ट्रैन में मिली भाभी की प्यासी बुर की प्यास बुझाई – Bur Chudai

ट्रैन में मिली भाभी की प्यासी बुर की प्यास बुझाई – Bur Chudai

ये कहानी पहली बार लिख रहा हूँ कोई गलती हो जाए तो माफ़ करना। 

चलिए पढ़ते है मेरी ये कहानी की कैसे ट्रैन में मिली Bhabhi Ki Pyasi Bur की प्यास उसके घर जाके बुझाई

Bhabhi Sex Stories शुरू होती है, आनद विहार स्टेशन से, जहां से मुझे पुणे अपने कॉलेज आना था। मैं अपनी सीट (साइड लोअर बर्थ) पर जाकर बैठ गया। 

लेकिन आरएसी थी, इसलिए मालूम था कि मुझे सीट किसी भी एक सह-यात्री के साथ साझा करनी पड़ेगी, इसलिए सह-यात्री का इंतजार करने लगा।

तभी मेरे कोच में एक भाभी की एंट्री हुई, और जब वो लॉबी से चलते हुए अंदर आ रही थी तो सभी मर्दों की नज़रें उनकी तरफ़ ही मुड़ी हुई थी। 

भाभी मेरे पास ही आकर खड़ी हो गई और टिकट, जो उनके हाथ में था लिया हुआ था हमे देखकर पूछा, 

“माफ कीजिए, क्या यह सीट नं. 46?” मैंने विनम्रता से उनको बताया, “हाँ, यह है!

” उन्होंने कहा, “दरअसल, मेरा आरएसी है, इसी सीट पर।” मैंने फिर से मुस्कुरा कर उनसे बात की, जी हां मेरा भी आरएसी ही है, 

और मैं भाभी को जगह देते हुए अपने फेले हुए पैर को सिकोड़ कर सीधा बैठ गया। भाभी भी मेरे सामने ही बैठ गईं। 

कुछ देर तक हम दोनो चुप-चाप ही बैठे रहे। वहा आसपास बैठे सभी की नजरें भाभी के ऊपर ही थीं। जितने पुरुष थे उन्होंने अपनी नाज़रे भाभी पर टिकी हुई थी। 

खैर, थोड़ी देर तक तो हम दोनो बैठे ही रहे, थोड़ी देर बाद भाभी ने मुझसे ही पूछ लिया कि, “कहां तक ​​जाएंगे आप?” 

मैंने भाभी को बताया, पुणे तक, और इसी के साथ हम दोनों की बातें शुरू हो गयीं। बातों बातों में भाभी ने मेरे कॉलेज के बारे में भी पूछा। 

और इसी तरह 12:30 बजे बज गए। भाभी और मुझे दोनो लोगों को नींद आने लगी। 

भाभी ने बैग से एक चादर निकाली और ओढ़कर लेट गईं। मैं उसी प्रकार बैठ रहा हूं। लेकिन बैठे-बैठे मेरी भी पीठ में दर्द होने लगा, 

और मैं एक तरफ करवट करके लेट गया और पता नहीं कब नींद आ गई। अभी एक डेढ़ घंटे ही बीते होंगे कि मेरी नींद खुल गई और अब तक सब लोग लाइट बंद करके सो रहे थे। 

जब मुझे याद आया कि मेरे साथ एक खूबसूरत भाभी सो रही हैं। तो मुझे एक अजीब प्रकार की उत्तेजना होने लगी।

भाभी गहरी नींद में सो रही थी, लेकिन अब मेरी आँखों में नींद कहाँ? 

भाभी जिस तरह लेटी हुई थी उसी तरह, उनके पैर मेरे सीने तक पांव रहे थे।

और यही सब सोच के मेरे दिल की धड़कन बढ़ गयी। मैंने अपने अगल बगल वाली सीटों पर देखा सब सो रहे थे…

 और पता नहीं मेरे अंदर से इतनी हिम्मत आ गई कि मैंने भाभी के पांव जो मेरे सीने तक पांव रहे थे, उन्हें अपने हाथ से सहलाने लगा। 

इस तरह मेरी धड़कन तेज़ होती जा रही थी उसी प्रकार मेरा लंड भी खड़ा होने लगा। मैंने धीरे-धीरे भाभी के पैरों के ऊपर जाना शुरू कर दिया। 

धीरे-धीरे भाभी के घुटने तक आ गया… मैंने जब भाभी के जांघ पर अपना बयान हाथ फिर से लिया, 

आह कसम से ऐसा लगा कि ये दुनिया की सबसे चिकनी और मुलायम चीज़ है। मैंने भाभी की जान भी ले ली 

और उसे तेज़-तेज़ सहलाने लगा और मुझे होश ही नहीं था कि भाभी जाग भी सकती है और फिर हुआ वही जिसका डर था। 

मैं जैसी ही जाँघ के और ऊपर अपने हाथ ले जाने लगा। भाभी जाग गई। मैंने जैसे ही भाभी को जगाते हुए महसस किया… 

मैंने तुरन्त ही सब छोड़-छाड़ के सोने का नाटक करने लगा। मैं बहुत ही ज्यादा डर गया था। खैर भाभी को मैंने उठते और जाते हुए महसस किया। 

जरूर बाथरूम जाओगी। और फिर वापस भी आ गईं, लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी कि मैं अपनी आंखें खोल लूं। 

इसके बाद मैं और भाभी दोनों लोग सो गए… और मैं ठीक तब उठा जब ट्रेन आकर पुणे रेलवे स्टेशन पर रुकी। भाभी जा चुकी थी…

और मैंने अगल बगल देखा तो कुछ लोग अपना सामान वागैरह लेकर उतरने जा रहे थे… 

मैं भी हद करके जूते पहनकर अपना सामान उठा लिया और स्टेशन के गेट नंबर 1 के बाहर आ गया। मुझे विमान नगर जाना था..

तो मैंने बस ले ली… बस भरी हुई थी… महिला रिजर्व सीट एक खाली थी.. तो मैं वहीं जाकर बैठ गया… बस चल दी.. 

और मैंने जब बगल में देखा तो मेरी किस्मत ही खुल गई जैसा…. बगल वाली सीट पर वही भाभी बैठी हुई थी…

उन्होंने मेरी ओर देखा और मैंने उन्हें देखा। मुझे डर भी लग रहा था और एक्साइटमेंट भी हो रही थी… मैं रात की बात को याद करके डर भी रहा था…

लेकिन डरते-डरते ही मैंने इनडायरेक्ट तरीके से बात शुरू कर दी.. आप भी विमान नगर ही जा रही हैं क्या? 

तो उन्होंने मुस्कुराते हुए मुझसे कहा, नहीं मुझे पहले ही उतरना है… मैंने जब उन्हें मुस्कुराते हुए देखा तो मेरे जी में जी आया 

और आगे बात करने की हिम्मत भी बढ़ गई… उन्होंने ये भी बताया कि उनके पति बस स्टॉप पर इंतजार कर रहे हैं पे.. ये कहानी आप HindiXstory पर पढ़ रहे हैं।

उन्होंने बस स्टॉप का नाम भी बताया.. लेकिन गोपनीयता की चिंता के कारण मैं यहां लिख नहीं सकता… खैर थोड़ी देर हम लोग बात करते रहे… 

उसके बाद भाभी का स्टॉप आने वाला था.. और भाभी ने कहा मेरा स्टॉप आने वाला है। मैंने भाभी से कहा तो अब आप जाएंगी, 

लेकिन मेरा दिल नहीं कर रहा है आपको जाने देने का… तो भाभी हंसने लगी… मैंने भी मौका देखते हुए भाभी से कहा, 

भाभी अपना नंबर दे दीजिए कभी-कभी मैं आपसे बात कर लिया करूंगा, जब आपकी याद आएगी…

मुझे पता नहीं कहाँ से इतनी हिम्मत हो गई। ये लंड कुछ भी करवा सकता है… तो भाभी मेरी तरफ देखते हुए बोली,

 “नहीं, तुम मुझे अपना नंबर दे दो।” मैंने भाभी को नंबर दे दिया… और भाभी आना बंद कर दें पर नीचे उतर गईं…

मैं भाभी को आखिर तक देखता रहा.. लेकिन भाभी ने मुड़कर नहीं देखा। मैं अपने कमरे पर आ गया। करीब 10 दिन बाद, बुधवार का दिन था। 

भाभी ने सुबह 11:00 बजे फ़ोन किया… तब मैं लेक्चर अटेंड कर रहा था इसलिए कॉल रिसीव नहीं कर पाया…

लेक्चर के बाद मैंने फ़ोन देखा..तो नए नंबर से मिस्ड कॉल थी… मैंने कॉल बैक किया। तो उधर से एक लेडी की आवाज़ सुनी…

मैंने हैलो बोला, तो भाभी उधर से बोली मैं भाभी बोल रही हूँ। याद है? हम मिले थे…

मैं- जी भाभी बिलकुल याद है.. आपको कैसे भूल सकते हैं…

और मैंने कॉल रिसीव न कर पाने के लिए सॉरी और रीज़न दोनो बता दिए। और इसके बाद भाभी ने कहा कि वह इस समय व्यस्त हैं 

और बाद में बात करेंगी और लंच के बाद डिस्कनेक्ट कर दिया, मेरा कोई लेक्चर नहीं था। तो मैंने कमरे पर आने के बाद भाभी को फिर से फ़ोन लगा दिया। 

भाभी ने मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा… लेकिन मैंने कहा नहीं है, आपकी तरह कोई मिलती ही नहीं… तो भाभी हंसकर पूछने लगी कि… मतलब क्या अच्छा लगा मुझे तुम्हे…

मैंने रोमांटिक अंदाज़ में सब कुछ कहा.. भाभी और भी हंसने लगी .. 

मैं आगे बोला कि भाभी आप उस दिन सारी में बहुत खूबसूरत और हॉट लग रही थी… 

भाभी और हंसने लगी। मैं समझ गया कि आग दोनो तरफ है…

मैंने बात को बढ़ाते हुए पूछा कि मैं भाभी से कब मिल सकता हूँ… 

उन्होंने भी मेरा साथ देते हुए कहा कि जब मौका मिलेगा तब बताऊँगी… 

मैंने रिक्वेस्ट के लहज़े से कहा कि भाभी हम कल मिल जाएँगी कर सकते हैं?…

भाभी थोड़ा नानुकुर करते हुए मान गईं… लेकिन सख्त टाइमिंग और जगह भी बता दी कि.. 

सुबह 10 से 3 के बीच उनके घर पे। मेरे तो भाग्य ही खुल गए ये सुनके.. 

Bhabhi Ki Pyasi Bur

हमने फ़ोन रखा और भाभी ने अपने घर का पता मुझे एसएमएस कर दिया…

आप समझ नहीं सकते कि मेरी और मेरे लंड की रात कैसी गुजरी.मैं.. ठीक सुबह 10 बजे भाभी के डोर बेल को बजाया… 

दरवाजा खुला और सामने भाभी थी। काले और लाल संयोजन वाली साड़ी और स्लीवलेस ब्लाउज में… 

और हे भगवान, वह काफी हॉट लग रही थी…

आप भाभी के फिगर की कल्पना कर सकते हैं… अभिनेत्री हुमा कुरैशी से मैंने भाभी को ऊपर से नीचे एक बार देखा। 

भाभी के बाल बंधे हुए थे… थोड़ा सा मेकअप लाल लिपस्टिक से। और आला ब्लाउज और साड़ी के नीचे दबे हुए।

 बाहर आने को बेकाबू, चूचियाँ और नीचे गोरा चिट्टा पेट और चिकनी कमर… और सारी में लिपटी हुई चिकनी जाँघें…

इतना ही गौर कर पाया कि भाभी ने कहा कि बाहर से ही देखोगे कि अंदर भी आओगे… मैंने भाभी को बधाई दी 

और अंदर आ गया… यार तो किया कि बस भाभी को लिपट जाओ और भाभी की साड़ी और ब्लाउज फाड़ दो उसी टाइम 

और भाभी को नंगी करके अपना 7 इंच लम्बा और मूसल सा मोटा लंड भाभी की बुर में घुसा दो। मैं अन्दर आया और सोफे पर बैठ गया। 

भाभी मुस्कुराती हुई मेरे पास ही सोफे पर आके बैठ गईं.. मैं अब तो बेशर्म हो गया था… 

और भाभी से बोला भाभी उस दिन ट्रेन में जब से आपको देखा है मुझे आपको देखने की चाहत बढ़ती ही जा रही है? 

भाभी ने भी एक कदम बढ़ाते हुए बोली अच्छा तो ये चाहत कैसी पूरी होगी मुझे देखने की? भाभी एक बार मैं आपको नंगी देखना चाहता हूँ… 

भाभी वहीं की वहीं खिलाड़ी हुई… उन्होंने भी मुझे छेड़ते हुए कहा। अच्छा मुझे कपड़े उतारने का क्या मिलेगा? मैंने सोचा गुरु. 

अभी नहीं तो कभी नहीं, मैंने तपाक से भाभी से बोला मेरा लंड… इतना कहकर मैं भाभी पर कूद गया और सोफे पर बैठी भाभी को अपने होंठों में जकड़ लिया 

और उनके होंठों पर अपने होंठों को रखकर किस करने लगा…

भाभी के लिपस्टिक का स्वाद और उनके होठों के रस का स्वाद मैं चूसने लगा… भाभी और मेरे हाथ एक दूसरे की पीठ पर बिठासा चलने लगे… 

मैंने भाभी के होठों को छोड़ कर भाभी के गाल अपनी जीभ से चाटे हुए भाभी के दहीने कान पर पाहुंच गया…

और भाभी के कान को अपने मुंह में भर लिया और चूसने लगा… उधर मेरे हाथ भी अब भाभी की पीठ से हटकर भाभी की चूचियाँ पर आ गए… 

और भाभी की नर्म और बड़ी-बड़ी चूचियों को अपनी पूरी ताकत से दबाने और मसलने लगे…

भाभी अपनी आँखें बंद करके उहहाआह की आवाज़ करते हुए। मेरे जींस के ऊपर से मेरे लंड के ऊपर को सहलाने लगी… 

अब तक मैं भाभी के दूसरे कान को भी चूम चुका था.. और अपनी जीभ से भाभी के बगीचे को चाटते हुए नीचे भाभी की चूचियों की तरफ बढ़ा और एक हाथ से भाभी की साड़ी का पल्लू हटाया…

और फिर दोनों हाथों से भाभी के स्लीवलेस ब्लाउज को उतार कर फेंक दिया… 

जब मैंने भाभी की चूचियों की तरफ देखा ओह माय गॉड इतनी बड़ी चूचियाँ जिनके निप्पल सख्त हो रहे थे। 

मैंने एक चूची को अपने हाथ में भरा और दूसरी को अपने मुँह में…

भाभी ख़ुशी से उउउउउ उह्ह्ह्ह्ह आआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह चूस ले खा ले और ना जाने क्या क्या कहने लगी। 

मैं भाभी की चूचियों को बड़ी ही बेदर्दी से दबा रहा था और चूश कर रहा था… और जब भाभी के निप्पल को कभी काट लेता दांतों से..

तो भाभी चिहुंक जाती मेरे ऐसा करने से। अब तो भाभी भी एकदम गरम हो गई थीं… वो मुझ पर टूट पड़ी। 

भाभी सोफे से नीचे उतर गईं और नीचे बैठे हुए मेरी बेल्ट और जींस को खींचकर उतार दिया और फ्रेंची को भी उतार फेंका…

भाभी पर लंड का बहुत सवार हो गया था जैसा ही मैं नंगा हुआ भाभी मेरे लंड पर टूट पड़ी और मेरे लंड को मुँह मैं भर कर चूसने लगी. मेरी तो आह निकलने लगी। 

मैंने भाभी के सर को बालों को पकड़कर आगे पीछे करने लगा…

भाभी कभी मेरे लंड को अपने मुँह में भर लेती तो कभी मेरे टैटू को अपने मुँह में भरकर चूसने लगती। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था… 

और मैंने भाभी को बाजुओं से पकड़ कर उठा लिया लेकिन भाभी जैसी ही खड़ी हुई..

वो शायद बेडरूम की तरफ जाने लगी… मैं भी उनके पीछे भागा… भाभी के बेडरूम में पहुंचते ही मैंने उनके पीछे के बाल बिस्तर पर उठा के पटक दिया… 

और भाभी को बिल्कुल नंगी कर दिया, अब मेरी आँखों के सामने संग्राम और गोरी चिट्टी भाभी बिल्कुल नंगी बिस्तर पर अपनी ताँगें फैलाए हुए मुझे उनकी बुर में घुस जाने का न्योता देने लगी…

मैं भाभी की ताँगें के बीच में बाति गया… लेकिन अभी नहीं मैं अपना लंड अभी बुर में नहीं डालूंगा… 

अभी भाभी को तड़पाना है थोड़ा सा… 

और मैं अपने मुंह भाभी की बुर पर रख कर कुत्ते की तरह चटनी और चूसने लगा…

भाभी के दाने को अपनी उंगली से रगड़ने लगा… भाभी बिन पानी मछली की तरह तड़पने लैगिन. और मैं अपनी जीभ को बुर के छेद में घुसने लगा… 

भाभी भी अपनी गांड उचक कर मेरी जीभ को अपनी बुर में भर लेना चाह रही थी..

भाभी की करहें और भी ऊंची हुई जा रही थी.. और एक समय भाभी बहुत तेज़ी से चिल्लाते हुए मेरे सर को अपनी टांगों में दबा लिया… 

मैं भाभी की टांगों के बीच दबा हुआ था.. फिर भी भाभी की बुर चाटे ही जा रहा था…

थोड़ी देर बाद भाभी ने टांगें हटाईं और मैं समझ गया था कि भाभी झड़ गई थीं … मैं भाभी की बुर में अब उंगली देने लगा… 

पहले एक… फिर दो… और फिर तीन उंगलियों को धीरे-धीरे अंदर बाहर करने लगा और भाभी भी गांड उठा कर मेरी उंगली लेने लगी। 

थोड़ी देर उंगली करने के बाद अब फाइनल शॉट की बारी थी और मैंने भाभी को घोड़ी बनने को कहा, 

भाभी झटके से अपनी गांड उठाकर बिस्तर पर घोड़ी बन गईं। 

मैंने भाभी के दोनों चूतड़ों को अपने हाथों से पकड़ कर सहलाया और एक दो बार चपत भी लगाई। 

और अपने लंड को दहीने हाथ में लेते हुए भाभी की प्यासी बुर पर अपना लंड रगड़ते हुए छेद में टिकाया और 

पहला झटका मेरे लंड का दे दिया। भाभी की बुर ने मेरे 7 इंच के लंड को पूरा का पूरा खा लिया… और भाभी की जोर की गाल निकल पड़ी…

भाभी चिचियाते हुए बोली आराम से, हरामी… मैंने ये सुनकर दूसरा झटका भी भाभी की बुर में पूरी गहराई तक उतार दिया… 

और इसी के साथ मेरा लंड और भाभी की बुर में एक गचागच धक्कमपेल शुरू हो गई… भाभी मस्ती में चुदी जा रही थी। 

मेरे धक्कों की स्पीड कभी तेज़, कभी धीरे, एकदम तेज़ फिर धीरे.. और इसी तरह अप्रत्याशित लंड के झटकों के साथ मैं भाभी और अपने लंड को जन्नत की सैर करा रहा हूँ। 

बहुत देर तक चोदा भाभी जी को मैंने… ये कहानी आप HindiXstory पर पढ़ रहे हैं। करीब 15 मिनट बाद भाभी खूब जोर जोर से हिलने लगीं, 

मैं समझ गया भाभी फिर से झड़ने वाली हूं… भाभी झड़ गईं और थोड़ी देर बाद मैं भी। 

माल को जीभ से निकाल कर चाट गई और मेरे लंड को फिर से मुंह में भरके चुसाई करने लगी…

थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर से तैयार था और इस बार भाभी मेरे ऊपर आ गई… 

और मेरे ऊपर चढ़के मेरे लंड को बुर में लेने वाली थी कि मुझे एक पोज याद आ गया। मैने लेते हुए ही भाभी जो मेरे ऊपर बैठी थी।

उन्होंने मेरे मुँह पर उसी तरह अपनी बुर को मेरे चेहरे पर दबाया और मैं नीचे से चाटूँ… ठीक ऐसा ही किया भाभी जी ने… 

अपने बड़े-बड़े गांड लेके मेरे चेहरे पर बैठ गईं, और मैं नीचे से भाभी की बुर और कभी-कभी गांड की छेद भी चाट कर लेता… 

थोड़ी देर तक मैं ऐसे ही छूता रहा… कभी-कभी भाभी मेरे चेहरे पर मस्ती करती हैं, मैं पूरा भर देकर बैठ जाती थी।

 तो भाभी की गांड और बुर के नीचे दबे हुए मेरा सांस भी लेना मुश्किल हो जाता है… और इसी तरह जब भाभी से नहीं रहा गया। तो भाभी उसी तरह जाकर मेरे लंड पर बैठ गईं… 

और आगे पीछे मेरे मोटे और लम्बे लंड को अपनी बुर में घुसे हुए गोल गोल घूम घूम कर चुदने लगीं। 

कुछ देर बाद मैं और भाभी दोनो लोग एक साथ झड़ गए… इसके बाद भी दो बार चुदाई का प्रोग्राम और चला।

दोस्तों कैसी लगी ये मेरी bhabhi ki chudai story कमेंट में ज़रूर से बताये। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *