दोस्त ने की पड़ोस वाली आंटी की चुदाई – Pados wali Aunty ki Chudai

दोस्त ने की पड़ोस वाली आंटी की चुदाई – Pados wali Aunty ki Chudai

आज मैं आप को अपनी X Story Hindi सुनाने जा रहा हु। चलिए जानते है Pados wali Aunty ki Chudai की कहानी – ये कहानी सुनकर आपका भी लंड खड़ा हो जाएगा.

नमस्ते दोस्तों तो कैसे हो आप लोग आशा करते है आप लोग अचे होंगे और हमारी Best Sex Stories in Hindi का मजा ले रहे होंगे।

दोस्तो, मेरा नाम राहुल है. मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 22 साल है और मैं बहुत बुद्धिमान हूँ. मेरी लम्बाई 5 फुट 6 इंच है.

ये सेक्स कहानी अक्टूबर 2019 की है, जब मैं 18 साल का था. हमारे पड़ोस में नीलम नाम की एक आंटी रहती हैं. शहनाज़ आंटी की उम्र करीब 37 साल रही होगी.

आपका फिगर 36-34-38 होगा. आंटी बहुत हॉट और सेक्सी लग रही थीं. उसके बड़े उभरे हुए स्तन मुझे बहुत आकर्षित करते थे. सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि उसके वो खूबसूरत स्तन हर किसी को अपनी तरफ देखने पर मजबूर कर देते थे.

जब भी वह हमारे घर आते थे या मुझे काम के लिए बुलाते थे तो मुझसे बहुत प्यार और मुस्कुराहट के साथ बात करते थे। जब वो सेक्सी मूड में होता था तो अपने हाथ इधर उधर घुमा कर मुझे चिढ़ाता था.

उसने मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछकर मेरा मज़ाक उड़ाया… जबकि मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी। हालाँकि मुझे भी उसकी बातें अच्छी लगती थीं. उसके इस तरह के सेक्सी व्यवहार से मुझे बहुत मजा आता था.

त्योहार से 5 दिन पहले चाची घर की सफ़ाई कर रही थीं. उसी समय उसने मुझे सामान उतारने के लिए ऊपर वाले कमरे में बुलाया. उस वक्त उन्होंने लाल रंग की ड्रेस पहनी हुई थी.

जिसमें उसकी चुचियों की लाइन साफ़ दिख रही थी. मैं उसकी चुचियों को देख रहा था और उसने देख लिया कि मैं उसकी चुचियों को देख रहा था.

जल्द ही, वह बाथरूम गई और नीले रंग की पोशाक पहनकर वापस आई, जिसमें से मैं उसके बड़े स्तन और भी स्पष्ट रूप से देख सकता था।

उसे देख कर मेरा 6.5 इंच लम्बा लंड खड़ा हो गया. उसकी नज़र मेरे खड़े लंड पर थी.

जिस कमरे में हम थे उसमें सामान की अधिकता के कारण बहुत कम जगह थी। जब भी आंटी कुछ खरीदने आतीं तो अपना सीना मेरे सीने पर रख देतीं और चली जातीं।

हालांकि ऐसे में बचते-बचाते एक रास्ता तो बचता ही है, भले ही स्तनों को मसल दिया जाए, लेकिन ऐसा तमाशा करना मजबूरी है।

लेकिन जब भी आंटी मेरा साथ छोड़तीं, तो वह जानबूझकर अपने स्तनों को मेरी छाती से रगड़ने की अधिक कोशिश करतीं। इससे मुझे पता चल गया कि आज चाची का मूड अलग है.

बातों-बातों में वो आंटी के स्तनों को भी छू लेता था, कभी-कभी छू लेता था। चाची भी हंस रही थी. मैं समझ गया कि आज लाइन क्लियर है. कुछ देर तक काम ऐसे ही चलता रहा. (उसने पड़ोसन आंटी को चोदा)

आंटी की बड़ी गांड देख कर मेरे लंड का बुरा हाल हो गया था. मैं बार-बार अपने लिंग को ठीक करता रहा।

मामी बोलीं- क्या हुआ?

मेंने कुछ नहीं कहा!

फिर आंटी बोली अरे बताओ ना?

मैंने कहा- नहीं चाची.. कुछ नहीं.

आंटी झुक कर कुछ सामान उठाने लगीं और मुझे उनकी काली काली चूची दिख गयी. फिर जैसे ही वो उठी तो मैंने उसे दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और उसके चूचों को जोर-जोर से दबाने लगा.

बीवी की सहेली की चुदाई 1

उसने कहा: क्या कर रहे हो?

मैंने कहा- आंटी मुझे माफ़ कर दो.. प्लीज़ आज मुझे मत रोको।

चाची ने मुझे धक्का दिया और बोलीं- मैं तेरी मां को बताऊंगी.

उसका रूप बदलता देख मैं बहुत डर गया और वहां से भाग गया. उस दिन मुझे चिंता हो रही थी कि कहीं सेक्स स्टोरी तो नहीं हो गई.. चाची को मेरी मां को बता देना चाहिए, नहीं तो घर में मेरी पिटाई होगी।

फिर दोपहर तक ऐसा ही चलता रहा और रात को मैं ये सोचते सोचते सो गया कि आज तो मैं बच गया, कुछ नहीं हुआ.

सुबह चाची ने मुझे ऊपर बुलाया.

मैंने जाते ही उनसे माफी मांगी- आंटी, कल के लिए मुझे माफ कर दीजिए.

आंटी ने कहा: कोई बात नहीं.

आंटी कल से भी ज्यादा सेक्सी लग रही थीं. आंटी फिर हंस पड़ी और बोली- आज तुम मुझे देख नहीं रहे हो, क्या मैं आज अच्छी नहीं लग रही हूँ?

मैंने उनसे कहा- नहीं आंटी, आज आप बहुत अच्छी लग रही हैं. आप कल से बेहतर दिख रहे हैं.

इस बारे में उन्होंने कहा: अगर तुम्हारे चाचा को ये सब नहीं दिखता तो इन सबका मतलब ही क्या है?

इस पर मैंने उनके कंधे पर हाथ रखा और कहा- मैं आपके साथ हूं चाची.

मेरा सहारा पाते ही वह रोने लगा.

मैंने उससे कहा- तुम मुझे बहुत पसंद हो.

मामी बोलीं- अच्छा लगा तो क्या हुआ.. मैं सुन्दर नहीं हूँ।

फिर मैंने उनसे कहा- चाची आप बहुत खूबसूरत हो … अपनी स्ट्रीट में नंबर वन हो.

आंटी ने मुझसे पूछा- क्या मैं तुम्हें सेक्सी लगती हूँ?

मैंने कहा- हाँ बहुत, चाची (मैंने पड़ोस वाली चाची को चोदा)।

जब उन्होंने अपने होंठ मेरी तरफ बढ़ाये तो मुझे लगा कि शायद आज आंटी पहल कर रही हैं, अब मेरी सेक्स कहानी बन जायेगी. मैंने भी अपने होंठ उसकी तरफ बढ़ा दिये. चाची ने आँखें बंद कर लीं. फिर मैंने उसे दीवार से टिकाया और उसके होंठों पर ज़ोर से चूमा।

पहले तो उसने थोड़ा विरोध किया.. लेकिन 2 मिनट बाद उसने भी विरोध करना बंद कर दिया। अब वो सूट के ऊपर से अपनी चुचियाँ दबा रही थी.

मैंने उसकी शर्ट उतारने की कोशिश की, लेकिन टाइट होने के कारण वह नहीं उतरी। आंटी की बड़ी चुचियों की वजह से ये आउटफिट बहुत टाइट था.

आंटी हंस कर बोलीं- धीरे-धीरे उतारना है क्या?

मैंने उसे फाड़ दिया तो बोली- तुमने मुझे चोट पहुंचाई है ना?

फिर मैंने उसके निपल्स को अपने मुँह में ले लिया और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा। उनका रंग बहुत गोरा था. उसने सफ़ेद स्तनों को चूस-चूस कर लाल कर दिया था।

फिर मैं धीरे-धीरे उसके पेट को चूमने लगा। जैसे ही मैं उसकी सलवार का नाड़ा खोलने लगा तो वो बोली- कोई आ जायेगा.

फिर मैंने कहा: घर पर कोई नहीं है.

और मैं नीचे से तुम्हारा दरवाजा बंद करने आया हूं.

आंटी ने कहा- प्लीज ये बात किसी को मत बताना!

मैंने कहा: आंटी, आपकी कसम मेरे अकेले रहने तक कायम रहेगी.

मैंने जल्दी से आंटी का नथ खोला, नीचे देखा तो पाया कि उनकी टांगों के बीच की गुफा में कुछ बाल थे, जो भूरे रंग के थे।

इसके बाद उसने मेरे भी सारे कपड़े उतार दिये. कुछ देर बाद मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा और उसकी पैंटी भी उतार दी.

फिर मैं बिना कुछ सोचे नीचे बैठ गया और उसकी चूत को चाटने लगा, जिससे उसे बहुत मजा आया. गरम लड़की जोर जोर से सिसकने लगी.

उसने उत्तेजित होकर मेरा सिर दबा दिया. मैं अपना सर उसकी चूत में पूरा घुसेड़ देना चाहता था.

मेरे लगातार चूत चूसने से उसकी चूत गीली हो गयी थी और कभी भी झड़ सकती थी। मैंने अभी भी चूत चूसना बंद नहीं किया है (मैंने पड़ोस वाली आंटी को चोदा)।

जिन लोगों ने शादीशुदा औरतों की चूत चाटी है उन्हें पता होगा कि चूत चूसने का एक अलग ही मजा होता है.

7 से 8 मिनट तक लगातार चूत चूसने के बाद आंटी ने मुठ मार कर चुदाई की. उसने ढेर सारा पानी डाला और थोड़ी देर के लिए शांत हो गया।

कुछ देर बाद उसने मेरी पैंट खोल दी और मेरा लंड मेरे अंडरवियर में आतंक मचा रहा था. आंटी ने मेरे लंड को अंडरवियर से बाहर निकाला और जब देखा तो उनकी आंखों में आंसू आ गए.

चाची के मुँह से निकला, ‘बाप रे बाप… ये तो बहुत बड़ा है…’.

मैं हंसा- ये तो आपका है चाची.

उसने मुझसे पूछा- क्या करता है? तुम्हारा लिंग इतना बड़ा कैसे हो गया? अगर ये मेरे अंदर घुस गया तो मेरी पूरी चूत को बर्बाद कर देगा. तेरे चाचा का पतला है.

ये कह कर वो फर्श पर बैठ गयी और मेरे लंड को ऐसे चूसने लगी जैसे कोई लॉलीपॉप हो.

दोस्तो, यकीन मानिए… वो मेरा पहला अनुभव था। बस 2 मिनट में ही मैं आंटी के मुँह पर स्खलित हो गया.

उसने ‘छी…’ की आवाज निकालते हुए मेरा लिंग अपने मुँह से निकाला और जल्दी से उसे कपड़े से साफ करने लगी।

मुझे अपने आप पर बहुत शर्म आ रही थी और जब वह मेरी तरफ आई तो मैं उससे नजरें नहीं मिला पा रहा था।

उन्होंने मुझसे कहा, चिंता मत करो, तुम्हारा हथियार मजबूत है, लेकिन यह पहली बार था इसलिए तुमने जल्दी से अपने कंधे उचकाए। अब आएगा असली मजा (पड़ोसी आंटी को चोदा)

फिर मैंने आंटी की चूत को फिर से चाटना शुरू कर दिया. मुझे आंटी की चूत चाटने में बहुत मजा आ रहा था. थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

चाची ने मुझसे कहा- बेटा, अब मुझसे मजाक मत करो.. जल्दी से इसे मेरे अन्दर डाल कर इसकी सारी गर्मी मिटा दो।

फिर उसने खुद ही अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत के मुँह पर रखा और मुझे अन्दर डालने के लिए कहा.

मैं उस पल के अहसास को कभी नहीं भूलना चाहता, जब मैंने धीरे-धीरे अपने लंड को चाची की चूत की गहराई तक उतारा था; जैसे मैंने उसकी चूत में नहीं बल्कि किसी गर्म भट्टी में अपना लंड डाल दिया हो.

GPWTuu4WoAAyg1

जैसे ही मैंने लंड अन्दर डाला, आंटी के मुँह से एक मीठी आह निकली, जिसमें एक आरामदायक दर्द था.

फिर मैंने धीरे-धीरे अपने धक्को की स्पीड बढ़ा दी और आंटी की चीखें अब कामुक सिसकियों में बदल गयी थी। अब वो भी अपने चूतड़ हिला कर मेरा साथ दे रही थी.

करीब 5 मिनट की ज़ोरदार चुदाई के बाद वो एक तेज़ आह के साथ झड़ गई, लेकिन मैंने रफ़्तार बरकरार रखी, इसलिए उसकी चूत के पानी की मीठी फ़च फ़च आवाज़ ने हमारी चुदाई की खूबसूरती और बढ़ा दी।

15 मिनट तक लगातार चोदने के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और फुल स्पीड से उसकी चूत को चोदा। मैंने भी अपनी आखिरी बूंद आंटी की चूत में गिरा दी.

जब मैं उसके ऊपर से हटा तो मैंने देखा कि उसकी चूत से मेरे लंड का तरल पदार्थ टपक रहा था।

चाची बोलीं- मुझे अभी तुम्हें बहुत कुछ सिखाना है.

फिर हम दोनों बिस्तर पर चले गये. उन्होंने आधे घंटे तक आराम किया.

लेकिन मैं संतुष्ट नहीं था इसलिए मैंने आंटी को टेबल पर झुकने को कहा. मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और फिर उसे चोदने लगा. करीब 10 मिनट तक मैं उसे ऐसे ही चोदता रहा.

फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड पर रखा और जोर से धक्का मारा.

इससे मेरा 4 इंच लंड अन्दर घुस गया और आंटी जोर से चिल्लाने लगीं. अत्यधिक दर्द के कारण वो मुझसे दूर हटने लगी, लेकिन मैंने उस पर अपना दबाव बनाए रखा और उसकी चुचियों को दबाता रहा.

कुछ पल बाद मैंने फिर जोर से धक्का लगाया. इस बार मेरा पूरा लंड उसकी गांड में घुस गया. एक बार फिर गंदगी शुरू हो गई. आंटी को भी गांड में लंड पाकर राहत महसूस होने लगी और मजा भी आने लगा.

मैं करीब 15 मिनट तक जोर जोर से चोदता रहा और आंटी को भी बहुत मजा आने लगा. मैं उनकी मस्ती भरी आवाजों में खोया हुआ था और आंटी की आवाज मुझे आनंद दे रही थी (मैंने पड़ोसी आंटी को चोदा)।

चाची- उम्म्ह… अहह… हय… ओह… आह माँ मर गई… आह.

सेक्सी आंटी बहुत मधुर आवाजें निकाल रही थी. वह उसके बड़े नितंबों पर थप्पड़ भी मार रहा था, जिससे वह और भी अधिक कामुक हो गई थी।

इसी बीच उसने पानी की एक और छड़ी छोड़ दी थी. कुछ ही देर में मैं भी झड़ने वाला था. दस धक्कों के बाद मैंने सारा वीर्य उसकी गांड में छोड़ दिया.

हम दोनों टेबल पर लेट गये और किस करने लगे. दस मिनट बाद हम दोनों ने कपड़े पहने और मैं अपने घर आ गया।

अगले 2 महीनों में मैंने कई बार उसकी चूत और गांड मारी। इसके बाद उन्होंने अपना घर मुंबई शिफ्ट कर लिया। अब मैं समय-समय पर उनसे फोन पर बात करता रहता हूं।’

नमस्ते मेरे दोस्तों मेरा नाम सोनी राइ है।  अगर आप सभी को हमारी Aunty Ki Chudai Ki Story अछि लगी है तो आप हमे Comments मे बता सकते है। आगे आप को हमारी Daily Post की Update चाइये होतो आप हमे Twitter पर Follow कर सकते ह।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *