Bhabhi or Naukrani ki chudai – भाभी और नौकरानी की चुदाई

Bhabhi or Naukrani ki chudai – भाभी और नौकरानी की चुदाई

(Bhabhi or Naukrani ki chudai) : नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रोहित शर्मा है। मेरी उमर 31 साल की है, और मैं दिल्ली में एक आईटी कंपनी में नौकरी करता हूं। कुछ साल पहले कंपनी में मुझे एक हाई पोजीशन मिली, जिसके लिए मुझे मुंबई शिफ्ट होना पड़ा। अब मुंबई में मैं नया था, और रहने के लिए ऑफिस वालों ने एक फ्लैट का इंतज़ाम किया।

मुंबई की लाइफस्टाइल मुझे मस्त सूट हो गई। न केवल वाहा के लोगों की वजह से, बल्कि मेरे पड़ोसी की वजह से भी। चलिए आपको मेरे पड़ोसी के बारे में बता दूं। मेरा पड़ोसी एक सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी था, और उसके घर पर उसकी बीवी और बहू रहती थी। उनके बेटे की मौत एक एक्सीडेंट में हुई थी।

भाभी उनके घर उनकी बेटी जैसी ही रहती थी। वो दिखने में कमाल की थी. 39डी स्तन, 32″ कमर और 40″ कूल्हे। मस्त भारी हुई माल थी. मोहल्लों में सब उन्हें ताड़ते थे. खासकर उनकी गांड को. मैं तो उनके बारे में सोच के कई बार रात को हिला लिया करता था।

कुछ ही महीनों में मैं उनसे घुल-मिल गया, और मेरा अक्सर उनके घर आना-जाना लगा रहता था। बात तब की है जब दिवाली के पहले काम के दबाव की वजह से मैं घर नहीं जा पाया। मुझे मुंबई में ही रुकना पड़ा। एक दिन ऐसे ही सुबह घर पे बैठ के मीटिंग चल रही थी, तब अंकल आये। वो पूछे-

अंकल और रोहित की बिच हुई बतलाप – (naukrani ki chudai)

अंकल: बेटा दिवाली में घर नहीं जा रहे हो?

मैं: नहीं अंकल, ऑफिस का प्रेशर बहुत है।

अब अंकल थे बड़े टिप-टॉप, तो वो बोले: कोई बात नहीं हमारे साथ मन लो इस बार। लेकिन घर तो साफ कर लो.

मैं: अंकल टाइम ही नहीं मिल रहा.

चाचा से बोले: मैं बहू को बोलता हूं, वो कामवाली को भेज देगी। तुम टेंशन मत लो.

मुख्य: धन्यवाद अंकल.

और वो मेरी पीठ थपथपा के चल दिये। शाम को करीब 4:30 बजे घंटी बजाओ, तो मैंने दरवाजा खोला। सामने भाभी खड़ी थी, और साथ में उनकी नौकरानी। दोस्तों दोनो को देख के मेरा हाल ख़राब हो गया था। भाभी जितनी गोरी थी, उनकी नौकरानी उतनी काली थी। पर उनका भी बदन भाभी जैसा भरा हुआ था 37डी-36-39। उन दोनों को देख के मेरा 8” का लंड टाइट हो गया था। तभी भाभी बोली-

भाभी: उत्पल ये सोनिया है. ये तुम्हें घर साफ करने में मदद कर देगी। और अगर जरुरत पड़े तो दूसरा काम सारा कर देगी।

ये बोल के अनहोने एक अलग सी स्माइल दी। तभी मैंने काव्य की तरफ देखा तो वो मेरी पैंट पर बने टेंट को देख रही थी अपनी नशीली आंखों से। इसे देख मेरा लंड फड़फड़ाने लगा। और दोनों भाभी और नौकरानी मुझे देख रही थी। मुझे थोड़ी शर्म आई, तो मैंने हाथ से ढक लिया।

भाभी: कोई नहीं, होता है इस उमर में.

बोल के वो चली गई. काव्य अंदर आई और घर देख के बोली-

सोनिया: कहां से शुरू करूं?

मुख्य: एक काम करो, आप किचन से शुरू करो। मैं तब तक अपनी मीटिंग पूरी कर लेता हूं।

सोनिया: ठीक है भैया.

वो सिस्कारियां लेके बात कर रही थी, जो मुझे और उत्साहित कर रहा था। सोनिया एक हरी सूती साड़ी और लाल ब्लाउज़ पेहनी थी। उसकी साड़ी कमर के नीचे थी, जिसकी उसकी नाभि साफ दिखाई दे रही थी। उसका ब्लाउज भी बहुत टाइट था, और स्तन ब्लाउज फाड़ के बाहर आना चाह रहा था। करीब 15 मिनट में मेरी मीटिंग ख़त्म हुई तो मैंने बोला-

मुख्य: आप बेडरूम साफ कर दो, मैं तब तक ड्राइंग रूम की अलमारियों को देख लेता हूं।

सोनिया: ठीक है भैया.

मेरा मन कर रहा था कि अभी इसको पकड़ के चोद दूं, और स्तन मसल दूं। मुख्य हॉल में अलमारियाँ साफ कर रहा था, तभी मेरी नज़र काव्य पर पड़ी। वो अंदर फ्लोर की सफाई कर रही थी, और उसके स्तन का क्लीवेज मुझे पागल कर रहा था।

तभी उसने मुझे देख लिया, और हल्के से अपना पल्लू गिरा दिया, जिसमें मुझे पूरे स्तन की क्लीवेज का दर्शन हो गया। मैंने अपने आप को थोड़ा काबू में किया, और काम करने लगा। अलमारियां साफ़ करके मैं खिड़की के पास जाके सिगरेट पी रहा था। तभी मुझे लगा कोई मुझे देख रहा था।

पीछे मुड़ा तो देखा सोनिया दीवार से मेरा इस्तेमाल किया हुआ अंडरवियर, जिसने मैंने कल रात को मुंह मारी थी, इस्तेमाल कर रही थी, और मेरी तरफ देख रही थी। मैंने उसको देखा तो वो धीरे-धीरे मेरी तरफ आई और बोली-

सोनिया: मुझे परफ्यूम की बोतल देखनी है भैया जी प्लीज।

मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ, और मैं उसको अपनी और खींच कर किस करने लगा। सोनिया मुझे ज़ोर से पकड़ी और मेरी भगवान में कूद पड़ी।

सोनिया: अह्ह्ह अह्ह्ह्ह और करो अह्ह्ह.

मैं उसको होंठ, गर्दन, कान हर जगह किस कर रहा था। तभी उसने मेरे बालों को पकड़ के खींचा और मेरे मुँह में अपनी जीभ डाल दी। थोड़ी देर ऐसे चुंबन करते-करते दोनों पूरे गरम हो गए। तभी काव्य बोल पड़ी-

सोनिया: बेडरूम में ले चलो अपनी इस रंडी को, और इसके रंडी-पने के लिए इसको सज़ा दो। चलो ना प्लीज. मैं पूरी गीली होती जा रही हूं।

मेन यूज़ गॉड में लेके वैसे ही बेडरूम में ले गया, और बिस्तार पे पटाक दिया। काव्य तभी अपनी साड़ी का पल्लू हटाया, और अपना ब्लाउज खोल दिया। जैसा ही उसने ब्लाउज खोला, उसके स्तन बाहर उड़े।

मैं: इतनी गर्मी क्या है तुझे साली, अपना ब्लाउज आते ही खोल दी?

सोनिया: जब से आपके लंड का साइज देखा है, मेरी चूत में खुजली हो रही है।

मैं: हाय मेरी रंडी छिनाल साली.

अब मैं सोनिया के स्तन चुनने लगा, और मसलने लगा। मुझे भी जोश चढ़ा हुआ था, तो मैं उसके बड़े-बड़े स्तनों पर काट भी लेता था।

सोनिया: आह खा जाओ.

मैं: साली कितनी ख़ुशी है तेरे में।

तभी वो अपने स्तनों पर चांटे मारने लगी और बोली-

सोनिया: ऐसे मार मार के चूस कुत्ते भड़के।

करीब 5 मिनट तक उसकी चुचियां को मसलने के बाद मैंने देखा उसकी चुचियां लाल हो गईं। तब मैंने उसकी नाभि में जीभ डाली तो वो मचल उठी, और बेडशीट पकड़ के खींच रही थी। साथ ही साथ सिस्कारियां भी ले रही थी.

सोनिया: आह, क्या मजा दे रहा है कुत्ते.

फिर मैंने उसकी साड़ी फाड़ी, और खींच के खोल दी। पेटीकोट भी उतार दिया. मेरे सामने काव्य पूरी नंगी थी। उसकी चूत में घने काले बाल थे, जो उसकी चूत के पानी से मिल के चमक रहे थे। तभी काव्य उठी और मुझे बिस्तार पे धक्का देके मेरी शर्ट फाड़ दी।

सोनिया: मादरचोद कितना सताएगा? मेरी चूत में कीड़े दौड़ रहे हैं. चाट इसे जल्दी-जल्दी चाट।

और वो मेरे मुँह पे बैठ गयी। उसकी काली चूत में से मस्त खुशबू आ रही थी। मैं उसकी चूत में जीभ डाल दिया, और दर्द से चाटने लगा।

सोनिया: खा जा मेरी चूत आह. ऐसे ही कर.

सोनिया ने मेरे मुँह पे धार कर दिया, जिसका पूरा बिस्तर और मेरा मुँह सब गीला हो गया।

सोनिया: आह्ह्ह्ह, क्या चाटता है साले.

2 मिनट बाद काव्य उठी, और मेरी पैंट उतार दी। फिर मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से सूंघने लगी। उसने अचानक से मेरी गांड को पकड़ा, और अपने मुँह को लंड पे घिसने लगी। फिर उसने मेरा अंडरवियर उतारा, और लंड को पकड़ लिया।

सोनिया: हाय, क्या मस्त लंड है. भाभी सही बोलती थी. तुम्हारा लंड जरूर लंबा और मोटा है. (Naukrani ki chudai)

मैं: भाभी को कैसे पता?

