी और मैं उसकी चूत चूसने लगा. दोस्तो, जब तक लंड और चूत दोनों न चूसो.. तब तक सेक्स में मजा नहीं आता। अगर लड़की पहले लड़के का लिंग चूसना चाहती है और लड़का पहले उसकी चूत चाटना चाहता है, तो वह समझ जाती है कि यह सेक्स की सबसे अच्छी शुरुआत है।

Himachal Vali Naukaraani ki chudane

नूर सिर्फ मेरे ख्यालों में था. वो मेरे साथ जी भर कर सेक्स करता था. लंड चूसने के अलावा नूर मेरे चूतड़ भी चूसने लगी. वह अच्छे मूड में थे. मैं भी उसकी चूत चाट कर पूरी मस्ती में आ गया था. मैंने नूर को पूरी आज़ादी दे दी थी कि वह मेरे लिंग के साथ जैसे चाहे खेले।

आज ही नूर को अपनी गांड मरवाने का दर्द झेलना पड़ा क्योंकि जब हम पहली बार मिले थे तो नूर ने वादा किया था कि अगली बार वह अपनी गांड मेरे शेर के लंड से मरवाएगी. उसकी हालत के मुताबिक आज उसकी गांड फाड़ने का दिन था. अब नूर ने मुझसे कहा- जानू, मेरे राजा… मेरे दिल के टुकड़ों… चोदो मेरी चूत रानी को अपने लंड से, ओह नूर.

यह सुन कर मैंने नूर को उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया. मैंने नूर की दोनों टांगें फैलाकर अपने कंधों पर रखीं, लंड पर थूक लगाया और हाथ से लंड को चिकना किया. फिर मैंने अपना लंड नूर की चूत के छेद पर रखा और अंदर धकेल दिया. सेक्स के आनंद से नूर की आंखें बंद हो गईं और चादर उसके हाथ में आ गई.

‘आआह आह डार्लिंग…मर गया।’ उसने अपने पैर सख्त कर लिए. मैंने अपने लंड को सहलाते हुए कहा- बस हो गया, मेरी नूरजहां तैयार है … आह, ये तो पूरा गायब हो गया. अब मैं तेज झटके देते हुए पूरा लंड अन्दर पेलने लगा. मैंने अपना पूरा लिंग उसकी चूत की जड़ में डाल दिया, उसके ऊपर लेट गया, अपने हाथ उसके हाथों में डाल दिए, अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और अपने लिंग के सिरे को उसकी चूत में फैलाने लगा।

मीठे दर्द के मारे नूर ने मेरे होंठ काट लिये। मैंने तुरंत अपने होंठ उसके होंठों से छुड़ाए, अपना लिंग बाहर निकाला और उसमें जोर लगाने लगा। नूर- आआह आआह जान. बस मैंने नूर को चोदना शुरू कर दिया. नूर को उस वक्त बहुत दर्द हो रहा था. मेरा पूरा लंड उसकी चूत की जड़ से टकरा रहा था.

“आह डार्लिंग आह…आह अम्मी अब्बू, कोई मुझे इस दरिंदगी से बचा लो।” नूर की कराहों से मैं धीमा हो गया और अपने लिंग को धीरे-धीरे हिलाने लगा। नूर भी ख़ुशी से कराह उठी. मैं अपने हाथों से नूर के मम्मे पकड़ कर उसे चोद रहा था।

नूर अपना एक हाथ अपनी चूत की तरफ ले गयी और मेरा लंड पकड़ने लगी. मैं नूर की बात समझ गया और धीमी गति से झटके मारने लगा। अब नूर को भी मजा आने लगा और वो मुझे चूमने लगी. मैंने उसके स्तनों को दबाना और चूसना शुरू कर दिया।

कुछ देर बाद सेक्स पोजीशन बदली और मैंने नूर को घोड़ी बना दिया. वो घोड़ी बन गयी और अपनी गांड हिलाने लगी. मैं पीछे से उसकी चूत चोदने लगा. नूर हर धक्के के साथ ‘आह आह’ की आवाज निकाल रही थी। दोस्तो, घोड़ी बनी चूत को चोदने पर लंड सीधा लड़की की बच्चेदानी से टकराता है।

कुछ मिनट तक मैं नूर को दबा कर चोदता रहा. नूर का सिर झुका हुआ था. उसकी हिम्मत जवाब देने लगी थी. अब मैं उसे नूर के घर में बने हॉल में ले गया और एक कुर्सी पर बैठा दिया. मैंने नूर को अपने लंड पर बिठाया और फिर से चोदना शुरू कर दिया.

