कमसिन Bhabhi Ki Bur Ki Chudai 2 का मौका – Hindi X Story

कमसिन Bhabhi Ki Bur Ki Chudai 2 का मौका – Hindi X Story

पिछला भाग पढ़े:- Bhabhi Ki Bur Ki Chudai

हेलो दोस्तों मेरा नाम राज़ है, और मैं आपको मेरी पहली चुदाई के बारे में Hindi X Story पर बताने जा रहा हूँ उम्मीद है आपको पसंद आएगी।

मैंने बहुत मौके का इंतज़ार करने के बाद अपनी Bhabhi Ki Bur Ki Chudai 2 की।

तो Bhabhi Ki Chudai Kahani शुरू करता हूँ. मैं नौकरी के सिलसिले में अपना घर छोड़ कर अपने भाई के साथ रहने लगा। शहर दिल्ली ( करोल बाग ) आया। 

चलिए कहानी पढ़ते है।

माल निकलने के बाद मैं फिल्म देखता रहा। फिर थोड़ी देर बाद मैंने देखा तो माल सूखना शुरू हो गया। क्योंकि मुझे ये भी डर था कि भाभी ना देख ले। 

मैंने कम्बल हटाकर नीचे देखने की कोशिश की, लेकिन डर की वजह से मैंने कुछ नहीं किया। फिर थोड़ी देर बाद मैं उठ के अपने कमरे में आ गया और सो गया। 

सुबह जब उठी तो भाभी नाश्ता बना रही थी। मैं फ्रेश होकर आया तो देखा भाभी ने वही सलवार पहन रखी थी। 

मैंने माल जहां निकाला था वो जगह देखी, तो शर्ट की वजह से मुझे नहीं दिखी। खैर…

भाभी: तुम रात को कब गए?

मैंने कहा: आप सो गए थे, तो मैं भी थोड़ी देर बाद अपने कमरे में आ गया था। 

मुझे नींद आ रही थी। भाभी: चलो फिर आज अगर टाइम मिले तो फिल्म पूरी कर लेंगे। 

बस फिर हमने साथ नाशता किया। फिर वही दिनचर्या. रात को भाभी ने मुझे बुलाया नहीं। मैंने उनका कमरा खटखटाया और पूछा-

मैं: आप सो रही हैं क्या?

भाभी: नहीं. 

मैं: मूवी देखे?

भाभी: हाँ, मैं तो भूल गयी थी। आ जाओ देखते है। फिर मैं अपनी अलमारी से चिप्स और पॉपकॉर्न ले आया, और हम दोनों तांगे सीधी करके बेड पर बैठ गए। 

मैंने पॉपकॉर्न अपने लंड पर सेट किये पिछली रात की तरह, और चिप्स उनको दे दिए। इसी तरह हम खाते रहे। जब पॉपकॉर्न कम हुए तो उनका हाथ हल्का-हल्का मेरे लंड पर लगना शुरू हुआ। 

मैंने पहले ही सेट ऐसा किया था कि उनको फील ना हो। जब वह पॉपकॉर्न निकालने के लिए हाथ डालती, मेरे लंड की नीचे की तरफ उनके हाथ पर टच होती, और मुझे मजा आ रहा था। 

लेकिन उनके चिप्स आज पेट पर रखे थे, तो मुझे कुछ फील नहीं हो रहा था। भाभी ने आज सलवार कमीज बहुत हल्के कपड़े की पहनी थी। 

फिर बीच में उन्होंने जब अपना कंबल सही करके ओढ़ी, उस समय मेरे हाथ में चिप्स के पैकेट थे, जो मैंने पूरा नीचे कर दिया। 

अब चिप्स का पैकेट उनकी पूरी चूत पर था। मैं कुछ देर बाद हल्के से हाथ दबा के चिप्स निकालने लगा, और उनकी चूत फील करता रहा। 

भाभी को पता नहीं चला। बस उस रात भी ये सब चला। भाभी अब तक सोई नहीं थी कि मैं माल निकाल कर चला जाऊं। 

क्योंकि मैंने आधा लंड पतलून के ऊपर की तरफ रखा था, जिसकी वजह से मुझे अब दर्द शुरू हो गया था। सब कामों में 1 घंटा गुजर गया था। 

मैं वॉशरूम के बहाने से उठा, और वॉशरूम जाकर अपना लंड सही किया। फिर ऐसे ही सामान्य रूप से बाहर आया। 

कुछ देर बाद भाभी की आंख लग गई थी और उनकी टांग कम्बल से बाहर थी। मैंने कुछ देर गुज़रने के बाद उनकी सलवार टांग की साइड से हल्की सी ऊपर की। 

तो मुझे गोरी टांग दिखी। पहली बार मैंने अपनी भाभी की टांग देखी, और उसके पूरे काले बाल थे। मेरा लंड तो वही पूरा खड़ा हो गया क्योंकि, इससे पहले कभी लड़कियों के बाल नहीं देखे थे। 

ना ही पोर्न में. उस वक्त से मुझे लड़कियों के जिस्म के बाल अच्छे लगने शुरू हो गए। 

मैंने भरे हुए काले बाल देख कर अपना लंड पतलून के अंदर ही हल्का-हल्का हिलाने लगा। 

अब मुझे ये पता है कि भाभी की चूत, गांड और बगल में बाल भी ऐसे ही होंगे क्या। मुझे जिज्ञासा होने लगी। 

लेकिन मैं देख नहीं सकता था, क्योंकि वह हमेशा सलवार कमीज में होती थी। 

खैर, मैं कहीं भी माल नहीं निकाल सकता था, क्योंकि कम्बल पूरा था और बस लेग बाहर थी। 

फिर मैं बाहर आ गया, और मुंह मार कर सो गया। अब मैं ये सोच रहा था कि कोई तो मौका मिले कि मैं भाभी को नंगा देख सकूँ।

फिर काफी दिन यू ही गुज़र गए। भाई भी वापस आ गया। मैं रात को उनके गेट पे कान लगाकर आवाज सुनने की कोशिश करता हूं, 

लेकिन कोई आवाज नहीं आती। बस मैं पोर्न ही देख कर गुजारा करता। फिर एक दिन मैंने पतलून पहन लिया था। 

मेरा पतलून लंड की तरफ से काफी फटा हुआ था। लेकिन शर्ट लंबी होने की वजह से वह कवर हो जाता था। एक दिन भाभी किचन में काम कर रही थी। 

Bhabhi Ki Bur Ki Chudai 2

मैं डिस्पेंसर से पानी निकालने के लिए बैठा तो मेरा लंड दिखने लग गया। क्योंकि शर्ट ऊपर हो गई थी। 

मैंने ध्यान नहीं दिया, और मैं एक हाथ से बोतल पकड़ा हुआ था, और एक हाथ से मोबाइल का उपयोग कर रहा था। 

ये समय रात 8 बजे का था। उसी टाइम भाभी भी पानी पीने आई तो उसी टाइम उन्होंने मेरा डिक देख लिया था। मैंने जब उनके हाथ में गिलास देखा तो मैंने कहा-

मैं: भाभी मैं आपको पानी दे देता हूँ।

भाभी ने अपना ग्लास आगे किया और मेरे लंड को देखती रही। मैंने लंड के बाल और बगल के बाल साफ करने छोड़ दिए थे, 

जब से मैंने भाभी के बाल देखे थे। खैर मैंने उनको पानी दिया. उन्होंने किचन में जाकर पानी पिया, और तेज़ी से अपने कमरे में चली गईं, 

और अपना मोबाइल मेरे पास लाकर मेरे सामने मेरी पोजीशन में बैठ गईं। 

भाभी: तुम पानी की बोतल छोड़ो, पहले मेरा मोबाइल देखो। बहुत हैंग हो रहा है। मैं उनका मोबाइल चेक करने लगा। 

मुझे बाद में ऐसा लगा कि उनका मकसद सिर्फ यही था कि मैं ऐसे ही बैठा रहा। 3-4 मिनट गुज़र गए तो मैंने कहा-

मैं: भाभी आप अपनी मेमोरी थोड़ी खाली करो, शायद इसकी वजह से हो रहा है।

भाभी: तुम ही कर दो। मैं फिर करने लगा. अब मेरी टांग में दर्द होने लगा। फिर मैं जैसा ही खड़ा हुआ-

भाभी: पहले कर तो दो मोबाइल सही।

मैंने कहा: कर रहा हूँ, टांग में दर्द हो गया। 

भाभी: ठीक है बैठ कर लो. मैं सोफे पर शर्ट सही करके बैठ गया। वो कुछ देर सामने आती-जाती रही, लेकिन उनको कुछ नहीं दिखा। 

मैंने मोबाइल ठीक करके उनको दे दिया। फिर कुछ दिन बाद वही चीज दोहराई गई। लेकिन उस समय भाभी किचन में नहीं थी। 

मेरा लंड पूरा दिख रहा था, और फिर फ़ौरन मुझे याद आया कि उस दिन भी मैंने यही पतलून पहना था जब भाभी मेरे पास बैठी थी। 

फिर मुझे ख्याल आया ये सब क्यों। वह तेज़ी से अपना मोबाइल लेकर आई थी, और बहाने से मेरे पास बैठी थी। 

उसके बाद से ही जब भी वो काम करती या साथ होती, तो दुपट्टा बिलकुल उनके ब्रेस्ट से हटता हुआ होता। शायद ये मेरी कल्पना भी हो. लेकिन मुझे कहीं कुछ पता भी नहीं था। 

लेकिन उन्होंने कभी कोई ऐसी बात नहीं की। खैर फिर एक दिन वो सफ़ाई कर रही थी। दुपट्टा नहीं पहनना था, और उस दिन पहली बार उन्होंने ब्रा भी नहीं पहनी थी। 

मैं नहा कर बाहर आया तो वो मेरे कमरे में झाड़ू दे रही थी। पीछे से उनकी कमर साफ दिख रही थी, और ब्रा भी नहीं दिख रही थी। 

मैं बाहर बैठ गया कि साफ हो जाए कमरा फिर जाता हूँ। जैसे ही वो सफ़ाई करके खड़ी हुई मेरे सामने उनके दूध थे बिना ब्रा के, और निप्पल दिख रहे थे। 

मैंने कहा: काम हो गया? 

भाभी ने कहा: हाँ हो गया। और तुम जगह-जगह टिशू क्यों फेंक देते हो? 

मैंने कहा: सॉरी भाभी, वो पता नहीं चलता। फिर वॉशरूम गया और माल निकला और सोचता रहा काश मोबाइल हाथ में होता तो थोड़ी सी वीडियो बना लेता बाद में मुंह मारने के लिए। 

खैर बस फिर मैंने फिर से अपना एक ट्राउजर फाड़ा, और जब भाभी खाना बना रही थी, तो फिर पानी भरने बैठ गया। 

भाभी ने मुझे फिरसे देख लिया। फिर वो रोटी बनाने लगी. मैं महसूस कर रहा था कि मेरा लंड टाइट होने लगा। 

लेकिन मैंने खुद पर नियंत्रण किया, वरना शायद उनको पता चल जाता। खैर मैं पानी भर के उठा. 5-10 मिनट भाभी ने मुझे ज़ोर से आवाज़ दी। 

मैं फ़ौरन किचन की तरफ़ गया, तो भाभी ऊपर से कुछ उतार रही थी। दुपट्टा था नहीं, और शर्ट सलवार में ऊपर फंसी हुई थी। 

इसी वजह से सलवार के ऊपर से उनकी गांड का आकार दिख रहा था। 

मैंने पूछा: क्या हुआ भाभी? 

उसने कहा: जल्दी से जूसर पकड़ो, मैं प्लेट निकाल रही थी, ये गिर रहा है। 

लेकिन मेरा हाथ नहीं जा रहा था। 

फिर वो बोली: अरे मेरे पीछे से आ कर पकड़ो। मैं जैसा होई उनके पीछे गया, मेरा लंड उनकी गांड से चिपक गया, और गरम फील हुआ मुझे। 

मैंने जूसर को सेट करने में 2-3 मिनट लगा दिए। उसी दौरान मेरा लंड खड़ा होकर गांड में चिपक गया था, और ये उनको भी फील हुआ था। 

खैर फिर जैसे ही जूसर सेट किया भाभी ने कहा: ऊपर से प्लेट भी उतार दो यहीं से खड़े हो कर। ऐसा न हो फिर गिर जाए। 

मैं थोड़ा सा ऊपर हुआ प्लेट निकालने के लिए। मेरा लंड पूरा उनकी गांड से रगड़ता हुआ ऊपर गया। मुझे डर भी लगा. 

मैंने फिर बस जल्दी ही प्लेट उतार कर उनको दी, और फिरान लंड को पतलून के ऊपर की तरफ फंसाया। भाभी बोली: क्या हुआ? 

मैंने कहा: कुछ नहीं, बस उन हाथों में दर्द हो गया था। वो समझ गयी थी और नीचे भी देख रही थी। लेकिन उनको मेरा खड़ा लंड नहीं दिखा। 

अब दोनो को ही समझ नहीं आ रहा था कि दोनो के मन में क्या था। बाकी Hindi Sex Stories with Pictures अगले भाग में. प्रतिक्रिया soni4u9@gmail.com पर दे.

अगला भाग – Bhabhi Ki Bur Ki Chudai 3

One thought on “कमसिन Bhabhi Ki Bur Ki Chudai 2 का मौका – Hindi X Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *