अपनी चुदक्कड़ गांड मरवाई कॉलेज के बाथरूम में Chudakkad Gand

अपनी चुदक्कड़ गांड मरवाई कॉलेज के बाथरूम में Chudakkad Gand

नमस्कार दोस्तों, मैं रोहित हूं। मैं दिल्ली, South Ex में रहता हूँ। मैं एक गे हूँ. मुझे रंडियों की तरह गांड मरवाने में बहुत मज़ा आता है। 

ये कहानी अपनी Chudakkad Gand मरवाई कॉलेज के बाथरूम की है, मैं बताऊंगा कि कैसे मैंने पहली बार अपनी गांड में लंड लिया और क्या-क्या किया।

मैं थोड़ी मोटी हूं और मेरी गांड विद्या बालन जैसी है। एक दम चुदक्कड़ गांड है मेरी, 

जिसको देख कर किसी का भी मन मचल जाए। अब मैं बिना टाइम वेस्ट किये Hindi Gay Sex Story पर आता हूँ।

मैं प्रथम वर्ष में था, और मेरा चाल-चलन थोड़ा समलैंगिक टाइप था। तो बहुत लोगों ने नोटिस किया या नहीं, मुझे पता नहीं था। 

पर बहुत सारे दोस्त लोगों ने मजाक-मजाक में मेरी गांड पर थप्पड़ मार दिए।

यहां तक ​​कि मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने भी मेरी गांड पर थप्पड़ मारा था। कई लोग मेरी गांड में मुँह भी डालते थे। 

पहले तो मैं सोचता था कि वे सब ऐसे करके मजाक करते थे, पर बाद में मुझे सबकी हवस समझ में आई।

एक दिन कॉलेज के टाइम पर मैंने और मेरे दोस्त ने प्लान किया कि एक क्लास से बंक मारते हैं।

 क्योंकि हमने उस क्लास का काम नहीं किया था। फिर हम क्लास से निकलकर कॉलेज कॉरिडोर में घूम रहे थे। Chudakkad Gand

अब ध्यान आया के प्रिंसिपल भी राउंड पे था, तो हमने टॉयलेट में छुपने की योजना बनाई। हम कॉलेज टॉयलेट में थे, और कोई भी टॉयलेट में नहीं था।

अब हम टॉयलेट में ही बातें कर रहे थे, और मेरे दोस्त शौचालय जाने लगे। अब मैं छुप-छुप कर उसका लंड देखने लग गया। 

मुझे छुप-छुप कर लंड देखते हुए देख के वो समझ गया कि मुझे लंड चाहिए था। फिर थोड़ी देर बाद वो मेरी गांड सहलाने लगा, और मेरी गांड दबाने लगा।

दोस्त: उफ्फ्फ यार, सही गांड है तेरी। पूरी की पूरी लड़कियाँ जैसी गांड है तेरी।

मैं: अच्छा, तो तुम अब क्या करना चाहते हो?

दोस्त: बुरा मत मानना ​​मेरी बात का। लेकिन मैं तुझे जम कर चोदना चाहता हूँ।

उसकी ये जाम कर चोदने वाली बात सुन कर मैं भी हॉर्नी हो गया। फिर मैं उसकी पैंट के ऊपर से ही उसका लंड सहलाने लगा। उसका लंड एक दम कड़क हो गया था।

फिर उसने अपनी पैंट की ज़िप खोली और अपना लंड बाहर निकाल लिया। एक दम काला, और 6 इंच का लंड था उसका, और काफी मोटा भी था। 

फिर मैंने ज़मीन पर घुटनों के बल बैठ कर उसके लंड को चूमा और धीरे-धीरे चाटने लगा। उसके बाद मैंने उसका लंड मुँह में लेकर चूसने लगा। Chudakkad Gand

मेरे लंड चूसने से उसको मज़ा आने लगा, और वो आहें भरते हुए बोला-

दोस्त: उफ्फ, क्या छुपाया है तू, पूरी रंडियों की तरह।

मुख्य: उम्मम्म मम्म्म्म मम्म्म।

मैं भी कराहते हुए उसका लंड चूस रहा था।

दोस्त: आआआह्ह आआआह्ह।

फिर उसने मुझे खड़ा किया, और मुझसे लिपट गया। फिर वो मेरी गांड को दबाने लगा। उसके बाद मैंने अपनी पैंट खोली और उसने मेरा अंडरवियर खोल दिया। 

फिर वो मेरी गांड के छेद में उंगली करने लगा, और अपनी जीभ से चाटने लगा। उसने मेरी गांड के छेद को चाट-चाट कर गीला कर दिया था। फ़िर वो बोला-

दोस्त: उफ्फ्फ यार, क्या टाइट छेद है।

मैं: तो चोद डाल भड़वे अब मेरी इस गांड को। मुझे भी तुझसे रंडियों की तरह चुदना है यार।

दोस्त: आआह्ह साली छिनाल, चोदता हूँ तुझे अभी।

फिर उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर सेट किया, और ज़ोर से अंदर घुसा दिया। Chudakkad Gand

लंड अंदर घुसने से मेरी ज़ोर की आह निकल गयी। शुरू में दर्द हुआ, लेकिन फिर जो मज़ा आया उफ़्फ़।

वो मेरी गांड को थप्पड़ मार-मार कर चोद रहा था। थप थप थप करके आवाज़ आ रही थी, और मेरे मुँह से सिर्फ आआह्ह आआह्ह की आवाज़ आ रही थी।

तभी एक और लड़का जो दूसरे सेक्शन में था, वह आ गया टॉयलेट में, और उसने हमें देख लिया।

 मैं उनको देख कर शॉक्ड हो गया, और मेरा दोस्त भी रुक गया। 20 सेकंड की शांति हो गई थी। मैं डर गया था कि कहीं वो सब को ना बोल दे।

लेकिन वो दूसरा लड़का बहुत हरामी निकला, और वो हमें उस पोजीशन में देख कर अपना लंड निकाल कर हिलाने लग गई। 

उसका लंड भी करीब 6 इंच का था, और एक दम कड़क लंड था। फिर वो लड़का बोला-

वो लड़का: उफ्फ तुम लोग इसकी गांड मारते हो? मुझे तो काफी दिनों से इसको चोदना था। 

क्या मटक-मटक के चलता है ये भड़वा। ले चुस मेरा लंड अब भड़वे.

ये बोल कर उसने अपना लंड मेरे मुँह के आगे कर दिया। फिर मैंने उसका लंड चूसने लगा और मेरा दोस्त मेरी गांड मार रहा था। एक दम रफ चुदाई चल रही थी।

वो लड़का: उफ्फ्फ यार, क्या छुपा है तू भड़वे।

दोस्त: आज ही इसकी गांड की सील तोड़ी है भाई। Chudakkad Gand

वो लड़का: उफ्फ यार, मुझे भी इसकी गांड मारनी है।

फिर उन दोनो ने स्विच किया, और मेरा दोस्त अब मेरा मुँह चोदने लगा, और वो लड़का मेरी गांड चोदने लगा। पूरे शौचालय में थप थप की आवाज आ रही थी।

वो लड़का: उफ्फ्फ क्या टाइट छेद है, और बड़ी गांड है (और मेरी गांड पर थप्पड़ मार-मार कर चोद रहा था)।

फिर ऐसे ही दोनो लड़के मुझे चोद-चोदकर झड़ गए। मेरे दोस्त ने मेरी गांड के छेद में, और उस लड़के ने मेरे मुँह में अपना माल निकाल दिया।

वो लड़का: उफ्फ्फफ्फ़ तेरा मुँह गीला कर दिया रंडी, क्या लंड छुपाया है तू।

दोस्त: सही बोला, और गांड तो देख साले की, चुदाई के समय ट्वर्क कर रहा था। छेद देख कितना बड़ा हो गया आज तेरा भड़वे।

मैं: मुझे ऐसे ही रंडियों की तरह चुदना था। आज मेरी हवस पूरी हुई।

फिर मैंने दोनों के लंड को एक साथ चूसा। उफ्फ्फ इतनी चुदाई हुई कि मैं भी झड़ गया, और मेरी गांड का छेद उस दिन से बड़ा हो गया। 

आज भी वो लोग मिलते हैं मुझे, तो रंडियों की तरह चोदते हैं। Chudakkad Gand

कैसी लगी आपको मेरी कहानी? पसंद आये तो टिप्पणियाँ जरूर करना। 

आप मुझे एक-दम गंदी गालियां भी दे सकते हो। मुझे इस आईडी पर मैसेज करना अगर मुझसे चैटिंग करनी हो तो ( soni4u9@gmail.com )।

अगली Gay Sex Stories Hindi भी डालूंगा, तो तैयार रहो दोस्तों।