गांव की शादी में Desi Ladke Ne Gand Mari » Hindi Gay Sex Story

गांव की शादी में Desi Ladke Ne Gand Mari » Hindi Gay Sex Story

मेरे जीवन के अनुभवों के एक नए Hindi Gay Sex Story में पाठकों का फिर से स्वागत है। खैर, यह Desi Ladke Ne Gand Mari जीवन का सबसे अच्छा हिस्सा था।

ये बात है आज से कोई 4 साल पहले की, जब मेरी उमर 22 साल की होगी। 

मैं अपने परिवार के साथ एक शादी के गांव में गया था और वो समय शादियों का था।

सर्दी काफी ज्यादा हो रही थी, और वो दूर की रिश्तेदारी में थी तो मेरा ज्यादा आना जाना नहीं था।

 इसीलिए हम गांव में समय बिताने के लिए उत्साहित थे। इसी लिए हम शादी से 4 दिन पहले ही जब चले गए थे।

और शायद गांव में ऐसा ही होता है, कि मेहमान शादी से पहले कुछ दिन ही चले जाते हैं और समय कब व्यतीत करते हैं। 

यकीन मानिए बहुत मजा आता है, जब सब मिलकर काम करते हैं और खूब आनंद लेते हैं।

चलिए Gay Hindi Sex Story के मुख्य उम्मीदवार के बारे में बात करते हैं। उसका नाम अरुण था, 

वह लगभग 28 या 29 साल का था। वह लंबा, मजबूत, चेहरे पर हल्की दाढ़ी, थोड़ा एथलेटिक शरीर वाला है।

वह दूल्हे का भाई था, इसलिए वह ज़्यादातर काम में व्यस्त रहता था। इसलिए हमने शुरू में ज़्यादा बातचीत नहीं की।  ( Desi Ladke Ne Gand Mari )

पहले दो दिन तो हम आराम से रहे, हमने ज़्यादा समय गाँव को एक्सप्लोर करते हुए बिताया और लोगों का रहन-सहन देखा और हमने खूब एन्जॉय किया।

अब बिना आगे बात किए Desi Gay Sex Story शुरू करते हैं। खैर यह तीसरा दिन था.

अतिथि काफी ज्यादा हो गया थे. तो सब को चारपाई (बेडफ्रेम) साझा करना था। तो मैंने कुछ दोस्तों के साथ बाहर गया।

हम घर आते हैं और अब तक सब अपनी-अपनी जगह पर सो चुके थे। मुझे अब सोने की जगह नहीं मिली, 

मैंने पूरा घर देखा कि शायद मैं एडजस्ट हो जाऊं। तो घर के एक कोने में एक छोटा सा कमरा था, जो कोई स्टोर रूम टाइप था।

उधर चारपाई पर अरुण लेता था, जब मैं कमरे में झांकता था तो अरुण जाग ही रहा था।

अरुण – हाँ जैन कुछ चाहिए.

मैं – हाँ यार मुझे सोने के लिए कहीं नहीं मिल रही है, बस वो ही ढूंढ रहा हूँ।

अरुण – ठीक है, मेरे साथ आ कर सो जाओ।

मैं थोड़ा खुश हुआ क्योंकि मुझे जगह मिल गई है, वरना मुझे इतनी सर्दी में पता नहीं कहाँ पर सोना पड़ता। 

खैर मैंने अपनी जैकेट उतार कर अरुण के साथ सो लिया। उसकी कम्बल भी एक थी और वो छोटी थी।

इसलिए हम एक दूसरे के बहुत करीब हैं। अरुण ने क्रिकेट वाली स्पोर्ट्स किट पहनी थी, जो कि रेशमी और मुलायम कपड़े की थी। 

जिसमें उसकी छोटी छाती बाहर उभरी हुई थी, वह ज्यादा घर में यही पहनता था।

मेरी बॉडी साड़ी से ढकी हुई थी, पर अरुण वहाँ बहुत हॉट था। क्योंकि वह काफी देर से कम्बल में थी और दूसरी मस्त मर्दानी की वजह से उसका खून भी गरम था। 

थोड़ी देर बाद मैं थोड़ा उस तरफ हो गया, ताकि मुझे उसके शरीर की गर्मी से मेरी परेशानी कम हो सके।

और उसका चेहरा अब मेरी तरफ था। मैंने अपना चेहरा थोड़ा नीचे सरका कर उसकी बांह के करीब ले गया। 

जिसकी गरम सांसों से मुझे गर्मी दे रही थी, और उसके शरीर से गर्मी अब मुझे महसूस हो रही थी।

अभी तक तो मैंने कुछ भी ऐसा नहीं सोचा था अरुण के बारे में। 

पर उसके करीब जाने से मुझे अजीब सी प्रलोभन होने लग गई, और उसके शरीर से भीनी भीनी महक मुझे लुभाने लग गई।

अब मैं उसके और करीब आने लग गया, अरुण भी दिन भर के कमो से थका हुआ था। 

उस को कोई नहीं जानता था, वह घोड़ों के पीछे भाग कर सो रहा था। मैंने ऐसा एक्ट करने लग गया, क्योंकि मैं भी सोया हुआ हूं।

और मैं अरुण से चिपक गया, कुछ देर के बाद मुझे नींद आ गई और मैं सो गया। 

देर रात मेरी आंख खुली और मैंने देखा कि अरुण खुद मेरे सह चिपका हुआ है। ( Desi Ladke Ne Gand Mari )

और उसकी एक टांग मेरी टांग के ऊपर थी, पर वो काफी गहरी नींद में थी।

अब मुझे उसके नीचे उसका हार्ड लंड टच हो रहा था, पर मैंने कोई रिएक्ट नहीं किया और ऐसे ही मैं लेता रहा। 

उसकी हॉट बॉडी की महक से अब मैं दूर नहीं होना चाहता था।

खैर सुबह हो गई और मेरी आंख खुली थी मैं अकेला ही था। अरुण जा चुका था, और अब मैं भी ताज़ा हुआ और बहुत नाश्ता किया। 

पर मैं घबराया हुआ था कि अब मैं अरुण को किस तरह फेस करूंगा।

अगर उसने ये सब रातें देखी होंगी तो वो मेरे बारे में क्या सोचेगा। पर जब वो मेरे सामने आई तो एशिया ने कुछ फील नहीं किया, असल में वो मुझसे नॉर्मल एक्ट कर रहा था।

तो मुझे भी थोड़ा परेशान होना पड़ा, उन्होंने भी अगर ये सब देखा ही होगा। तो वो ये ही समझेगा कि ये सब नींद में ही हुआ है। 

पर फिर भी अब मुझे उसकी तरफ से आकर्षण होने लग गयी थी।

उसका बड़ा सा लंड कैसा होगा, मैं यही सोचता था। मैं बहाने बनाने से उसके पास जाने लग गया, 

और अपना उससे बातचीत बढ़ाने लग गया। ऐसे ही मुझे मोका मिल गया, और वो वाशरूम में नहाने गया।

और जब वेंटिलेशन के लिए ऊपर से एक छेद था, और वह ज्यादा ऊंचाई पर नहीं था। 

मैंने हिम्मत करते हुए उसे देखा, और फिर मैं अंदर ही देखता रह गया। उसका क्या मस्त बालों वाला शरीर था, उसका शरीर एक बांध आकार में था।

और उसके लंड का नजारा तो मैं आज तक मेरी आँखों में घूमता हूँ। उसका सोया हुआ लंड भी करीब 6 इंच का लग रहा था, 

और हल्के हल्के बाल उसके चारो तरफ थे। उसकी छाती और जांघों पर भी बाल थे, वो देख कर मुझे झटका लगा था। ( Desi Ladke Ne Gand Mari )

देखते ही देखते गरम पानी के साथ नहाने की वजह से उसका लंड खड़ा हो गया। ये चीज़ थी जो मैं देखना चाह रहा था, मैं बहुत खुश था, जिसकी इच्छा थी कि आज पूरी हो गई थी।

इतना मोटा लंड मैंने आज तक नहीं देखा था, वो पूरा सख्त होकर 8 इंच का हो गया था। 

पर वो काफी मोटा था, जो मेरे हाथ में भी ना आये। इतने में मुझे लगा कि शायद कोई आ रहा है।

तो मैं जब से चला गया, पर मेरे दिमाग में सारा दिन अब उसका लंड ही घूमता रहा। 

अब मुझे अरुण में शिद्दत की अट्रैक्शन होने लग गई, मुझे बस अब उसको ही हासिल करना था।

चाहे वो एक रात के लिए ही क्यों ना हो, पर मेरी बदकिस्मती की उस रात मैं उसके साथ ऐसा नहीं करता। 

उसके साथ आज कोई और लेता हुआ था, और मुझे मजबूरन किसी और के साथ सोना पड़ा।

इस वजह से मुझे आधी रात में जाग गया, क्योंकि मैं तो अरुण के साथ सोने के ख्वाब देख रहा था। 

अगले दिन फिर ऐसा हुआ कि किसी काम से उसके फार्म वाले घर पर गये।

जब पर कोई भी नहीं था, सिर्फ कुछ हेन (मुर्गी) और जब एक ट्यूबवेल लगा हुआ था। 

जिसने अपने खेतों को पानी देता था, मैंने अरुण को बोला – मैं घर में बोर हो रहा हूं, क्या मैं भी आपके साथ चलूं।

अरुण – ठीक है चलो।

जब आप कर के अपने काम किए और बाकी के लिए अपने कमरे में जा कर चारपाई पर लेट गए तो वो काफी थक गया हो। 

उसकी टांगे चारपाई से नीचे थी और उसका शरीर ऊपर था और वो अपनी बाजु खोल कर लेट गया था।

मैं पास की बड़ी कुर्सी पर बैठ गया, और हम बैठने लग गये। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था, 

और मैं ये भी सोच रहा था कि शायद हम दोनो को अकेले देख कर अरुण सिड्यूस हो जाए।

और ऐसा ही हुआ, बेटियां करते-करते वो सेक्स वाली बातों पर आ गया। और मुझे अपनी Indian Gay Sex Stories बताने लग गयीं। 

बात करते-करते उसका लंड खड़ा होने लग गया, वह जिस पोजीशन में था, उसे धीरे-धीरे उसके ट्राउजर में टेंट बन गया।

कुछ देर तक उसका लंड पूरा खड़ा हो गया था, ये सब देख कर मुझे तड़पने लग गई। 

मेरा दिल चाह रहा था कि अभी उसका पतलून से बाहर निकल कर चूसने लग जाऊं।

पर मैं खुद से ऐसा कुछ नहीं करना चाहता था, मैं चाहता था कि जो भी करे अरुण खुद करे 

और मुझे ये सब अब सच दिखने दे रहा था। अरुण ने अपना खुदा लंड देख कर मुस्कुराये हुए खा।

अरुण – देखो यार इसे भी चैन नहीं आता है, ये साला कभी भी खड़ा हो जाता है। दरसअल शादी में व्यस्त होने की वजह से बहुत समय हो गया है, 

इसकी खिदमत नहीं है। इसलिए ये बिलबिला रहा है.

मैं – यार आप गांव वालों के लंड सच में बहुत बड़े और कमाल के होते हैं। आप की शायद डाइट ही ऐसी होती है।

ये सुन कर अरुण हंसा और बोला- देखोगे?

मैं मुस्कुराये हुए बोला – देख के क्या करना, रहने दो।

इतने में अरुण ने अपना ट्राउजर उतार दिया और रॉकेट की तरह लंड निकाल कर मेरे सामने रख दिया, और वो उसे प्यार से सहलाने लग गया। ( Desi Ladke Ne Gand Mari )

मैं तू बस उसे देखता ही रहा, मेरी आँखों की प्यास को देख कर अरुण समझ गया और बोला।

अरुण – आयो इधर आयो और पकड़ कर देखो के कितना बड़ा है।

मैं शर्मते हुए बोला – नहीं यार छोड़ो, मैंने देख लिया है।

इतने मैं अरुण उठा और मेरे पास आ कर खड़ा हो गया, और अपना लंड मेरे चेहरे के करीब ला कर हिलाने लग गया। 

मेरा चुप चाप ये सब देखते रहना ही हमारे लिए सकारात्मक संकेत था।

और हमें हिलाते हुए वो अपना लंड मेरे चेहरे पर रगड़ने लग गया, 

Cheap Rate / Call Girls @₹9K-19K – South Ex Escorts » Desi Ladke Ne Gand Mari

और मेरे होठों को अपने लंड के टोपे से खोलने लग गया। 

मैं उसकी तरफ देखता रहा और चुप चाप मैंने अपना मुँह खोल दिया।

अरुण ने अपना हार्ड लंड मेरे मुँह में डाल दिया, और धीरे-धीरे वो मेरा मुँह चोदने लग गया। 

थोड़ी देर तक आराम से करने के बाद उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी, और अब उसका लंड मेरे गले के अंदर तक घुसने लग गया।

जिसे मुझे उल्टी जैसा महसूस हो रहा था, पर अरुण अहयाद पोर्न फिल्में कुछ ज्यादा ही देखता था। 

इसलिए ये सब में बहुत मजा आ रहा था। इतने मोटे लंड को चूसने से मेरा मुँह लाल हो रहा था

अरुण मेरे मुँह में अपना लंड गहराई तक चोद रहा था, अब मेरे मुँह से मेरा थका झंझट बन कर निकल रहा था। 

कुछ देर बाद उसने मुझे ऊपर उठा लिया और उसके चेहरे पर किस करने लगा।

उफ्फ दोस्तो क्या बात है, इतना मुलायम और गीला चुंबन था वो। अब तक अरुण पूरे मूड में आ चुका था, 

और अब वो जानवरो की तरह मुझे चूम रहा था। मेरे होंठ, चेहरा, कान, गर्दन और निप्पल सब कुछ वो चूस रहा था।

मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि ये मेरे साथ क्या हो रहा है। 

पर सब कुछ एक दम शिद्दत से हो रहा था। अरुण ने मुझे फिर दीवार से लगा कर थोड़ा सा बेंड कर दिया।

वो मेरी गांड को थोड़ा सा बाहर निकाल कर, उसने अपने मुँह की थकान मेरी गांड पर लगाई और थोड़े से अपने लंड पर लगाई। 

फिर उसने एक ही धक्के में अपने लंड का टोपा मेरी गांड के अंदर घुसा दिया।

मैं जोर से दीवार में जा कर लगा, और दर्द से मेरे होश खो गये। मुझे एक बांध समझ ही आया कि मैं क्या करूं। 

क्योंकि 8 इंच का लंड शायद कोई बड़ी बात नहीं थी, पर उसकी मोटी ने मेरी गांड फाड़ दी थी।

पर अरुण ने थोड़ा इंतज़ार किया और मेरी गांड को थोड़ा रिलैक्स होने दिया। और फिर से उसने अपना लंड अंदर घुसाया, 

और अब टोपा अंदर ही जाता रहा उसने मेरे मुँह पर हाथ रख दिया।

थोड़ी देर बाद उसने ही इंतज़ार किया, फिर अगले झटके में उसका आधा लंड अंदर घुस गया।

और धीरे-धीरे करके उसने अपना पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया, और मुझे उसने पीछे से गले लगा लिया था।

अब वो अपने हाथों से मेरे निप्पल को दबा रही थी, और मुँह से मेरी पीठ, गर्दन और कान को चूस रही थी। ( Desi Ladke Ne Gand Mari )

थोड़ी देर उसने मेरी गांड में ही लंड रखा था, इससे मेरी गांड का सुरख नरम हो जाए।

बस फिर जब वो चोदना शुरू हुआ, तो उसने मुझे चोदा कि उसने मुझे अंदर तक हिला कर रख दिया। 

दीवार के पास से हटाकर मुझे बिस्तर के किनारे पर उल्टा फेंका और मेरी टांगे, मेरी नीच और गांड मेरी ऊपर थी।

मेरे बाजू पीछे से पकड़ ली और फिर वो जोर जोर से मुझे धक्के मारने लग गया। अब मेरी बास हो गई थी, पर उसका पानी नहीं निकल रहा था। 

मैं ये देख कर हैरान था कि देसी लड़कों के लंड बड़े होते हैं। पर चोदने का इतना सहनशक्ति वो भी स्वाभाविक है, 

क्योंकि उसकी पत्नी की मौज ही होती है। खैर थोड़ी देर तक वो झड़ने वाला था, उसने मुझसे पूछा कि तुम्हारे चेहरे पर निकलना है।

मैं – ठीक है.

फिर उसने मेरी गांड से लंड बाहर निकाला और मुझे नीचे फ्लोर पर बिठा दिया। अब उसने मुझे खोलने के लिए कह दिया, 

मैंने ना चाहते हुए भी अपना मुंह खोल दिया। और जब अरुण ने अपना माल निकाला तो उससे मेरा पूरा मुँह भर गया।

उफ्फ क्या नमकीन और गरम था, मैं सारा माल पीकर अरुण को किस करने लग गया। 

उसने मेरे मुँह से अपने मुँह में ले लिया, और मैंने उसका पानी उसके मुँह में डाल दिया।

उसने फिर से वो पानी मेरे मुँह में डाला, और इस तरह हम दोनों ऐसे ही काफी देर तक किस करते रहे। अ

रुण ने फिर मेरा पानी मुंह मार कर निकाला, और वो हम दोनो तब भी किस कर रहे थे।

बात यहां पर ख़त्म नहीं होती, ये सब होने के बाद उसने मुझे नीचे बिठाया कर मेरी पूरी बॉडी पर पेशाब किया। यह बहुत गंदा था और याख, पर दोस्तो मैं आपको बता दूँ।

जब उसकी पेशावर की गरम धार मेरी बॉडी पर पड़ी तो मुझे मजा आ गया। मैं आपको वो समझाकर नहीं बताता, पर मुझे ये अच्छा नहीं लगता। ( Desi Ladke Ne Gand Mari )

पर अरुण को इसमें कुछ बुरा नहीं लगा। उसके बाद मैंने खुद को साफ किया, 

और फिर हम दोनो 3 दिन तक रात में साथ सोये। और तीन रात तक उसने मेरी जमकर गांड मारी।

तो ये मेरा अब तक का सबसे बेहतरीन टूर था, ऐसा मुझे कभी कोई नहीं मिला। मुझे तुम्हारी याद आती है.