Gand Mari Raat Bhar प्रोफेसर ने गांड मारी रात भर Gay Hindi Sex Stories

Gand Mari Raat Bhar प्रोफेसर ने गांड मारी रात भर Gay Hindi Sex Stories

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम अजय है, ये कहानी है मेरी और प्रोफेसर की कैसे उन्होंने Gand Mari Raat Bhar .

तो चलिए ये Hindi Gay Sex Stories शुरू किया जाए।

और मेरे किरायेदारों ने मेरी सील तोड़ दी, और अगले 2 साल मुझे चोदा। लेकिन उनके कॉलेज ख़त्म होने के बाद वो गांव चले गए। 

अब मेरी गांड को चोदने वाला कोई नहीं था। फिर मैं ऐसे ही उंगली करके दिन निकालने लगा, 

और एक दिन मुझे गे डेटिंग ऐप के बारे में पता चला। मैंने लोग-इन किया तो बहुत दिख रहा था एक-दम पास। 

लेकिन मैं डरी हुई था, कि कोई पहचान का होगा, इसलिए मैं किसी से मिली नहीं। मैं बस चैट करता हूं, 

और मेरे से नीचे लड़कों से बातें करता हूं। मैंने आगे आईटीआई पढ़ने के लिए मुंबई से थोड़ा दूर खालापुर में कॉलेज ले लिया, ताकि घर से दूर जाकर लंड ले सकूँ। 

मुझे गांड मराई पूरा 2 साल हो गया था। लेकिन उंगली करके काम चल रहा था। 

फिर कॉलेज में एडमिशन के लिए जाते ही मैंने गे डेटिंग ऐप खोल लिया। 

मैंने देखा यहाँ भी बहुत आईडी ऑनलाइन था, तो मैं खुश था। कॉलेज शुरू हो गया था, और मेरी जिंदगी को एक अलग ही मोड़ मिल गया। 

हुआ कुछ ऐसा कि मैं कॉलेज में ही गे डेटिंग ऐप चलता था, तो वहा बस हमेशा 1 फीट पर एक आईडी दिखता था। 

मुझे लगा कोई स्टूडेंट होगा इसलिए मैंने उसको मैसेज नहीं किया। एक हफ्ता बीत गया, और मुझे बहुत लोग मिलना चाहते थे। 

लेकिन बड़ा मुद्दा था कमरे का, और मैं ऐसे झाड़ियों में यहाँ-वहाँ चुदना नहीं चाहता था। तो मैं ना बोल दे. 

एक दिन मेरी डीपी पर मैंने मेरी गांड की एक सेक्सी तस्वीर लगा दी। अगले दिन जैसे ही कॉलेज गया तो वो जो बस 1 फीट पर दिखता था, 

उसका अचानक मैसेज आया। 

संदेश: हाय, तुम क्रॉसड्रेसर हो क्या? 

मैंने कहा: ये क्या होता है? 

तो वहा से रिप्लाई आया: कोई बात नहीं मैं किसी को नहीं बताऊंगा कि तुम ये सब करते हो। लेकिन कृपया मुझे मिलो। 

मैं तुम्हारे साथ अपनी पत्नी बना कर रखूंगा। पैसे भी दूंगा, बस बदले में मुझे तुम खुश करता रहना। 

मैंने पैसे की लालच में उसको हां बोल दी, 

और कहा: बस ये सब हम दोनो के बीच रहेगा। फिर अवकाश में उनका संदेश आया: डीजल मैकेनिक की वर्कशॉप में फोरमैन का केबिन है। 

वाहा मिलो. मैं हिम्मत करके चला गया, और तभी फोरमैन सर बाहर आए और कहा कि अंदर आ जाओ। 

मैंने बोला: नहीं सर, मैं बस दोस्त का इंतज़ार कर रहा हूँ। आपसे कोई काम नहीं. तभी सर ने बोला: अजय मैं ही दोस्त हूं, जिसका तुम इंतज़ार कर रहे हो। 

मैं चौंक गयी. सर की उम्र 40 से थोड़ी ज्यादा होगी। लेकिन सर एक-दम फिट थे, जैसे कि एक मैकेनिक होता ही है रोज काम की वजह से। 

मैं फिर बिना कुछ बोले केबिन में चला गया, और सर कुर्सी पर बैठ गए। दरवाज़ा बंद था, और सर ने अपना लंड बाहर निकाला। 

सर कुछ बोले, उससे पहले ही मैंने उनका लंड चूसना शुरू किया।

सर बोले: बहुत प्यासे लगते हो, बिना कुछ बोले ही टूट पड़े। मैंने मुँह से लंड निकाला, 

और कहा: हाँ सर पूरे 1 साल से प्यासी हूँ लंड की। और वापस लंड चूसना लगा. मुझे अच्छे से चूसना था, 

तो मैं अपना जादू चलाने लगा। मदहोश हो कर सर बस मेरे मुँह को चोद रहे थे। मेरे मुँह में थूक भर गयी था। फिर मैंने सर को कहा-

मैं: पैंट निकाल दो प्लीज, वरना गंदी हो जाएगी।

सर ने पैंट निकाल दी और मैं फिर से चालू हो गया। कुछ 10 मिनट छूटी रहा, और अचानक सर ने मेरे मुँह लंड पर दबा दिया। 

फिर अपना सारा पानी मेरे मुँह में निकाल दिया। मैंने बिना कुछ बोले सब पी गया और सर का लंड साफ़ कर दिया। 

फिर मैं पास ही था कि बेसिन में मुँह धो रहा था कि सर ने पीछे से पकड़ लिया। 

मैंने कहा: नहीं सर, यह नहीं। कृपया बाहर कहीं करेंगे। मैं आपकी सारी ख्वाहिशें पूरी करूंगी, बस आप किसी को बताना मत। 

मेरे ये कहने से सर खुश हो गए और मुझे एक लिप किस दिया। फिर मैं केबिन से निकल कर क्लास में आ गया। 

उस दिन शुक्रवार था, और कॉलेज को दूसरे और चौथे शनिवार की छुट्टी होती है। तो सीधा सोमवार को कॉलेज आना था।

तभी सर मेरी क्लास के बाहर आ गए और मैडम बोलकर मुझे बाहर ले गयां। मुझे लगा फिर से छोड़ेंगे, लेकिन सर बाहर लेकर गए और कहा-

सर: घर पर बता देना कुछ काम है प्रोजेक्ट का, तो वीकेंड दोस्त के घर पर रहना चाहता हूँ।

मैंने बोला: सर घर वाले नहीं मानेंगे। तो सर ने बोला: पापा का नंबर दो, बात कर लूंगा। पापा प्रिंसिपल की तो बात मानेंगे? 

मैंने कहा: ठीक है, और नंबर दे दिया। सर ने शायद बाद में बात की, और कॉलेज ऑफ होते ही पापा का कॉल आया। 

पापा ने बताया कि कॉलेज से कॉल आया था, कि वर्कशॉप के लिए वहीं रुकना है। 

मैंने कहा: हाँ पापा मैं आपको घर आने वाल था। लेकिन शायद फोरमैन ने आपको पहले ही कॉल कर दी। 

पापा बोले: कोई बात नहीं रुक जाओ। बस टाइम पर खा पी लेना, और ख्याल रखना। मैंने सोचा आगे क्या, और कॉलेज के बाहर ही 1 घंटा खड़ा रहा। 

सब लड़के जा चुके थे, और एक घंटे बाद सर लोग भी घर जाने लगे। तभी फोरमैन सर बाहर आये, और मेरे पास आकर बाइक रोक दी। 

उन्होंने कहा बैठ जाओ, और मैं बिना कुछ बोले सर की बाइक पर बैठ गया। सर सीधा अपने घर लेकर गए, और अंदर जाते ही बोले: नहा लो मैं भी फ्रेश होता हूं। 

सर का घर बहुत अच्छा था 2 बीएचके, लेकिन सर अकेले ही घर में रहते हैं। मैं नंगी होकर नहीं जाऊंगी क्योंकि मेरे पास दूसरे अंडरगारमेंट्स नहीं थे, 

और सोचा सर भी तो उतरेंगे ही, फिर पहन कर क्या मतलब? मैं बाहर नहीं आई, तो सर भी तैयार हो गए थे, और बिस्तर पर एक लाल रंग की साड़ी, और साथ में एक वनपीस ड्रेस पड़ी था। 

मैंने सर को पूछा: ये क्या है? 

तो सर बोले: तुम्हें जो पसंद है पहन लो। मैं तुम्हें लड़की बना कर चोदना चाहता हूँ। मैं थोड़ी शर्मा गया. 

मैंने सर को कहा: सर मैंने ये सब नहीं किया कभी। 

सर बोले: आज से तुम मेरी रश्मि हो, और तुम्हें ये सब पहनना होगा। फिर मैंने वनपीस पहनने का सोचा ताकि ज्यादा दिक्कत ना हो। 

मुझे सारी पहनना तो आता नहीं था। सर बोले: रश्मि मेरे लिए आज की रात सारी पहन लो ना प्लीज। 

आज तो पहली रात है हमारी। 

मैंने सर को कहा: सर मुझे पहनना नहीं आती। सर हँसे और उन्होंने साड़ी ब्लाउज और पेटीकोट उठा लिया। 

फिर मेरे पास आए और एक अच्छा सा लिप किस किया। 

फिर वो बोले: चलो मैं पहन देता हूँ। इसके बाद सर मुझे सारी पहनने लगे। इसके आगे क्या हुआ, आपको Indian Gay Sex Stories के अगले पार्ट में पता चलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *