देसी भाभी को चुदाई

देसी भाभी को चुदाई

दोस्तो, मेरा नाम संजु है. मैं एक छोटे शहर से हूं. मेरी यह नई सेक्स कहानी इस बारे में है कि मैंने अपनी मौसी की बहू यानी अपनी देसी भाभी को चुदाई, कैसे मैंने उसे पटाया और चोदा. अभी कुछ महीने पहले ही बुआ के बेटे की शादी हुई थी.

मैंने भाभी के पीछे कई दिन गुजार दिए. वह उसे प्रभावित करने की पूरी कोशिश कर रही थी लेकिन अभी तक उसे कोई सफलता नहीं मिली थी। मैं और भाभी हमेशा फोन पर बात करते थे. मैं भी उनसे खूब मजाक करता था.

एक दिन मैंने मजाक में भाभी से कहा कि मैं आपके साथ सेक्स करना चाहता हूं. भाभी बोली- भैया, आप क्या कह रहे हैं? नहीं, ऐसा नहीं हो सकता. इतना कहते ही भाभी ने फोन रख दिया. फिर अगले दिन मैंने उसे कॉल किया. फिर भाभी ने फोन काट दिया.

मैंने इसे दोबारा लागू किया. फिर एक दो तीन बार फोन भाभी ने उठाया. मैंने कहा- सॉरी भाभी, मैं बहक गया था. कृपया मुझे माफ़ करें! भाभी बोली- ठीक है, कोई बात नहीं. मैंने उनसे फिर कहा- भाभी एक बात कहूँ.. बुरा तो नहीं मानेंगी? फिर भाभी बोली- हाँ कहो!

मैंने उनसे कहा- भाभी, आपको देखकर कोई भी हैरान हो जायेगा क्योंकि आप बहुत खूबसूरत हैं. इस पर भाभी हंस पड़ी और बोली- मेरा दिमाग हिल जाएगा, इसका क्या मतलब? मैंने उनसे कहा- रहने दो भाभी. आपको बुरा लगेगा! भाभी बोली- तुम बताओ. मुझे बुरा नहीं लगेगा.

देसी भाभी को चुदाई

मैंने कहा- मन डोल जाएगा मतलब किसी का भी तुम्हें चोदने का मन हो जाएगा. भाभी हँसते हुए बोलीं- मुझे चोदने की हिम्मत किसी में नहीं होगी… तुम्हारे भैया के अलावा! उसके मुँह से “कुड फ़क” शब्द सुनकर मैं खुल गया और साहसपूर्वक कहा: मुझमें साहस है।

भाभी बोली- किसमें इतनी हिम्मत? इस बारे में मैंने कहा: मुझमें हिम्मत है, आप चाहें तो कोशिश कर सकते हैं. भाभी बोलीं- शायद तुम मुझे छूने की हिम्मत भी नहीं कर पाओगे. तो मैंने कहा: शर्त लगा कर देखो. अगर मैं हार गया, तो तुम जो भी कहो,

देसी भाभी को चुदाई

मैं वह करूँगा… और यदि तुम हार गए, तो तुम्हें वही करना होगा जो मैं तुमसे कहूँगा। थोड़ी देर सोचने के बाद भाभी बोली- ठीक है. फिर मैंने फोन काट दिया.
अब मैंने मौसी से फोन पर बात की. फिर चाची बोलीं- मैं, तुम्हारे चाचा और तुम्हारा भाई कलकत्ता जा रहे हैं, तुम यहीं आते रहना.

यह सुनकर मेरा दिल खुशी से भर गया… मानो लॉटरी लग गई। मैंने कहा- ठीक है. सबके जाने के दो-तीन दिन बाद जब मैं भाभी के घर गया तो उन्होंने मुझे आदरपूर्वक बैठाया और नाश्ता कराया। नाश्ते की प्लेट हटाकर भाभी बोली- मैं अभी आई, चाय लेकर आई।

थोड़ी देर में चाय भी आ गयी. उसके बाद भाभी रसोई में जाकर खाना वगैरह बनाने लगीं. मैं धीरे से उठा और सामने का दरवाज़ा बंद कर दिया। फिर वो आकर बैठ गया और भाभी से बातें करने लगा. भाभी भी मुझसे हंस कर बातें कर रही थी और अपने काम में लगी हुई थी.

मैं धीरे से उठा और भाभी के पीछे जाकर उनको कस कर गले लगा लिया और उनके मम्मे दबा दिये. इस पर भाभी अचानक से घबरा गईं और बोलीं- क्या कर रहे हो.. मुझे करने दो.. ये ग़लत है! लेकिन मैंने उसे ऐसा नहीं करने दिया और मैंने पीछे से उसकी गांड में अपनी उंगली डाल दी.

उसने उन्हें साड़ी के ऊपर से छुआ था. इस पर भाभी आगे बढ़ीं और मैंने झट से आगे बढ़ कर उन्हें फिर से पकड़ लिया. इस बार मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया, अपनी तरफ देखा और उसके मम्मे दबाने लगा.

जब भाभी आगे-पीछे होने लगीं तो मैंने उन्हें किचन की दीवार से सटा दिया और उनकी साड़ी का घेरा नीचे खींच दिया. अब मैं भाभी का ब्लाउज खोलने लगा तो भाभी कहने लगी- तुम गलत कर रहे हो. ये सब बातें मैं सबके आने के बाद बताऊंगा. मैंने कहाः तुम्हें पता नहीं चलेगा। उसने कहा: क्यों?

Untitled design 2

देसी भाभी को चुदाई

मैंने उससे कहा- तुम मुझसे खुश रहोगी, इसलिए नहीं कहोगी. उसने कहा: नहीं, तुम मुझे खुश नहीं कर सकते! लेकिन अब मैं कहाँ रुकने वाला था.. मैंने उनका ब्लाउज खोला और देखा कि भाभी ने अन्दर चोली नहीं पहनी थी। उसके दूधिया स्तन देख कर मैं उन्हें चूमने और चूसने लगा.

भाभी फुसफुसाने लगीं. कुछ देर बाद मैंने उसकी साड़ी पूरी खोल दी. अब भाभी सिर्फ पेटीकोट पहने हुई थीं. अब मैंने उसके दोनों चूचों पर खूब दबाव बनाना शुरू कर दिया और बारी-बारी से उन्हें चूसना शुरू कर दिया. उसे भी अपने स्तन चुसवाने में मजा आने लगा.

मैंने भाभी को दीवार से सटा दिया और उनके पेटीकोट का नाड़ा ढीला कर दिया. उसका पेटीकोट सरसराता हुआ फर्श पर गिर गया। उसने अब मुझे न तो रोका और न ही सहयोग किया। थोड़ी देर बाद मैंने उसकी पैंटी की इलास्टिक में अपनी उंगलियाँ फंसाईं, उसे नीचे सरकाया और उतार दिया।

वह पूरी तरह से नग्न रह गई थी। अब मैंने अपनी पैंट की ज़िप खोली और अपना लंड भाभी की चूत में थोड़ा सा घुसा दिया. फिर जैसे ही मैंने लंड को अन्दर धकेलने के लिए जोर लगाया तो भाभी चिल्ला उठीं. मैंने अपने एक हाथ से भाभी का मुँह दबा दिया.

उसके बाद दर्द के कारण उसकी भाभी इधर-उधर छटपटाने लगी, हाथ-पैर मारने लगी और उसकी आँखों से आँसू बहने लगे। उसी समय मैंने उन्हें एक और जोरदार झटका दिया और मेरे लंड ने भाभी की हालत खराब कर दी. वह थोड़ा और संघर्ष करने लगी. तब मुझे आश्चर्य होने लगा कि वह इस तरह संघर्ष क्यों कर रही थी। क्या मेरे भाई का लंड बेकार है?

लेकिन उस पल मैंने अपने विचारों को एक तरफ रख दिया और अपनी पूरी ताकत लगाकर अपने लंड को भाभी की चूत में तेजी से अन्दर-बाहर करने लगा. कुछ देर तक भाभी को ऐसे ही चोदने के बाद मैंने अपना हाथ भाभी के मुँह से हटा लिया और ज़ोर-ज़ोर से उन्हें चोदने लगा।

तब तक भाभी संभल चुकी थीं, भाभी भी अपनी कमर हिलाते हुए मेरे लंड का मजा लेने लगीं. काफी देर तक चोदने के बाद मैंने भाभी से कहा कि मेरा लंड झड़ने वाला है. भाभी कुछ नहीं बोलीं. फिर मैं भाभी को और तेजी से चोदने लगा.

फिर मैंने उससे बिना कुछ कहे अपने लंड का पूरा माल उसकी चूत में गिरा दिया. उनको चोदने के बाद मैं भाभी के पास खड़ा हो गया. भाभी वहां से सीधे बाथरूम में गईं और अपनी चूत साफ करने लगीं. इधर मैंने अपनी पैंट ऊपर की, जेब से सेक्स की गोली निकाली, खा ली और बाथरूम में भाभी के पीछे खड़ा हो गया.

भाभी अपनी चूत साफ करके जैसे ही पलटीं तो मुझसे टकरा गईं. वो हंस कर बोली- अब क्या? अब तो आपकी सारी इच्छाएं पूरी हो गई हैं… अब आप क्या चाहते हैं? मैंने उनसे कहा- भाभी, कुछ दिन पहले आपने मुझसे शर्त लगाई थी कि जो जीतेगा उसे वही करना होगा जो हारने वाला कहेगा।

देसी भाभी को चुदाई

Untitled design 4

भाभी मेरी तरफ देखने लगीं और मुस्कुराने लगीं. मैंने कहा- मैं जीत गया और भाभी, अब मुझे जो करना है करने दो। अब तक मेरा लंड पूरा तन गया था. भाभी ने भी देखा तो बोलीं- अब जाओ. लेकिन मैंने भाभी को गले लगा लिया.

भाभी हंस कर बोलीं- अभी रहने दो, दोबारा मन हुआ तो फोन करूंगी. लेकिन दोस्तो, अगर मैंने गोली ले ली होती तो मैं कहां जाता? मैंने भाभी को अपनी गोद में उठाया और उनके बिस्तर पर ले जाकर उन्हें लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया। मैंने झट से अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया.

इससे पहले कि वह कुछ कह पाती या कर पाती, उसने उसे जोर-जोर से मारना शुरू कर दिया था। भाभी भी कुछ नहीं बोलीं. वो वहीं लेट गई और मैं उसे जोर जोर से चोदने लगा. इस बार उसने गोली खा ली थी और पहले ही एक बार स्खलित हो चुका था, इसलिए लिंग को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला था।

मुझे भाभी को चोदते हुए लगभग आधा घंटा हो गया था. फिर मैंने भाभी को डॉगी स्टाइल में खड़ा किया और उनकी गांड पर थोड़ा थूक लगाकर अपना लंड उनकी गांड में डाल दिया. दोस्तों भाभी की गांड बहुत टाइट थी. शायद भाभी ने कभी अपनी गांड नहीं मरवाई थी.

देसी भाभी को चुदाई

वो बकरी की तरह मिमिया रही थी और मैं उसका मुँह हाथ से बंद करके उसे चोदने में लगा हुआ था। मैंने कुछ देर तक भाभी की गांड मारी और फिर उन्हें सीधा लेटा दिया. मैंने अपना लंड वापस भाभी की चूत में डाल दिया और उनको चोदने लगा. कुछ देर बाद मैं भाभी की चूत में ही स्खलित हो गया और उनके बगल में लेट गया.

मैं भाभी के मम्मों को चूस रहा था और वो बस मुझे ही देख रही थी. वह हंस रही थी. मैंने उनसे पूछा: क्या आप अब भी कहेंगे? नई भाभी ने मुझे चूमा और बोली- नहीं मेरे प्यारे देवर जी. अब तो तेरा लंड ही मुझे चोदेगा. मैं खुश हुआ। दोस्तों उसके बाद मैं अपने कपड़े पहनने लगा. फिर भाभी बोली- आज रात को यहीं आ जाना. मैं इंतज़ार करूंगा।

मैंने उसे चूमा और घर आ गया. रात को भी मैंने बार-बार जाकर भाभी की चूत को आगे और पीछे दोनों तरफ से पकड़ा। और जब तक उसके घर वाले वापस नहीं आ गए तब तक वो हर रात अपनी भाभी को चोदने का मजा लेता था. उस दिन के बाद से जब घर पर कोई नहीं होता तो भाभी मुझे बुला लेतीं. मैं भी चला जाता हूं और भाभी को चोद कर जल्दी से वापस आ जाता हूं.