घोड़ी बनाकर चोदते समय नूर पहले ही स्खलित हो चुकी थी। अब वो कराहने लगी- आह… बस प्यार… बस करो प्यार! लेकिन आज डॉक्टर पापा की दी हुई दवा उनकी बेटी को चोदने में बहुत अच्छा काम कर रही थी. नूर को पता था कि जब तक दवा का असर रहेगा तब तक उसकी चूत की चुदाई होती रहेगी.

इसलिए नूर ने मुझे चुदाई रोकने के लिए मजबूर नहीं किया. लिविंग रूम में नूर के स्खलित होने के बाद, मैं उसे उसके माता-पिता के कमरे में ले गया। उधर वो फिर से मेरा लंड चूसने लगी. इस बार मैंने नूर को उसके पिता के बिस्तर पर उल्टा लिटाया और अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा. दूसरी तरफ मैंने उसे खूब रगड़ा और चोदा.

नूर ने भी इस पोज़ में सेक्स का भरपूर आनंद लिया. थोड़ी देर बाद जब मैंने लंड को चूत से बाहर निकाला तो नूर उठी और मेरे इशारे पर जाकर मेरी पैंट की जेब से कंडोम निकाल लिया. उसने मेरे लंड पर कंडोम लगाया और कहा: अब मेरे कमरे में आओ. नूर ने मेरा लंड पकड़ लिया और मुझे अपने कमरे में ले गयी.

यहां मैंने उसे अपनी गोद में ले लिया. नूर का वजन 60 से 65 किलो के बीच था. नूर ने लंड हिलाते हुए एक ही बार में पूरा लंड अपनी चूत में ले लिया और मेरा लंड बार-बार हिलने लगा. नूर ये झटके बर्दाश्त नहीं कर पाईं. तभी नूर ने अचानक मेरी गर्दन पकड़ ली.

Home sex of old uncle and sexy aunty 1

मैंने भी तुरंत उसे पकड़ लिया और जोर जोर से खींचने लगा. कुछ मिनट बाद नूर ने मुझे बिस्तर पर पटक दिया और मेरे लंड पर अपनी चूत सटाकर बैठ गयी. अब जीएफ की चूत सेक्स में जोर जोर से उछल रही थी. उसके मादक स्तन भी ख़ुशी से उछल पड़े.

अब मैं भी अपने चरमोत्कर्ष पर पहुंचने वाली थी. नूर के ज़ोर से खींचने से कंडोम फट गया था. मैंने कहा- नूर, कंडोम टूट गया है. नूर तुरंत रुकी और उसका लिंग मुँह से निकाल कर चूसने लगी। मैं भी तुरंत उठा, नूर का सिर पकड़ लिया और जोर-जोर से अपना लिंग उसके मुँह में धकेलने लगा।

थोड़ी देर बाद मैं झड़ने लगा. नूर की आंखें बंद थीं. मैंने उसका मुँह अपने गाढ़े वीर्य से भर दिया. वो सारा रस पी गयी. हम दोनों आराम से लेट गये और अपनी सांसें नियंत्रित करने लगे. हम दोनों करीब एक घंटे तक बातें करते रहे. इसी दौरान नूर का हाथ मेरे लंड पर चलने लगा.

मैं समझ गया कि इसकी प्यास अभी भी बाकी है. उसने मेरा लंड चूस कर खड़ा कर दिया और इस बार मैंने उससे नूर की गांड मारने को कहा. वो उस वक्त तो मना करने लगी, लेकिन उसने ये सुनिश्चित कर लिया कि मेरा लंड उसकी गांड चोदे और वो बाद में उसे गांड में जरूर लेगी. उसके बाद हम दोनों ने चुदाई का एक राउंड और पूरा किया और फिर मैं चला गया.