सोनिया: भाभी ने तुझे कई बार घूरते हुए देखा है, और तेरा तन्ना हुआ लंड भी। इसलिए मुझे आज भेजी है और बोली- जा उसके हथियार का टेस्ट करके आजा, ताकि बाद में दोनों मिल के भूल ले सके।

ये बात सुन के मुझे और जोश चढ़ गया कि भाभी भी मुझसे चुदवाना चाहती थी। मुझे जोश चढ़ गया तो मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया।

Book South Ex Escorts Girls for Ultimate Pleasure – Delhi Escorts

Naukrani ki chudai 1

मैं: ले अब चूस मेरा लंड. फिर देख कैसा लगता है चूज़ कर।

सोनिया: उम्म, मस्त है रे लंड तेरा, चॉकलेट जैसा।

फिर कभी वो मेरे लंड को चाटती तो कभी चूस रही थी। मुझे बड़ा मजा आ रहा था. ऐसे ही उसने मुँह से लंड निकाला, और हिलने लगी और नीचे मेरे टट्टो को चुनने लगी।

सोनिया: लौड़े साले पूरा माल भरा है टट्टो में। पूरा पेशाब जाउंगी आज इसे।

अचानक उसने मेरे जोड़े खोले, और लंड को हिलाते हुए गांड में जीभ डाल दी।

मैं: आह्ह, क्या मस्त चाट रही है.

सोनिया: आह्ह्ह्ह तेरी गांड से लेके लंड तक आज सब मेरा है।

मैंने उसका बाल पैडके, और उसके मुँह में लंड पेल दिया, जो उसके गले तक जा रहा था, और मुँह चोदने लगा।

मैं: अगर मैं तेरा हूं, तो तू भी मेरी राखाइल है. ले चूस मेरा मेरा लोडा.

उसके मुँह से लंड निकला तो वो तो मेरे लंड पे थूक दी, और मैंने उसके मुँह पर लंड घिस दिया।

मैं: रंडी साली कुतिया. मुहं खोल बुरचोद.

सोनिया: ये ले डाल मेरे मुँह में. दाल चुटिये.

ऐसे करते-करते 5 मिनट की मुँह चुदाई में मैं उसके मुँह में झड़ गया, और वो रंडी सारा पी गई। फिर भी उसने लंड नहीं छोड़ा और चूस रही है। मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. वो अब मेरे ऊपर आई और बोली-

सोनिया: अब रहा नहीं जाता. डाल दे अपना हथियार मेरे अंदर और मेरी माँ चोद दे। मेरे लौड़े कुत्ते.

मैंने अपना लंड उसकी चूत में सेट किया, और ज़ोर का झटका मारा। इसका पूरा लंड एक ही बार में अंदर तक चला गया। सोनिया इसके लिए तैयार नहीं थी, और वो चीख पड़ी।

सोनिया: आआआआअ मार डाला रे मादरचोद.

मैं: अरे टेस्ट करना था ना तुझे, तो ले पूरा का पूरा टेस्ट कर मादरचोद. फिर तेरी भाभी को भी पूरा टेस्ट बोलना।

इतने में मैंने उसकी गांड में एक उंगली डाल दी।

सोनिया: क्या कर रहा है भड़वे, गांड में उंगली मत कर कुत्ते।

थोड़ी देर ऐसे ही रहा. फिर उसे थोड़ा आराम मिला तो वो गांड हिलाने लगी। तब मैं धीरे-धीरे उसकी चूत मारने लगा, और गांड में उंगली डाल के राखी। मैं स्पीड बढ़ाता गया, और वो सिस्कारियां लेती गई।

सोनिया: आह, ज़ोर से करो आह, मज़ा आ रहा है। तेरी राखैल बनी रहूंगी आज से।

वो पागलों की तरह चुदवा रही थी, जैसे कोई 100 साल की भूखी आत्मा उसके अंदर आ गई हो। मुझे बहुत मजा आ रहा था. फ़िर वो मेरे ऊपर आके बैठ गई। मेरे लंड पे बैठ के वो कूदने लगी. वो मेरे लंड पर ज़ोर-ज़ोर से कूदने लगी, और अपनी चुचियाँ दबाने लगी।

कुछ देर ऐसे ही उछालने के बाद उसका पानी निकल गया। अब मेरा भी होने वाला था, तो मैंने उसको कहा-

मैं: रुक जा मेरी नंगी रंडी, मेरा होने वाला है। बता क्या लेगी?

सोनिया: मुहं में देदे मेरे डाले.

मैंने अपना लंड निकाला, और उसके मुँह पर हिलाने लगा, तो सारा माल उसके चेहरे पे और बालों में झड़ गया। उसका सारा मुँह मेरे माल से भर गया था। उसके बाल बिखर गए थे, काजल भी लिपट गया था।

सोनिया: हाय रे, क्या चोदा है तूने मुझे। साला चूत मार-मार के लाल कर दी है.

फिर वो बाथरूम गई, और वापस आके घर चले गए।

Vidhva Bhabhi ki Chudai > Bhabhi Chudai Ki Kahani > Naukrani ki chudai > Naukrani ki chudai Ki kahani