पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई

पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई

दोस्तो, मेरा नाम शनाया है. मैं अपनी अगली सेक्स कहानी के साथ वापस आ गया हूँ जो पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई आपको रोमांचित कर देगी! आपकी अब तक की कहानी मैंने पड़ोस के दो लड़कों के लंड का मजा लिया. मैंने पढ़ा था कि अनुज, जय और सोहन ने मुझे चोदा था।

अब मेरी चूत और गांड में तीन लंड सोहन, जय और अनुज एक ही बिल्डिंग में रहते थे इसलिए वो दोस्त बन गये। उन तीनों को अक्सर मेरे घर से निकलते देखा जाता था.

वे तीनों मेरे घर चाय-नाश्ता करने या मुझे कोई उपहार देने या खाना या अन्य सामान देने के बहाने आये। अनुज अक्सर मुझे अपने लिंग का तरल पदार्थ पिलाता था। लेकिन मैंने फिर कभी किसी को अपनी चूत नहीं दी.

एक दिन मुझे पता चला कि अनुज का जन्मदिन आ रहा है. मैंने उससे उस दिन चोदने का वादा किया था लेकिन उसमें इतना इंतज़ार करने का सब्र नहीं था। एक दिन अनुज ने मुझ पर दबाव डाला और मुझे आंखों पर पट्टी बांधकर सेक्स करने के लिए राजी कर लिया.

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि वो मेरी आंखों पर पट्टी बांधकर मुझे क्यों चोदना चाहता है. फिर भी मैंने यह सोचकर स्वीकार कर लिया कि यह एक नया अनुभव होगा। रात करीब 9 बजे अनुज मेरे घर आया. उसकी आंखों पर पट्टी बंधी थी और हाथों में हथकड़ियां थीं.

मुझे लगा कि यह उसकी कल्पना है. फिर भी इसके पीछे कुछ और ही रहस्य था. अनुज ने मुझे लाल ड्रेस पहन कर तैयार होने को कहा था. मैं लाल ब्रा और पैंटी में उसके पास आई और अनुज ने मेरी आँखों पर पट्टी बाँध दी।

Untitled design 3

पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई

फिर उसने मुझे लिटा दिया और मेरी पैंटी नीचे खींच दी. मेरी पैंटी उतारते ही मेरी चूत उसकी आँखों के सामने आ गयी. वो अपनी जीभ मेरी चूत पर फिराने लगा. जैसे ही उसने अपनी जीभ घुमाई, वह मेरे करीब आकर मुझे चूमने लगा।

मुझे लगा कि अनुज आज जल्दी में है. उसने मुझे चूमते हुए अपना खड़ा लंड मेरी चूत में डालना शुरू कर दिया. इससे पहले कि मैं कुछ कहती या रुकती, अनुज का आधा लंड मेरी चूत में घुस चुका था.

लंड घुसते ही मैं अचानक कराह उठी, ‘आआह आह आह उई माँ मर गई.’ इसी बीच उसने लंड को फिर से अन्दर धकेल दिया. मैं- आआहह अनुज, क्या तुम जल्दी में हो? अनुज अपना लंड निकाल कर खड़ा हुआ और मेरे मुँह के पास ले गया.

मैं उसका लंड चूसने लगी. कुछ देर बाद अनुज ने अपना लंड उसके मुँह से निकाला और तुरंत उसकी चूत में डालने लगा. आज अनुज का लंड कुछ ज्यादा मोटा लग रहा था. मैं ‘आह आह..’ करने लगी.

तभी मुझे महसूस हुआ कि अनुज के हाथ मेरे दोनों स्तनों पर आ गये हैं। जब उसने मेरे स्तनों को मसलना शुरू किया तो एक अलग ही अनुभूति के साथ मैं कराह उठी। अब मुझे संदेह हुआ कि कुछ गड़बड़ है। जैसे ही अनुज ने अपना लिंग निकाला तो मेरे मुँह में एक लिंग आ गया.

अनुज बोला: चूसो बेबी! मैं अपने होंठ खोलने ही वाली थी कि एक लिंग मेरे मुँह में डाल दिया गया। मेरी आँखें बंद थीं. मैं महसूस करके ही समझ गया कि यह कैसा लिंग था। लंड झटके खाने लगा. उसी समय लंड एकदम से मेरे मुँह से निकल कर चुत में घुस गया.

इस बार मेरा ध्यान पहले से ही लिंग को महसूस करने पर था। मैं समझ गयी की ये लंड अलग है. अब मुझे समझ आया कि क्या ग़लत था. मैंने अनुज से हाथ खोलने को कहा. वह अपने हाथ नहीं खोल रहा था. मैंने उसे अपने हाथ खोलने के लिए मजबूर किया.

फिर जब मेरे हाथ खाली हो गये तो मैंने अपने हाथों से अपनी आंखों से पट्टी हटा दी. सामने देखा तो सोहन और अनुज अगल-बगल खड़े थे। नीचे जय अपना लंड मेरी चूत में पेल रहा था. मैं- हे भगवान… ये सब क्या है अनुज? तुम तीनो एक साथ? अनुज- ये ग्रुप सेक्स है शनाया!

Untitled design 5

पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई

सोहन- हां शनाया, ये प्लान एक अलग तरह का मजा लेने के लिए बनाया गया था. अब वो तीनों खड़े हो गये और मेरे मुँह के सामने अपने लंड हिलाने लगे. मैं हंस पड़ी और एक एक करके सबके लंड चूसने लगी. कुछ देर बाद सोहन मेरी चूत को चूसने लगा. वो जय और अनुज का लंड चूसने में लगी हुई थी.

थोड़ी देर बाद मैं उठ गया. जय ने मुझे उठाया और सोहन की गोद में बिठा दिया। निशाना इतना सटीक था कि सोहन का लंड एक ही झटके में मेरी चूत में घुस गया. अब सोहन उसे जोर जोर से चोदने लगा. अनुज पीछे से आया और बोला- शनाया, आज मुझे थोड़ा मजा दे दो।

मैं भी कामुक था. उसने मेरी गांड पर थूका और अपना सिरा मेरी गांड में घुसाने लगा. मैं कहने लगी- नहीं, नहीं, अनुज, नहीं… प्लीज, मैं ये नहीं कर सकती. अनुज बोला- तुम ही करोगे बेबी.. तुम ही सब करोगे. वो फिर से अपना लंड रगड़ने लगा और मेरी गांड में घुसाने लगा.

मैं- नहीं अनुज, तुम्हारा नहीं … तुम्हारा तो बहुत मोटा है. जय, पहले तुम इसे गांड में डालो… अनुज का लंड बहुत बड़ा है. मैं अपनी गांड नहीं तुड़वाना चाहता. अनुज ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और जय ने पीछे से आकर मुझ पर थूका और मेरी गांड पर धक्का मारा। जय पहली बार गांड चोद रहा था इसलिए वो अपना लंड मेरी गांड में नहीं डाल पाया।

तो जय के बाद आये सोहन. दोस्तो, गांड में लंड डालना कोई मामूली बात नहीं है. खासकर पहली बार तो यह ज्यादा मुश्किल काम है। सोहन के साथ भी यही हुआ, वो भी अपना लंड मेरी गांड में नहीं डाल सका.

अब पलटने की बारी अनुज की थी. अनुज ने मुझे सोहन की गोद में बिठाया और सोहन ने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया. पीछे से अनुज ने अपना थूक लगा हुआ लंड मेरी गांड पर रखा और मेरा थूक अपने हाथ में लेकर अपने लंड पर मल लिया.

अनुज ने अपने लंड को हाथ से पकड़ा और जबरदस्ती मेरी गांड में घुसा दिया. मैं चिल्ला उठी- आआह उम उम मैं मर गई अनुज… आह. अनुज ने दांत भींचकर अपना लंड मेरी गांड में पेल दिया.

पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई

अब उसकी नोक मेरी गांड के पहले छल्ले को फैलाकर अंदर घुस गयी थी. उसे बहुत दर्द हो रहा था और जय ने अपना मुँह बंद रखा हुआ था। अनुज ने अब मेरे नितम्बों को पकड़ लिया और फिर से अपना लिंग अन्दर धकेलने लगा।

उसका आधा लंड गर्म लोहे की रॉड की तरह मेरी गांड में घुस चुका था और वो उसे अन्दर-बाहर करने लगा। मैं दर्द से मरी जा रही थी, मेरे हाथ-पैर कांपने लगे थे। मैं चीखने-चिल्लाने लगी- उम्म, मैं मर गई, मम्मी… आह, तुम चोदू जानवर, आह, बाहर निकलो, हरामी!

अनुज बिना कुछ सुने झटके पर झटके देता रहा. इधर सोहन चूत में और तेज़ धक्के मार रहा था। मैंने अपनी आँखें बंद कर ली थीं क्योंकि मैं दर्द से बेहोश होने वाली थी। जय बोला- अनुज, ये देखो यार!

अनुज ने उसके गाल पर तमाचा मारा और बोला- सन्नो, उठ सन्नो… कुछ नहीं हुआ! वो दोनों अपना अपना लंड अंदर बाहर करने में लगे हुए थे. अनुज मेरे बाल खींच रहा था. मैं आह आह कर रहा था. अनुज- सन्नो, अब आँखें बंद मत करो जान.. अब मज़ा आएगा.

थोड़ी देर बाद अनुज बिस्तर पर लेट गया. उसने मुझे बुलाया और अपना लंड वापस मेरी गांड में डाल दिया. इस बार मैंने बिना किसी दर्द के अपना लंड गांड में डाल दिया. फिर सोहन ऊपर से आया और अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और रगड़ने लगा.

उधर जय बोला- सोहन, हटो, मैं तुम्हें सरप्राइज़ देने आया हूँ क्या? सोहन अपना लंड निकालने से मना करते हुए खुद ही मेरी चूत में छेद करने में लगा रहा. जय सोहन को बाहर ले जाने लगा। उनके बीच मारपीट की स्थिति बन रही थी.

अब अनुज बोला- क्या हुआ कुतिया? लड़ो मत. जय, तुम भी डाल दो। अनुज बोला- सोहन, जय करीब आओ, पीछे से सोहन की चूत में अपना लंड डालो। मैं चिल्लाई- कुतिया की औलाद, मेरी जान ले लोगे क्या? नहीं जय, तुम वहाँ नहीं हो, तुमने इसे मेरे मुँह में डाल दिया!

अनुज- कुछ नहीं होगा शनाया! यह सुनकर जय पीछे से आया और अपना लिंग सोहन के लिंग के पास रख दिया। अनुज बोला- सोहन, धक्का देना बंद करो। पहले उसने जय का लंड अन्दर घुसने दिया. जय ने लंड अन्दर धकेल दिया.

मेरी चूत और गांड में तीन लंड थे, मैं चिल्ला उठी- आआह मैं मर गई अनुज… मैं आने वाली हूँ, तुम मुझे मार डालोगे, साले कुतिया की औलाद। तब तक जय का लंड आधे से ज्यादा अन्दर घुस चुका था. कुछ ही देर में जय ने अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया था. मैं- आआह… आज मुझे सब मार डालेंगे!

लेकिन मैं कुछ भी सुनने के मूड में नहीं था. जय के बाद सोहन ने भी अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया. अनुज का लंड गांड में घुस चुका था. वे तीनों धक्का देने में लगे हुए थे. मैं ‘आआह ईई…’ करने लगी और मैं दर्द और मजे से सातवें आसमान पर थी.

सोहन ने मेरे मम्मे पकड़ लिये और अनुज ने मेरे बाल पकड़ लिये। उधर जय ने मेरी कमर पकड़ ली. तीनो लन्ड एक साथ मुझे चोद रहे थे। मेरी हालत ख़राब होती जा रही थी. वह दर्द से कराह रहा था. अब सोहन नीचे आया और गांड में अपना लंड डालने लगा.

पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई

जय और अनुज ने लंड को चूत में डालना शुरू कर दिया. अनुज का लंड बड़ा था और उससे मेरी चूत में दर्द होने लगा. करीब आधे घंटे तक वो मेरे साथ ऐसे ही चलता रहा. काफी देर तक चुदाई करने के बाद जय ने अनुज से कहा- भाई, तेरी मलाई काम कर रही है, ये तो बहुत अच्छा आदमी है. अभी भी इस बात का कोई संकेत नहीं है कि माल जारी कर दिया गया है।

जब मैंने यह सुना तो मैं अनुज को कोसने लगा क्योंकि जीजाजी ने अपनी दवा लगा कर उन दोनों को मेरे ऊपर डाल दिया था। अब सब उठ कर मेरी चूत और गांड का मज़ाक उड़ाने लगते. सोहन ने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया, अनुज ने उसकी चूत में और जय ने उसकी गांड में डाल दिया।

बहुत देर तक तीन लंड ने मेरे बदन को रगड़ा. मेरे स्तनों की हालत ख़राब हो गयी थी, वे चुकंदर लाल हो गये थे। अब मैं झड़ने लगी और सख्त होने लगी- ओह, बस करो… अब मुझे सेक्स नहीं करना है! लेकिन वे नहीं माने.

फिर वो सब मुझे उठाकर बाथरूम में ले गये और बाथरूम में बारी-बारी से मुझे चोदने लगे। उधर वो तीनों मुझे बारी बारी से चोद रहे थे तो अच्छा लग रहा था. इस तरह उन्होंने मुझे रात को 10 से 12 बजे तक कमरे में और 12 से 1 बजे तक बाथरूम में चोदा।

बाथरूम से बिस्तर पर जाने के बाद एक घंटे का आराम और शराब के साथ कुछ खाना-पीना भी हुआ। हंसी-मजाक होने लगा. उसके बाद सब कुछ फिर से शुरू हो गया. एक बार तो मैं और भी मजे से सेक्स में सहयोग कर रही थी.

सुबह 4 बजे तक मेरे दोनों छेद बड़े-बड़े गड्ढों में बदल चुके थे। फिर सब सो गये. अगले दिन मैं एक बजे उठा. वो तीनों मेरे बगल में नंगे लेटे थे. जब मैंने उन्हें हिलाया तो वे सब जाग गये। आज उन तीनों ने कुछ अलग-अलग कार्यक्रम बनाये थे।

मुझे तो पता ही नहीं चला कि ये सब कब आयोजित हुआ. सुबह उठने के बाद सभी ने अपनी दैनिक दिनचर्या पूरी की, नाश्ता आदि किया। और खेल शुरू हुआ. उन तीनों के बीच इस बात की प्रतिस्पर्धा शुरू हो गई कि कौन शनाया को बिना स्खलित हुए कितनी देर तक अपना लिंग चुसवा सकता है और कितनी बार स्खलित कर सकता है।

जो भी जीतेगा, शनाया उनका पानी पिएगी और उसी विजेता को शनाया को दोबारा चोदने का मौका मिलेगा। मैं आभारी था कि कम से कम वे तीनों एक साथ चढ़ाई नहीं कर रहे थे। उन तीनों ने मुझे फर्श पर बिठाया, घड़ी चालू की और बारी-बारी से मेरा लंड चूसने लगीं।

Untitled design 1 1

पड़ोसी के साथ थ्रीसम चुदाई

मैं भी किसी सड़कछाप रंडी की तरह उसका लंड लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. करीब 12 मिनट के बाद सोहन झड़ने लगा और मेरे मुँह में ही झड़ गया। लगभग 15वें मिनट में जय झड़ने लगा. उसने मेरे बालों पर पानी छिड़का. उसने बचा हुआ कुछ वीर्य मेरे चेहरे पर गिरा दिया.

अनुज का लिंग बिल्कुल भी स्खलित नहीं हो रहा था। वो मेरा लंड चूसती रही. ठीक 25वें मिनट पर अनुज झड़ने वाला था और उसे मेरे मुँह के अंदर ही झड़ना था, लेकिन उसने अपने वीर्य से मेरा पूरा चेहरा भर दिया।

उसकी कुल 13 गोलियाँ मेरे स्तनों और बालों पर लगीं। मैंने प्यार से उसका लिंग पकड़ा, चूसा और बचा हुआ वीर्य खा लिया। अनुज मुझे देख कर मुस्कुराया. हम सब नहाने चले गये और चुदाई प्रतियोगिता ख़त्म हो गयी.

सब लोग खाना वगैरह खाकर सो गये. उसी दिन दोपहर को जब सब लोग टीवी देख रहे थे. फिर विजेता अनुज मुझे अकेले चोदने लगा और सोहन और जय देखने लगे. अनुज ने मुझे करीब पौन घंटे तक चोदा. मैंने उसके लंड का रस पी लिया और चुदाई के बाद हम दोनों नंगे ही एक दूसरे से लिपट कर लेट गये.

आज मुझे चोदने की ज़रूरत महसूस हो रही थी, आगे से पीछे तक एक साथ चोदने की। मैंने इच्छा जताई तो रात को फिर से ग्रुप सेक्स हुआ. उन्होंने मुझे पूरी रात फिर से चोदा और मैं पूरी तरह से निश्चिंत हो गई।

अगले दिन मेरी तबीयत खराब हो गई. उसके बाद मैंने ग्रुप सेक्स करना बंद कर दिया और अकेले सेक्स करने लगा. अब रात को कभी जय मेरे पास रुकता, कभी सोहन तो कभी मैं अनुज के पास जाकर सो जाती। कभी-कभी अनुज मुझसे मिलने आता था.

उन तीनों में से मुझे अनुज ही मेरे लायक लगा जिसके साथ मैं गोवा की यात्रा पर जा रही हूँ। यह मेरी जिंदगी है और मैं इसका आनंद लेता हूं।’ चूत तो चोदने के लिए ही बनी है.

People Also Ask

What are Some Good Call Girl Agencies in Delhi?
How Can You Find Local Delhi Call Girls?
Why Should You Hire Our Gurgaon Escorts?
How To Book Escorts Service in Paharganj?