Bhabhi Ki Chut ki Chudai – भाभी की चूत की चुदाई

Bhabhi Ki Chut ki Chudai – भाभी की चूत की चुदाई

हेलो दोस्तों आज की हिंदी सेक्स कहानी है Bhabhi Ki Chut ki Chudai पर।

इस Free Hindi Sex Story को शुरू करने से पहले बता दू की मैं दिल्ली, पश्चिम विहार से ये X Story Hindi लिख रही हूँ। दिल्ली शहर बहुत खूबसूरत है।

चलिए Hindi X Story शुरू करते है।

ये बात 2 महीने पहले की है जब मैं इंजीनियरिंग के दूसरे साल में था. मेरी परीक्षा चल रही थी. फिर माँ और पिताजी काम पर बाहर जाने वाले थे, इसलिए मैं घर पर अकेला रहता था।

मम्मी पापा के जाने के बाद मम्मी ने फोन करके बताया कि रिया भाभी आ रही हैं.

माँ ने कहा कि तुम्हें घर पर ही रहना चाहिए और कहीं बाहर नहीं जाना चाहिए।

जब मेरी माँ ने मुझे बताया कि मेरी भाभी आ रही है तो मैं बहुत खुश हुआ।

फिर शाम को 6:00 बजे हमारी भाभी हमारे घर आईं. मैंने दरवाज़ा खोला तो देखा सामने रिया भाभी खड़ी थीं. वह बेहद हॉट और सेक्सी लग रही थीं.

भाभी ने काली साड़ी पहनी हुई थी. दोस्तों आप सभी तो जानते ही होंगे कि काली साड़ी में गोरा बदन कितना हॉट लगता है.

तभी मेरी भाभी अंदर आई और मुझे देखते ही मुझसे लिपट गई. मेरी भाभी के 36 साइज़ के उभरे हुए स्तन मेरे पास आ गये।

मैं आपको बताना भूल गया कि मेरी भाभी और मेरे बीच बहुत अच्छा और मस्ती भरा रिश्ता है। ( Bhabhi Ki Chut ki Chudai )

मैंने भाभी से कहा- भाभी, आप हाथ-मुंह धो लें, मैं आपके लिए कॉफी बना कर लाता हूं.

उसने मुझे गाल पर चूमा और कमरे में आ गया.

मैंने हम दोनों के लिए कॉफ़ी बनाई और भाभी को आवाज़ दी- जल्दी आकर कॉफ़ी पी लो, नहीं तो कॉफ़ी ठंडी हो जाएगी.

भाभी ने बाहर आकर बताया कि उनके पति यानि मेरे भाई ने फोन किया है और वो देर से आई हैं.

हम दोनों ने साथ में बैठ कर कॉफ़ी पी. भाभी ने मेरी बनाई कॉफ़ी की तारीफ़ की और कहा कि तुम बहुत अच्छी कॉफ़ी बनाते हो.

मैंने जवाब दिया कि ये सब मैंने आपसे ही सीखा है. उसके बाद हमने कुछ देर बातें की और रात के आठ बज चुके थे.

रात के खाने के लिए मैंने भाभी से कहा- चलो कहीं बाहर चलते हैं।

भाभी बोलीं- ठीक है तो फिर किसी फाइव स्टार होटल में चलते हैं.

मैंने कहा- ठीक है.

हम तैयार होकर डिनर के लिए होटल गये. हमने वहां जाकर डिनर किया और मैंने वेटर से वाइन भी ऑर्डर की.

जब भाभी ने वाइन ऑर्डर करने से मना कर दिया तो मैंने वाइन ऑर्डर कैंसिल कर दिया.

हम बाहर निकले और कार में बैठ गये. मैं चलने लगा तो भाभी ने मुझसे कहा- वोदका के शॉट्स ले आओ.

मैं गया और वोदका के शॉट्स लिये।

उसके बाद हम घर लौट आये.

घर आकर मैंने भाभी को एक गिलास में वोदका दी. पीने के बाद हम दोनों को नशा सा होने लगा.

उसके बाद भाभी ने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?

मैंने कहा: मुझे आज तक आप जैसा कोई नहीं मिला.

भाभी बोली- तुम बहुत शरारती हो.

अचानक बाहर बिजली कड़की और भाभी आकर मुझसे लिपट गईं. उसके स्तन मेरी छाती से लगे. मैंने कहा- क्या हुआ भाभी?

वो बोली- मुझे डर लग रहा था इसलिए मैंने तुम्हें गले लगा लिया.

उसके बाद हम दोनों सोने के लिए अपने-अपने कमरे में चले गये। मैं अपने कपड़े बदल रहा था तभी बिजली फिर से गिरी।

भाभी दौड़ कर मेरे कमरे में आ गयी और मुझे पीछे से पकड़ लिया. मैंने अपनी शर्ट उतार दी थी और मेरी छाती पूरी नंगी थी.

जब भाभी के मुलायम हाथ मेरी छाती पर लगे तो मेरे अंदर एक सिहरन सी दौड़ गई।

मैंने भाभी को अपने से अलग किया.

भाभी बोली- क्या मैं आज रात तुम्हारे कमरे में सो सकती हूँ? मुझे अपने कमरे में बहुत डर लगता है.

मैंने कहा- ठीक है भाभी.

वो बोली- मुझे भाभी मत कहो. रिया, तुम्हारा मुँह अच्छा लग रहा है। ( Bhabhi Ki Chut ki Chudai )

मैंने कहा- ठीक है. मैं तुम्हें भाभी नहीं कहूँगा.

उसके बाद मैं नहाने के लिए बाथरूम में चला गया. जब मैं बाहर आया तो रिया भी नहाने के लिए बाहर मेरा इंतजार कर रही थी.

Bhabhi Ki Chut ki Chudai img

उसने अपने शरीर पर तौलिया लपेटा हुआ था. जो उसके घुटनों के ऊपर तक पहुंच गया. इसके बाद वह बाथरूम में चला गया।

जब वो बाहर आई तो उसके भीगे हुए मम्मों का क्लीवेज आप देख सकते थे. उसके बाल उसके स्तनों पर फैले हुए थे। इसके बाद वह अपने कमरे में चला गया.

मैंने अपना नाइटगाउन पहना और अपने लैपटॉप पर काम करने लगी। कुछ देर बाद रिया मेरे कमरे में आई और उसने अपने शरीर पर अधोवस्त्र पहन रखा था।

वो किसी पोर्न मूवी की हीरोइन जैसी लग रही थी. मैं उसे देखता रहा.

वो बोली- क्या देख रहे हो तुषार?

मेंने कुछ नहीं कहा।

उसके बाद मैंने लाइट बंद कर दी और हम दोनों सोने लगे. बहुत दिनों के बाद मुझे नींद आयी.

तभी रात के करीब 12 बजे मुझे महसूस हुआ कि कोई मेरे लिंग को सहला रहा है।

जब मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि रिया मेरे लिंग पर अपना हाथ फिरा रही है। मेरे लिंग में तनाव आ गया.

इससे पहले कि मैं कुछ कहता, रिया मेरे करीब आई और बिस्तर पर लेट कर मेरे होंठ चूसने लगी।

वो मुझे कभी गालों पर तो कभी गर्दन पर चूमने लगी. वह एक हाथ से मेरे लिंग को सहलाती और दबाती रही जिससे मेरा लिंग पूरा खड़ा हो गया और मेरे अंदर का वासना का राक्षस जाग उठा।

मैंने रिया को फर्श पर गिरा दिया और उसे बेतहाशा चूमने लगा. मैंने उसका अंडरवियर उतार दिया और उसने मेरी शर्ट उतार दी, जिससे मेरी छाती नंगी हो गई। ( Bhabhi Ki Chut ki Chudai )

हम दोनों काफी देर तक किस करते रहे. रिया नंगी थी. मैं उसका बदन देख कर पागल हो गया. नंगी होने के बाद उसके 36 वर्षीय स्तन और भी अविश्वसनीय लग रहे थे।

उसकी चूत पूरी गर्म हो चुकी थी. उसकी चूत बहुत टाइट लग रही थी.

मैंने उससे पूछा: तुम्हारी चूत इतनी टाइट कैसे है?

वो बोली- तेरे भाई ने मेरे साथ कुछ नहीं किया. शादी के तीन दिन बाद ही वह लंदन में काम करने चले गए।

इसलिए मेरी चूत ऐसी ही रहती है. तुषार बहुत गरम हो गया है… अब तुम ही इसे ठंडा कर सकते हो!

वो मेरे नितंब के ऊपर से ही मेरे खड़े लंड को चूमने लगी. ऐसा लग रहा था जैसे वो बहुत दिनों से मेरे लंड की प्यासी थी. वो उसे प्यार से चूम रही थी.

मेरा लिंग पूरी तरह से खड़ा था और फटने को तैयार लग रहा था। भाभी ने मेरे लिंग को नीचे के ऊपर से चूमते हुए मेरे भूरे नीचे को पूरा गीला कर दिया. लेकिन वह मेरे लिंग को पागलों की तरह प्यार करती थी।

मैं पीछे से उसकी गांड दबा रहा था. वो उसके बूब्स भी दबा रहा था. फिर उसने मेरे निचले हिस्से को खींच लिया और मेरे शॉर्ट्स के ऊपर से मेरे लिंग को अपने दांतों से पकड़ लिया।

उसने उसे अपने दांतों के बीच लिया और काटने लगा। वह मुझे लंड की दीवानी लग रही थी. फिर उसने मेरा शॉर्ट्स भी उतार दिया और मेरे लंड को नंगा कर दिया.

मेरा खड़ा लंड देख कर वो उस पर टूट पड़ी. उसने उसे अपने मुँह में डाला, एक बार चूसा और अपनी आँखें बंद कर लीं।

आह्ह … उसकी इस हरकत से मेरी भी आंखें बंद हो गईं. फिर उसने मेरे लंड को पूरा अपने गले में ले लिया. मेरा लंड उसकी लार से गीला हो गया.

जब मेने अपना लिंग बाहर निकाला तो वह बहुत जोर से धड़का। फिर उसने मेरे अंडकोष को भी अपने मुँह में ले लिया.

मैं पागल होने लगा. उसने उन्हें अपने मुँह में डाल लिया और आगे-पीछे करने लगी । मुझे अपनी भाभी के गर्म मुँह में अविश्वसनीय आनन्द मिल रहा था।

कुछ देर तक मेरे लिंग के साथ कामुक खेल खेलने के बाद रिया ने उसे पकड़ लिया और अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

बहुत अच्छा! क्या अहसास था वो… वो काफी देर तक मेरे लंड को मजे से चूसती रही और मुझे भी मजा देती रही.

उसके बाद मैंने रिया को लिटाया और उसकी चूत में अपना लंड रख दिया और रगड़ने लगा.

मेरे ऐसा करने से वो पागल होने लगी और जोर-जोर से आवाजें और कामुक कराहें निकालने लगी- आह… करो… अब क्यों रुक रहे हो… तुषार, चोद दो मेरी चूत को… उफ. ( Bhabhi Ki Chut ki Chudai )

मैंने धीरे से लंड को उसकी चूत के मुँह पर रखा और एक धक्का दे दिया. मेरा लंड उसकी चूत में फंस गया. रिया उछल पड़ी.

केवल लिंग का सिर ही अंदर घुसा था. फिर मैंने उसे एक और धक्का दिया और रिया ने मुझे पीछे धकेल दिया और लिंग को बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन मैंने उसे बाहर नहीं निकाला.

वो बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत दर्द हो रहा है तुषार, प्लीज एक बार बाहर निकाल लो.

मैंने फिर भी लंड बाहर नहीं निकाला और एक आखिरी धक्का मारा और पूरा लंड रिया की चूत में घुस गया. उसने रोना शुरू कर दिया।

मैंने अपने होंठ उनके होंठों पर मजबूती से रख दिए और उन्हें चूस कर चुप कर दिया। और तो और मैं भाभी के उठे हुए मम्मों को भी दबाता रहा.

थोड़ी देर बाद वह चुप हो गया. फिर मैंने उसकी चूत को चोदना शुरू कर दिया. थोड़ी देर बाद उसे मजा आने लगा.

मैं फिर से जोर जोर से धक्के लगाने लगा. जब वो सेक्स का पूरा मजा लेने लगी तो मैंने उसकी टांगों को पकड़ कर ऊपर कर दिया और जोर जोर से उसकी चूत को चोदने लगा.

मैंने नीचे देखा तो चादर पर खून की बूंदें टपक रही थीं, लेकिन मैंने उस वक्त भी चोदना जारी रखा. थोड़ी देर बाद रिया जोर जोर से आवाजें करते हुए कामोन्माद में आ गई. फिर तीन-चार धक्कों के बाद मैं भी स्खलित हो गया।

जब मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला तो उसकी चूत से खून और वीर्य दोनों निकल रहे थे. मैंने भाभी की सीलबंद चूत खोल दी थी.

रिया भाभी अभी भी कुंवारी चूत लेकर घूम रही थी इसलिए वो मेरे लंड से चुदने के लिए बेकरार थी. आज मैंने भाभी की इच्छा पूरी कर दी थी और उनके चेहरे पर ख़ुशी के भाव आ गये थे.

उस रात मैंने रिया को सुबह चार बजे तक चोदा. मैंने उसकी चूत की सील भी तोड़ दी. सुबह तक हम दोनों थक गई और फिर सो गई ।

सुबह जब मैं उठा तो वह बिस्तर पर नहीं थी. मैं किचन में गई तो देखा कि उसने मेरी टी-शर्ट पहन रखी थी. उसकी जांघों पर कुछ भी नहीं था. उसकी जांघें बिल्कुल नंगी थीं. ( Bhabhi Ki Chut ki Chudai )

वहां का नजारा देख कर मैं फिर से उत्तेजित हो गया. सेक्सी भाभी मेरी टी-शर्ट और पैंटी में और भी खूबसूरत लग रही थीं. शर्ट के नीचे उसकी पैंटी भी दिख रही थी.

उसकी नंगी जाँघें देख कर मेरा फिर से उसकी चूत चोदने का मन करने लगा और मैंने जाकर उसके बूब्स पकड़ लिये।

फिर मैंने वहीं किचन में रहते हुए उसकी चूत की चुदाई की. मैंने वहां भी खूब मजे किये. वो हमारे घर पर 6 दिन तक रुके और हम दोनों ने खूब मस्ती की.

इस तरह मैंने अपनी खूबसूरत रिया भाभी की कुंवारी चूत को चोद कर उन्हें सुख दिया और उनकी चूत का मजा भी लिया.

One thought on “Bhabhi Ki Chut ki Chudai – भाभी की चूत की चुदाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *