Padosan Bhabhi Ki Chut Chudai पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई

Padosan Bhabhi Ki Chut Chudai पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई

अन्तर्वासना के सभी दोस्तों को नमस्कार, Padosan Bhabhi Ki Chut Chudai की यह मेरी पहली कहानी है इसलिए अगर कोई गलती दिखे तो कृपया मुझे माफ कर देना। मेरा नाम विकी है. मैं भोपाल का रहने वाला लड़का हूं. मैं दिखने में बहुत अच्छा हूँ और मेरे लंड का साइज 8 इंच है.

यह मेरी पहली कहानी है इसलिए कोई गलती हो तो माफ कर देना। ये घटना तब की है जब मैं करीब 19 साल का था. उस समय हमारे पड़ोस में एक मस्त भाभी रहती थी. उसका नाम सुनीता था. उनके पति नौकरी करते थे, जो सुबह जाते थे और सीधे रात को वापस आते थे. मस्तानी भाभी की उम्र करीब 30 साल थी और उनका फिगर बहुत मस्त था.

भाभी के मम्मे 36 इंच के थे, कमर 30 की और गांड इतनी उभरी हुई थी कि जो भी एक बार उनको देख ले, उसका लंड तुरंत खड़ा हो जाए. मैं जब भी भाभी को देखता था तो उनके नाम से मुठ मारता था. मेरे और मेरी भाभी के बीच बहुत मेलजोल था. वह अक्सर मुझसे कुछ न कुछ काम करने के लिए कहती रहती थी.

एक दिन उसने मुझसे कहा- विकी भैया, मुझे बाज़ार जाना है, क्या आप मुझे ले चलोगे? मैंने कहा- हां क्यों नहीं भाभी … चलो. फिर वो बोली- रुको, मैं 5 मिनट में तैयार हो जाती हूँ. फिर 5 मिनट बाद उसने मुझे आवाज दी- चलो, मैं तैयार हूं. मैंने सोचा- भाभी, आप तो आज तैयार हैं, लेकिन मैं तो आपको चोदने के लिए कब से तैयार हूँ.

यही सोच कर मैं बाहर आ गया और भाभी की तरफ देखने लगा. भाभी बहुत मस्त लग रही थीं. मुझे इस तरह अपनी तरफ घूरता हुआ देख कर भाभी बोलीं- क्या हुआ… तुम मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो… क्या तुम्हें मुझमें कोई कमी दिख रही है? मैंने जवाब दिया- भाभी, मुझे आपमें कोई कमी नहीं दिखती, यही तो दिक्कत है. मुझे छेड़खानी करते देख भाभी हंस पड़ीं और बोलीं- अब इस नौटंकी को छोड़ो और जल्दी जाओ. वापस भी आना है.

Padosan Bhabhi Ki Chut Chudai

पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई

भाभी मेरे करीब आईं और मैंने उन्हें अपने पीछे बैठने का इशारा किया. भाभी अपनी गांड उठा कर सीट पर बैठ गईं. भाभी ने बैठते ही मेरे कंधे का सहारा लिया और बैठते समय उनका शरीर मेरी पीठ से रगड़ गया. इस समय तक मैं सुन्न हो चुका था. मैंने बाइक आगे बढ़ा दी. हम बाइक पर निकल पड़े. भाभी ने बाजार जाकर कुछ सामान खरीदा और एक दुकान से अपने बेटे के लिए चॉकलेट खरीदी. फिर हम घर की ओर चल पड़े.

जब हम आधे रास्ते तक पहुंचे तो भाभी ने मुझसे सवाल पूछा- विकी, तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं? मैंने कहा- भाभी, आप क्या पूछ रही हैं? भाभी बोलीं- इसमें शर्माने की कोई बात नहीं है … तुम मुझे बता सकते हो. मैंने इस बात से इनकार कर दिया कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

भाभी बोलीं- क्यों नहीं? क्या तुम्हें कोई नहीं मिला? मैंने कहा- हां, आप बस इतना समझ सकते हैं कि अभी तक आपकी तरह का कोई मिला ही नहीं. भाभी बोलीं- तुम क्या चाहते हो? मैंने कहा- भाभी मुझे आपके जैसी कोई चाहिए.. मुझे अब तक आपके जैसी कोई नहीं मिली। इस पर भाभी बोलीं- मुझमें ऐसा क्या खास है?

मैंने कहा- भाभी, आपमें तो हर बात खास है.. सच में भैया बहुत भाग्यशाली हैं कि उन्हें आप जैसी पत्नी मिली। तब भाभी बोलीं- ठीक है सर.. लेकिन पहले ये बताओ कि तुम्हें मुझमें ऐसा क्या खास दिखता है.. बताओगे? मैंने कहा- रहने दो भाभी. भाभी ने जिद करते हुए कहा- बताओ यार?

मैंने कहा- आपका फिगर.. आपका चेहरा सब कुछ बहुत बढ़िया है. उसने कहा- अच्छा, क्या तुम्हें मेरा फिगर पसंद है? ये कह कर भाभी हंस पड़ीं. अब तक हम दोनों घर पहुंच गये थे. फिर उसने कहा- चलो.. प्लीज़ मेरा सामान अन्दर रख दो।

मैं सामान अन्दर रखने चला गया. जब मैं अपना सामान रख कर निकल रहा था तो भाभी बोलीं- चॉकलेट तो खा लो. मैंने कहा- ठीक है भाभी, ले आओ. फिर मैंने कहा- भाभी, आप भी खाओ.

पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई

तो वह मेरे पास आई। भाभी ने चॉकलेट मेरे मुँह में रख दी और अपने होंठ मेरे होंठों से लगा कर चॉकलेट खाने लगीं. जैसे ही उसने ऐसा किया तो मेरी सांसें थम गईं. मैं हैरान था, लेकिन चुपचाप उनका साथ दे रहा था. भाभी के गर्म होंठों से मुझे भी बहुत गर्मी महसूस होने लगी.

पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई 4

फिर 5 मिनट के बाद मैंने भी उसे चूमना शुरू कर दिया. उसके बाद उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने स्तनों पर रख दिया और अपने ब्लाउज के ऊपर से दूध दबाने लगी. करीब दस मिनट तक ऐसा ही चलता रहा, फिर भाभी की चूत चुदाई के लिए बेचैन होने लगी तो वो मुझसे अलग हुईं और बोलीं- चलो, कमरे में चलते हैं।

मैं भाभी को लेकर उनके बेडरूम में आ गया. कमरे में घुसते ही मैंने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और उसे चूमना शुरू कर दिया. फिर मैंने उसकी साड़ी उतार दी और ब्लाउज के ऊपर से उसके मम्मे दबाने लगा. कुछ मिनट तक ऐसा करने के बाद मैंने भाभी का ब्लाउज और पेटीकोट खोल दिया.

अब भाभी मेरे सामने सिर्फ गुलाबी ब्रा और पैंटी में रह गयी थीं. मैंने भाभी को बिस्तर पर लिटाया और उनके ऊपर आ गया. मैं उसे किस करते हुए उसके मम्मों को दबाने लगा. अब तक भाभी भी वासना से भर चुकी थीं. वो बिस्तर से उठी और अपनी ब्रा और पैंटी उतार कर फेंक दी.

इसके बाद भाभी ने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिये. हम दोनों बिल्कुल नंगे थे. मेरा लंड छत की तरफ मुँह करके खड़ा था. बिस्तर पर लेटते हुए भाभी बोलीं- आओ मेरे राजा … खा जाओ मेरी इस जवानी को. ये सुनते ही मैं भाभी के ऊपर चढ़ गया और उनके मम्मों को दबाने और चूसने लगा.

भाभी मेरे बालों को सहला रही थीं और कह रही थीं- आह चूसो मेरे राजा … खा जाओ इन्हें … आह और जोर से चूसो. फिर मैं थोड़ा नीचे आया और उसके पेट को चूमते हुए उसकी चूत तक पहुंच गया. पहले मैंने उसकी चूत पर किस किया और फिर उसके आस पास किस किया.

पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई

भाभी कराहते हुए बोलीं- विकी, अब मुझे इतना मत तड़पाओ… चूसो… खा जाओ मेरी चूत को… बहुत परेशान करती है… साली को लंड भी नहीं मिलता. यह सुनकर मैं थोड़ा चौंक गया, फिर मैंने अपना मुँह भाभी की चूत पर रख दिया। भाभी की चूत पहले से ही गीली थी.

जैसे ही मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर रखी, उसने मेरा सिर अपनी चूत में घुसा लिया. मैं भी उसकी चूत को चाटने लगा. भाभी मादक सिसकारियाँ लेते हुए कह रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… ओह… हाँ ऐसे ही चूसो… आह और तेज़… हाँ खा जाओ, हाँ और तेज़..

वो जोर जोर से मेरे सिर को अन्दर धकेलने लगी. फिर उसे चरमसुख हुआ और मैंने उसकी चूत का सारा रस पी लिया। क्या मस्त स्वाद था यार, मजा आ गया. तभी भाभी खड़ी हो गईं और मुझे बिस्तर पर धक्का देकर घुटनों के बल बैठ गईं. अब वो मेरा लंड चूसने लगी. भाभी लंड चूसते हुए कह रही थीं- कितना बड़ा लंड है तुम्हारा… तुम्हारे भैया का तो इसका आधा भी नहीं है… उनका तो चोदने का मन ही नहीं करता, आज तो तुम मेरी चूत फाड़ ही डालोगे.

भाभी बड़े मजे से लंड चूसने लगीं. भाभी मेरा लंड ऐसे चूस रही थीं जैसे कोई बच्चा लॉलीपॉप चूसता है. कुछ मिनट तक लंड चुसवाने के बाद मैंने भाभी को बिस्तर पर लिटाया और उनकी टांगें फैला दीं. मैं अपना लंड हिला कर उसकी टांगों के बीच आ गया और उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई 5

मेरी मस्तमौला भाभी बिन पानी की मछली की तरह तड़पने लगी थी. वो कराहते हुए बोली- मेरे राजा, अब अपनी भाभी को और मत तड़पाओ.. जल्दी से अपना लंड अपनी भाभी की चूत में डाल दो। मैंने भी भाभी को ज्यादा तड़पाना उचित नहीं समझा और बस अपना लंड उनकी चूत के छेद पर रखा और एक धक्का दे दिया.

इस पहले ही जोरदार धक्के में मेरा आधा लंड भाभी की चूत में घुस गया. तभी भाभी की जोर से चीख निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… ओह… भाभी दर्द से बोलीं- आह विकी… बहुत मोटा है… मर गई… जल्दी बाहर निकालो इसे… आह बाहर निकालो इसे .

पड़ोस वाली भाभी की चूत चुदाई

मैं पूरी तरह से भाभी पर हावी हो गया और उन्हें चूमने लगा. उसके स्तन दबाने लगा. कुछ देर बाद उसका दर्द कम हुआ तो मैंने एक और जोरदार धक्का लगा दिया. इस बार मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया. फिर मैं कुछ देर तक भाभी के ऊपर ही लेटा रहा. भाभी के सामान्य होने के बाद मैंने धक्के लगाना शुरू कर दिया.

अब भाभी भी नीचे से गांड उठा-उठा कर चुदाई करवा रही थीं और बोल रही थीं- आह और जोर से चोदो मुझे … हां ऐसे ही … तुम्हारा लंड मेरी चूत को पूरा खोद रहा है … आह. यह क्रम 30 मिनट तक चलता रहा. उसके बाद मैंने कहा- भाभी, मैं आ रहा हूँ, कहाँ निकालूँ? भाभी बोलीं- मेरी चूत में ही झड़ जाओ, बहुत दिनों से सूखी पड़ी है.

फिर 5-6 धक्को के बाद मैं भाभी की चूत में ही स्खलित हो गया और उनके ऊपर ही लेट गया. इसके बाद मुझे हमेशा भाभी की चूत चोदने को मिलने लगी. कुछ दिन बाद उसकी गांड चोदने की चाहत भी बढ़ने लगी. मैं आपको अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा कि मैंने भाभी की गांड कैसे चोदी.