Sali Ki Chudai Ki Kahani – साली की खेत में कमरतोड़ चुदाई

Sali Ki Chudai Ki Kahani – साली की खेत में कमरतोड़ चुदाई

हाय, कैसे हो दोस्तों? मैं सुमित दिल्ली का रहने वाला हूं। आज पहली बार कुछ लिखने जा रहा हूँ साली की खेत में कमरतोड़ चुदाई। Sali Ki Chudai Ki Kahani

ये मेरी और मेरी छोटी साली नेहा के Hindi X Stories है। अच्छी लगे तो कमेंट करके बताना। 

मेरी शादी शहर में हुई थी। पत्नी का नाम अनीता है जो तीन बहनों में से दूसरे नंबर पर है। बड़ी अनीता और छोटी नेहा। 

ये उन दिनों की बात है जब मेरी शादी को अभी कुछ दिन ही हुए थे। जिंदगी बहुत रंगीन चल रही थी. मेरी बीवी बहुत मस्त माल है। 

फिगर 36-30-34 का, और पूरा मज़ा देती थी। उधर नेहा 19 में ही 32-28-34 की थी। देखने में ऐसा लग रहा था जैसे बुद्धू का भी लंड झटके मारने लगे, बेहद खूबसूरत। 

और मैंने भी बीवी को उसके ही घर में पूरी-पूरी रात चोदा। जब वापस आने लगे, 

तो नेहा बोली: जीजू मुझे भी आपका घर देखने जाना है। 

सासू माँ बोली: इसे भी ले जाओ, कुछ दिन अपनी दीदी के साथ रह लेगी। 

मैंने बोला: ठीक है. अनीता ने भी बोला: ले चलते हैं। और वो हमारे साथ आ गयी. गाँव में उसे अलग कमरे में शिफ्ट कर दिया। 

हम तो Sali Ki Chudai के बिना रह ही नहीं सकते थे। पर कुछ दिनों बाद अनीता को पीरियड्स आ गए। एक दिन मैं घर पर ही था, तो नेहा बोली-

नेहा: जीजू चलो आपके खेत देखने चलते हैं।

अनीता बोली: इसे ले जाओ, मेरी सेहत ठीक नहीं। मैंने नेहा को ट्रैक्टर पर बिठाया और खेतों में ले गया। कोई 11 बजे का समय था, और गर्मी के दिन थे। 

तो गर्मी में दोपहर को बाहर कोई नहीं होता। मैंने नेहा को वहा कुछ सब्ज़ी और फल तोड़ के दिए। वहा खेतों के बीचो-बीच एक कमरा है जिसमें पंखा और बिस्तर भी है। 

कभी-कभी रात को पानी देना होता है फसल को, तो वहीं रहते हैं। अभी एक दिन पहले ही पानी दिया था, तो अभी भी नाले में पानी था। 

मैंने नेहा को बोला: मैं अभी आता हूँ। तुम जाओ अंदर कमरे में पंखा चला के थोड़ा बैठो। फिर चलते हैं। फिर मैं थोड़ा काम करने लगा और नेहा कमरे की तरफ चल पड़ी। 

अभी थोड़े कमरे से बाहर ही थी कि वो पानी वाले नाले में फिसल के गिर गई। उसने पंजाबी सूट-सलवार पहना था, जो पूरी तरह कीचड़ में लट्ठ-पट्ठा हो गया। 

Sali Ki Chudai Ki Kahani

मैं उठा के ले जा रहा था, और उसकी गांड और स्तन दबाने का मौका मिल गया। मैंने नेहा को अन्दर बिठाया और बोला-

मैं: मैं पानी चला देता हूँ। तुम ट्यूबवेल के नीचे होके अपने कपड़े और खुद को साफ कर लो। दोपहर का समय है, वैसे भी कोई नहीं आएगा। 

वो फिर बोली: ठीक है जीजू, तुम जाओ। मैं जाने की बजाए पानी चला के गन्ने के खेत में छुप गया।

नेहा बाहर आई और पानी में उतर गई, और पूरी तरह भीग गई। मिट्टी तो उतर गई, पर हुस्न बाहर आ गया। 

पतला सूट भीग कर जिस्म से चिपक गया। नीचे पहननी काली पैंटी और सफेद ब्रा साफ दिखने लगी। 

मेरे से ये नज़ारा देख के कंट्रोल नहीं हुआ. फिर मैंने लंड बाहर निकाला, और हाथ से ही नेहा के नाम का पानी निकाल दिया। 

तब तक नेहा भी पानी से निकल के अंदर चली गई। कोई 2 मिनट ही हुए थे. मैंने सोचा कि अब मैं अंदर जाता हूं। क्या देखता हू कि नेहा बाहर आई। 

हाथों में उसका सूट-सलवार था, और खुद ब्रा पैंटी पहनने वाली थी। फिर उसने अपना सूट सलवार बाहर घास पे डाल दिए, जब तक मैं बाहर आ गया। 

मेरा लंड दोबारा रॉड बन गया। नेहा मुझे देख के भाग के अंदर चली गई। मैंने भी कुर्ता पायजामा पहन रखा था, जो मैंने बाहर ही उतार दिया, और सिर्फ अंडरवियर में अंदर चला गया। 

मुझे देख के नेहा खुद को छुपने की नाकाम कोशिश करने लगी। 

नेहा: जीजू क्या कर रहे हो? बाहर रुको थोड़ी देर. आपने कपड़े क्यों उतारे? 

मैं: नेहा क्यों छुप रही हो? आओ बाहर आओ. तुम ही तो बोलती हो कि मेरी आधी घरवाली हो। पति से क्या शर्माना.

नेहा: जीजू मत करो, मुझे शर्म आ रही है। मैं वापस मुदा और दरवाजा बंद किया। 

नेहा: जीजू क्या कर रहे हो? कृपया दरवाजा खोलो। तब तक मैं नेहा के पास पहुंच गया। मेरा अब खुद पर भी नियंत्रण नहीं था। 

नेहा ने मेरी तरफ पीठ कर ली। मैंने पैंटी से पकड़ के उसको पीछे खींच लिया, और बाहों में भर लिया। उसने अपने एक हाथ से पैंटी और एक से ब्रा पकड़ी थी। 

जैसे ही मैंने अपने हाथ आगे से उसके स्तन के नीचे किया, नेहा दोनो हाथ से मेरे बाजू को पकड़ के हटाने लगी। इससे मुझे मौका मिल गया। 

मैंने पहले ब्रा की हुक खोली। फिर पीछे से पैंटी नीचे खींच दी। मैंने अपनी भी अंडरवियर नीचे की, और पीछे से नेहा को चिपका दिया। 

लंड खुद बा खुद गांड की दरार में घुस गया, और मैं उसे कानों के नीचे गले पर छूने और चाटने लगा। इसे नेहा कुछ ढीली पड़ गई। मैंने पीछे से नेहा को उठा लिया और बिस्तर पर ले गया। 

सिंगल बेड पर वो उल्टी ही ले गई, और स्तन छुपा लिए। पर इस पर वो पूरी घोड़ी जैसी बन गई। क्या गोरी मोती और गोल गांड थी नेहा की। 

मैंने पीछे से उसकी चूत पर उंगली फेरी। वो झट से उछल के सीधी हो गई। फिर मैं भी उसके ऊपर चढ़ गया, और ब्रा निकाल दी। 

उसने अपने निपल्स हाथो से छुपा लिए। मैंने भी पहले उसको किस करना शुरू किया था गालों पर, गले पर, होठों पर, और नीचे लंड भी चूत को छेद रहा था। 

उसने एक हाथ चूत पर रखा, और उसे ढक लिया। इसके निप्पल आज़ाद हो गए। मैंने उंगलियों से निप्पल खींचे और घुमाने लगा,

और एक हाथ से उसकी चूत से हाथ हटाया और चूत को रगड़ने लगा। उसकी चूत अब गीली हो रही थी। मैं समझ गया कि अब उसका भी मन चुदाई का था। 

मैंने अपनी मिडिल फिंगर चूत में डाल दी। अब नेहा ने अपने दोनो हाथ नीचे करके बिस्तर की चादर पकड़ ली। 

मैंने भी निप्पल मुँह में लेके खूब चूज़ किया, और बूब्स को हल्का-हल्का काटा भी। फिर मैं उठा, और नेहा की टांगो को खोला, और नीचे बैठ गया। 

उसकी चूत पर हल्के-हल्के बाल थे। मैंने चूत पर किस किया, और चारो तरफ चाटा, और फिर चूत के ऊपर जीभ फेरने लगा। 

नेहा की चूत बिल्कुल सीलबंद टाइट चूत थी, जो अब पूरी रसीली हो गई थी। मैंने चाटते हुए जीभ अंदर डाल दी। नेहा एक पल के लिए चीख पड़ी। 

फिर आंखें बंद करके ले गई। मैंने जीभ अंदर-बाहर की, और उसका जूस निकालने लगा। अब मैं उठा और नेहा की तांगे ऊपर उठा ली। 

फ़िर लंड चूत पर रगड़ा. नेहा अब खामोश थी। उसकी खामोशी Meri Chudai की इजाज़त थी. मैंने लंड चूत के छेद पर सेट किया, और एक झटका दिया। आधा लंड अंदर चला गया, और वो चिल्लाने लगी

नेहा: हाय जीजू, चोदो मुझे।

उसकी आँखों से आँसू निकल आये। मैंने अपना लंड अंदर ही रहने दिया और झुक के निप्पल चूसने लगा। कुछ देर स्तन चूसने के बाद जब नेहा थोड़ा शांत हुई, तो दूसरा झटका दिया। 

अब पूरा लंड अंदर चला गया। बहुत टाइट चूत थी और उसमें से खून निकल रहा था। वो रो रही थी, पर अब मैं रुक नहीं रहा था। 

मैंने अब लागातार अंदर-बाहर करना चालू रखा। कुछ देर बाद हाय हाय आह आह में बदल गई, और नीचे से गांड भी उछालने लगी। 

नेहा की जवानी और हुस्न इतना कमाल था कि एक बार हाथ से करने के बाद बजूद भी जल्दी पानी निकल गया। मैंने भी अंदर ही पानी छोड़ दिया। 

नेहा का भी जूस पूरा निकल गया। मैं उसके ऊपर ही लेट गया। कुछ देर बाद मैं उठा, और अपना लंड और उसकी चूत दोनो साफ किये। 

नेहा की सील टूट गई थी अपने जीजू के लंड से। हम दोनो घर गए तो अनीता ने हालात देख के पूछा कि क्या हुआ। 

तो नेहा ने बोला: मैं गिर गई थी, और मेरी टांग पर चोट लग गई। उसने सब राज़ रखा, और मेरा साथ दिया, और आगे के लिए रास्ता खुला रखा। मेरी साली संग Hindi Sex Stories With Pictures कैसी रही जरूर बताना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *