चचेरी बहन की गुलाबी चूत की चुदाई – Chacheri Bahan Ki Chudai

चचेरी बहन की गुलाबी चूत की चुदाई – Chacheri Bahan Ki Chudai

हेलो दोस्तों आज की हिंदी सेक्स कहानी है Chacheri Bahan Ki Chudai पर।

इस Bhai Bahan Sex Story को शुरू करने से पहले बता दू की मैं दिल्ली, पश्चिम विहार से ये कहानी लिख रही हूँ। दिल्ली शहर बहुत खूबसूरत है।

चलिए X Story Hindi शुरू करते है।

मेरे चाचा का घर बेंगलुरु में हमारे घर के पास है और घर पर उनकी तीन बेटियाँ और एक बेटा है।

मैं आपको एक बार अपने तीन चचेरे बहनो के बारे में बता दूं। उनकी सबसे बड़ी बेटी का नाम सोनी है, वह मुझसे एक साल बड़ी है और 6 महीने पहले ही उसकी शादी हुई है।

मेरी दूसरी चचेरी बहन का नाम रानी है। रानी 22 साल की हैं. वह बहुत सुंदर है। उसका फिगर 34-28-36 होगा. रानी का शरीर पूरी तरह से क्षत-विक्षत हो गया है।

उसकी छाती पर आम के आकार के दो स्तन हैं, जिन्हें देखकर उसे बस दबाने और पीने का मन हो जाता है।

तीसरी चचेरी बहन का नाम नैना है. नैना 20 साल की हैं. वह अभी छोटी है लेकिन रानी से भी ज्यादा खूबसूरत दिखती है।

उसके स्तन थोड़े छोटे हैं लेकिन जो चीज उसे सबसे ज्यादा काजल करती है वह है उसकी गांड।

उफ्फ्फ… क्या गांड है, बहुत सुंदर. जब तुम अपनी गांड उघाड़ कर चलोगी तो किसी का भी लंड सांप की तरह तुम्हारी गांड के छेद में घुसने के लिए मचलेगा.

मेरे चाचा का सबसे छोटा बेटा अरुण है, जो नैना से करीब पांच साल छोटा है. यह कज़िन सेक्स स्टोरी मेरे और रानी के बीच सेक्स के बारे में है.

चूँकि मैं भी एक मस्तमौला इंसान हूँ इसलिए मेरी और रानी की अच्छी बनती है।

यह घटना करीब सात महीने पहले की है. यानी बमुश्किल एक महीने पहले उनके चाचा की बेटी काजल की शादी थी.

काजल की शादी तय हो चुकी थी और घर में तैयारियां चल रही थीं।

हमने शादी के कार्ड भी बांटने शुरू कर दिए. कार्ड वितरण कार्य मैं भी उन लोगों की मदद कर रहा था.

एक तरफ चाचा कार्ड बांटने जा रहे थे और दूसरी तरफ मैं परिवार के अन्य सदस्यों को कार्ड बांटने जा रहा था.

मेरी चचेरी बहन रानी ने कहा कि उसे भी अपनी सहेलियों के घर कार्ड बांटने जाना है. चाचा ने अपनी बेटी रानी से कहा- अजय को अपने साथ ले जाओ.

मैं और मेरी चचेरी बहन रानी दोनों जाने के लिए तैयार हो गये। दोपहर करीब 3 बजे मैं और रानी कार्ड बांटने के लिए निकले। उस दिन रानी ने जींस और टाइट ब्लाउज पहना हुआ था.

उस दिन वो बहुत सेक्सी लग रही थी और उसी दिन मैंने अपनी चचेरी बहन को पहली बार गंदी और कामुक नजरों से देखा था.

जब मैं बाइक पर बैठा था तो वो मेरे बहुत करीब बैठी थी इसलिए उसके मम्मे मेरी पीठ से छू रहे थे.

उसकी चुचियों के टकराने से मेरा लंड खड़ा हो गया था. जब उसके स्तन मेरी पीठ पर लगे तो मुझे भी मजा आया। हम ऐसे ही बातें करते रहते हैं.

जब भी स्पीड ब्रेक आती तो मैं जानबूझ कर ब्रेक नहीं लगाता. इससे उसके स्तन मेरी पीठ से बिल्कुल चिपक जाते थे. वो मेरी पीठ से चिपक जाता था.

मेरी बहन भी शायद समझ गई थी कि मैं जानबूझ कर ब्रेक नहीं लगा रहा था. वह कुछ नहीं बोल रही थी.

कुछ देर बाद हम बेंगलुरु शहर पहुंचे. हमने उसके दोस्तों को शादी के कार्ड दिए और फिर शाम करीब 7 बजे वापस जाने लगे।

आते समय मैंने वैसा ही किया. उसने अपने स्तन मेरी पीठ से सटाये हुए थे। मेरा लिंग पूरे समय खड़ा ही रहा.

मुझे बहुत मजा आ रहा था लेकिन वो पूरे रास्ते कुछ नहीं बोली. हम लगभग आठ बजे घर पहुँचे।

Chacheri Bahan Ki Chudai
अगर आप ऐसे की गुलाबी चूत का मजा लेना चाहते होतो आप Delhi Escorts की सेक्सी लड़किया बुक कर सकते है

अगले दिन, मुझे और मेरे चचेरे भाई को बैंगलोर से दिल्ली के लिए निकलना था।

रानी की दो सहेलियाँ दिल्ली में रहती थीं। वह उसकी बहुत खास दोस्त थी. रानी ने मुझे अपने साथ आने को कहा. अगले दिन हम सुबह जल्दी निकल गये क्योंकि हमें लम्बी दूरी तय करनी थी।

यहां आपको बता दें कि बेंगलुरु और दिल्ली के बीच कुछ दूरी पर एक सुनसान इलाका है। रेलगाड़ियाँ चलती रहती हैं लेकिन बहुत कम चलती हैं। हम दोनों एक ही इलाके से गुजर रहे थे.

जब से हम घर से निकले मुझे लगा कि मेरे चचेरे भाई का मूड बदल गया है।

आज वो मेरे बहुत करीब बैठी थी. पहले दिन जब हम बेंगलुरु गए तो जब मैं बाइक चला रहा था तो उसने अपना हाथ मेरे कंधे पर रखा, आज उसने वही हाथ मेरी कमर पर रख दिया।

इस बारे में सोचकर मैं भी काफी इमोशनल हो गया। उसका सिर भी मेरे कंधे पर टिका हुआ था.

वह उससे ऐसे लिपट कर बैठी थी जैसे कोई दुल्हन अपने प्रेमी से लिपट कर बैठी हो. उसके स्तनों के बारे में सोच कर और उसके स्तनों के अहसास से मेरा लिंग भी खड़ा हो गया।

आज मैंने एक और बात नोटिस की: जब भी बाइक ब्रेक लगाती, तो रानी मेरे शरीर से चिपक जाती।

किसी तरह दिल्ली में कार्ड पहुंचाने के बाद हम बेंगलुरु लौट आए।

जब से हम सुबह निकले थे, मुझे भूख लग रही थी. यहां रानी ने कहा कि वह जब भी शहर आती हैं तो शॉपिंग भी करती हैं.

मैं उससे सहमत था. लेकिन मैंने कहा, चलो पहले कुछ खा लेते हैं फिर शॉपिंग करेंगे। वह भी मेरी बात से सहमत थी.

मेरी बहन ने कहा कि पास में एक दोस्त का कमरा है। चलो वहाँ चलकर कुछ देर आराम करते हैं। मैं थक गई हूं। मैंने कहा- मैं भी सुबह से साइकिल चलाकर थक गया हूं.

हम अपने दोस्त के कमरे में ही कुछ खाना ऑर्डर करेंगे। उन्होंने इससे इनकार भी नहीं किया.

उसने अपने दोस्त को फोन किया और अपने दोस्त के कमरे की चाबी ले ली। चाबी लेकर हम उसके दोस्त के कमरे में चले गए।

कमरे में पहुंच कर हमने खाना ऑर्डर किया. इसके बाद वे दोनों शांत होने लगे. मैं हाथ-मुँह धोकर बाहर आया तो वो शीशे के सामने अपने बालों में कंघी कर रही थी।

उस वक्त मेरी चचेरी बहन इतनी सेक्सी लग रही थी मानो किसी फिल्म की हीरोइन किसी सीन की तैयारी कर रही हो. न जाने अचानक मेरे मन में तूफ़ान उठ गया.

उसे देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया और मैंने उसके पीछे जाकर उसे अपनी बांहों में ले लिया.

मेरे हाथ सीधे उसकी चुचियों पर चले गये. जब तक वो संभलती, मेरे हाथ उसकी चुचियों को कई बार दबा चुके थे.

रानी आगे आई और बोली- क्या कर रहे हो अजय? मैं तुम्हारी बहन जैसी हूं. यह सब ग़लत है मैंने कहा: बहन की तरह रहो। क्या तुम बहन नहीं हो? वैसे भी मैं तुम्हें बहुत पसंद करने लगा हूँ.

ये कह कर मैं फिर आगे बढ़ गया. मैंने उसकी गर्दन पकड़ी, अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये और उन्हें चूसने लगा।

वह फिर पीछे हट गई. उसने आश्चर्य से मेरी ओर देखा. उसने मेरी आँखों में देखा और फिर मेरी पैंट में तने हुए मेरे लंड को देखा।

उसके बाद मैंने उसे वापस अपनी ओर खींच लिया और उसके होंठों का रस पीने लगा. अब वो भी रिश्ते की मर्यादा भूल गई और मेरा साथ देने लगी.

वह जानता था कि वह भी वासना से भरी हुई थी लेकिन वह बस दूर जाना चाहती थी।

हम दोनों पागलों की तरह किस कर रहे थे. मेरे हाथ उसके नितम्ब दबा रहे थे। हमने पांच मिनट तक एक दूसरे को ऐसे ही चूसा और फिर दरवाजे की घंटी बजी.

हम अलग हुए और जब दरवाज़ा खुला तो खाना आ चुका था। डिलीवरी मैन उसे खाना देकर वापस लौट आया।

मैंने खाना मेज पर रख दिया क्योंकि अभी मुझे खाने की नहीं बल्कि वासना की भूख थी.

मैं वापस उसके पास गया और उसके कपड़े उतारने लगा. अगले दो मिनट में वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में खड़ी थी.

उसके कपड़े उतारने के बाद मैंने भी जल्दी से अपने कपड़े उतार दिए और सिर्फ अंडरवियर में आ गया.

मेरा सात इंच से ज्यादा का लिंग मेरे अंडरवियर से बाहर आने को तरस रहा था। उसने तुरंत मेरा अंडरवियर ऊपर कर दिया.

मैं रानी के पास गया, उसे अपनी गोद में उठाया, पास के बिस्तर पर पटक दिया और उसके ऊपर चढ़ गया। चूमते-चूमते में उसकी ब्रा उतारने लगा।

मेरे अंदर इतनी वासना जाग चुकी थी कि मैं जल्द से जल्द उसके सारे कपड़े उतार देना चाहता था. लेकिन उसकी ब्रा के हुक नहीं खुले.

जब उसकी ब्रा उतारने में देर हुई तो मैंने जोश में आकर ब्रा उसकी तरफ फेंक दी और उसे फाड़ दिया, जिससे उसके स्तन नंगे हो गये। उसके आम जैसे स्तन एकदम से उछल कर बाहर आ गये. मैं उन्हें देख कर पागल हो गया और उन पर टूट पड़ा.

मैंने झट से उसके एक चूचे को मुँह में ले लिया, दूसरे को हाथ से दबाया और पहले को चूसने लगा।

दो मिनट बाद वो भी सिसकने लगी. फिर मैंने दूसरे चूचे को मुँह में ले लिया और पहले वाले को हाथ से दबाने लगा.

मेरी बहन सेक्स की आग में जल रही थी, अब वह और भी गर्म हो गई थी और मेरी पीठ सहलाते हुए अपने स्तन चुसवाने का आनंद लेने लगी थी।

कुछ देर तक उसके मम्मों को चूसने के बाद मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी पर रखा तो पाया कि वो गीली है. मैंने उसकी पैंटी उतार दी.

जब मैंने अपनी चचेरी बहन की चूत देखी तो देखता ही रह गया. क्या मस्त चूत थी साली की. उसकी चूत पर छोटे छोटे बाल थे. उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी.

मैं करीब 10 मिनट तक उसके होंठों को चूसता रहा और वो अपने हाथों से मेरे सिर को अपनी बुर में दबाती रही.

जल्द ही उसकी चूत ने रस छोड़ दिया, जिसे मैं पूरा पी गया. अजीब सा नमकीन स्वाद था, लेकिन वासना की आग में सब अच्छा लग रहा था.

उसके बाद मैं उठ गया. रानी मेरे सामने बिस्तर पर पूरी नंगी लेटी हुई थी और जोर-जोर से हाँफ रही थी। उसके बाद मैंने भी अपना लंड आज़ाद कर दिया.

मैंने अपना अंडरवियर उतार कर एक तरफ फेंक दिया, अपना मुलायम लिंग उसकी गीली बुर पर रखा और उसकी बुर में पेल दिया। रानी चिल्लाई- माँ उम्म्ह… अहह… हय… मर गई!

मजा तो तब आया जब मेरा लंड मेरी चचेरी बहन की सीलबंद चूत में घुसा. उसका बिल बहुत टाइट था. मैं जल्दी में नहीं था. बल्कि धीरे धीरे उसकी चूत को चोद रहा था. वो भी फिर से सिसकने लगी.

मैं थोड़ा जोर से धक्का लगाता तो वो उछल पड़ती. शायद उसे तकलीफ़ हो रही थी. लेकिन अभी तक मैंने अपना आधा लंड ही उसकी चूत में डाला था. मैं अपना पूरा लंड उसकी बुर में घुसा देना चाहता था.

मैंने छोटा सा मौका देखकर और जोर से धक्का मारा तो वो चिल्ला पड़ी और मुझे पीछे धकेलने लगी. वो बोली- वापस निकाल लो यार, बहुत दर्द होता है.

लेकिन मैं तो जैसे स्वर्ग में पहुंच गया था. अब बोझ हटाना संभव नहीं था. मैं उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठों को चूसने लगा. मैंने अपना पूरा लंड उसकी बुर में घुसा दिया था.

पांच मिनट बाद उसका दर्द थोड़ा कम हुआ तो मैंने अपना लिंग अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। कुछ देर बाद उसे भी मजा आने लगा और वो भी सिसकारियां लेते हुए मजे लेने लगी.

आआह्ह्ह्ह.

वो बोली- और जोर से चोदो मुझे, बहुत मजा आ रहा है. मेरा टिकट फाड़ दो. मैंने भी उसे गाली देते हुए कहा- हां रांड,

आज मैं तेरी चूत को चोद चोद कर इसका भोसड़ा बना दूंगा. तुम्हारी बुर में बहुत खुजली हो रही थी.

उसने कहा- हाँ, आज इसकी सारी खुजली मिटा दो यार… आह… चोदो मुझे, और जोर से चोदो… अपने चाचा की छोटी बेटी को चोदो!

मैं उसे तेजी से चोदने लगा. अब वह भी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी. करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया.

मैंने उसकी बुर को सारे वीर्य से भर दिया और उसके ऊपर लेट गया। मैं काफी देर तक वैसे ही पड़ा रहा. थोड़ी देर बाद मैं उठा और फ्रेश होने चला गया.

जब मैं वापस आया और उसे फ्रेश होने के लिए कहा तो उसने कहा- मैं नहीं जाऊंगी. फिर मैंने उसे उठाया और बाथरूम में ले जाकर नहलाया.

मैंने जाते ही कहा- चलो, अब जल्दी से तैयार हो जाओ। हमेँ घर जाना हे। इसके बाद हमने खाना खाया और वहां से निकल गये. रास्ते में मैंने उसे गर्भ निरोधक गोलियाँ दीं।

One thought on “चचेरी बहन की गुलाबी चूत की चुदाई – Chacheri Bahan Ki Chudai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *