Gand Chudai Ki Kahani 4 ऑफिस की लड़की की गांड चुदाई की कहानी भाग – 4

Gand Chudai Ki Kahani 4 ऑफिस की लड़की की गांड चुदाई की कहानी भाग – 4

This entry is part in the series Office Me Ladki Ki Chudai

पिछला भाग पढ़े:- Gand Chudai Ki Kahani 3

नमस्ते पाठकों, Gand Chudai Ki Kahani 4 इस भाग को पढ़ने से पहले पिछला भाग ज़रूर पढे।

मेरा नाम अमरजीत हैं और आपकी सेवा में फिर से हाजिर Hindi X Story लेकर।

आप सब जानते हैं कि मैं एक कॉलबॉय हूं और अपनी Free Sex Kahani पोस्ट करता हूं तो अपनी एक सच्ची कहानी के साथ हाजिर हूं। 

मेरी उम्र 29 है और मेरे लंड का साइज़ 6 इंच है। देखने में स्मार्ट और लंबा हूँ, 6 फीट की हाइट है। तो अब कहानी पर आते हैं।

जैसे की आखिरी पार्ट में आपने पढ़ा कि कैसे सोनी की गांड मारी और कैसे उसकी सहेली मोनी हमारे कमरे में आ गई। 

जब मैं बाथरूम से बाहर आई तो सोनी ने सिर्फ तौलिया पहना था और मैंने भी सिर्फ तौलिया पहना था। मोनी ने एक टी-शर्ट और एक लोअर पहन रखा था। 

फिर थोड़ी देर इधर-उधर की बातें करने के बाद सोनी बोली: अमरजीत एक काम और करोगे? 

मैंने बोला: हा बोलो क्या हुआ? 

सोनी: यार मोनी को भी मज़ा लेना है। क्या तुम उसे भी मजा दोगे? 

लेकिन हां, गांड में नहीं चूत में चाहिए। सोनी की बात सुन कर मोनी शर्मा गई, और नीचे की तरफ देखने लगी। 

तब मैंने बोला: हां क्यों नहीं, अगर मोनी चाहेगी तो जरूर करूंगा। पर ये तो शर्मा रही है, कैसे कर पाएगी?

 सोनी: आप शुरू तो करो अमरजीत, फिर नहीं शर्माएगी। और वैसे भी इसको सेक्स बहुत ज्यादा पसंद है। तभी तो अपनी चूत की सील तुड़वा ली पहले ही बॉयफ्रेंड से। पर अब इसका ब्रेकअप हो गया है। ( Gand Chudai Ki Kahani 4 )

फिर मैं मोनी की तरफ गया, और उसको सोफे से अपने भगवान में उठा कर बिस्तर पर ला कर बिठा दिया। फिर मैं खड़े-खड़े ही सर झुका कर उसके होठों को चूसने लगा, और वो भी मेरे साथ देने लगी।

वो धीरे-धीरे पीछे की तरफ झुकती चली गई, और मैं उसके ऊपर किस करते-करते ही लेट गया। सोनी को हम दोनो भूल ही गए थे, तो सोनी भी हमारे पास आ कर बोली-

सोनी: तुम लगे रहो, मैं जा रही हूँ बाहर।

पर मोनी ने उसको रोक लिया, तो वो हमारे पास ही बैठ गयी। थोड़ी देर किस करने के बाद मैंने मोनी की टी-शर्ट उतार दी, 

और उसकी गर्दन को चूमते-चूमते उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसकी चूची को मसलने लगा, जिससे वो आहें भरने लगी

मोनी: आह धीरे दबाओ यार, बहुत अच्छा लग रहा है है. फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी, और उसकी दोनों चूचियों को दोनों हाथों से दबाने लगा, और बारी-बारी से चूसने लगा। 

वो मज़े से पागल हो रही थी। उदार सोनी भी हमें देख कर गरम हो रही थी, और अपने बदन को धीरे-धीरे सहला रही थी। 

इधर मैं पूरी तरह मोनी के ऊपर आ गया था, और उसकी चुचियों को खूब दबा-दबा कर चूस रहा था, जैसे वो पागल हो रही थी।

वो अपना सर इधर-उधर पटक रही थी, और दोनो हाथों से मेरे सर को पकड़ के अपनी चुचियों पर दबा रही थी। 

मोनी: आह स्स्स, अमरजीत खा जाओ इन्हें, ज़ोर से चुनो आह, मर गई। बिल्कुल पागल कर दिया आपने।

मैंने उसकी साइड में होकर चुचियों को चूमते-चूमते उसके नीचे के हिस्से को हाथ से दबा दिया। ( Gand Chudai Ki Kahani 4 )

फिर मैं उसकी चूत को सहलाने लगा। उसकी चूत बिलकुल चिकनी थी। एक भी बाल नहीं था उसकी चूत पर, और बिलकुल गीली थी। 

15 मिनट तक मोनी की चुचिया चूसने के बाद मैं धीरे-धीरे उसके पेट को चूमने और चाटने लगी, और फिर धीरे से उसके नीचे के पास तक उसने एक-दम मेरा सर पकड़ लिया और बोली-

Gand Chudai Ki Kahani 4 -

मोनी: यार मार डालोगे क्या आज।और वो मज़े से पागल होते हुए सिसकियाँ भर रही थी। 

फिर मैंने धीरे से उसका हाथ हटाया, और उसके निचले हिस्से को थोड़ा सा नीचे करके इलास्टिक वाली जगह को छूने लगा। वो तो बस पागल हुई जा रही थी। 

उसने पास बैठी सोनी का हाथ पकड़ लिया, और अपने ऊपर खींचकर सोनी के हाथों को छूने लगी। वो दोनो एक दम पागलों की तरह एक दूसरे को किस करने लगी। ( Gand Chudai Ki Kahani 4 )

फिर मैंने धीरे-धीरे मोना का नीचे उतार दिया। उसके बाद उसकी जाँघों को छूने लगा। इसे वो इतनी मस्त हो गई कि दोनों एक-दूसरे से लिपट गई और एक-दूसरे की चुचियों से खेलने लगी और एक दूसरे को किस करने लगी। 

इधर मैं मोना की पूरी टांगो को किस करने लगा। उसने अपने तांगे फेल ली, जिसकी मुझे चूत साफ-साफ दिखने लगी, और उससे निकलता हुआ पानी भी। 

दोस्तों वो पहले से चुदी हुई थी, पर उसकी चुत देख कर ये तो समझ आ गया था कि ज्यादा चुदी नहीं हुई थी। तो मैं धीरे से उठा, और उसकी चूत पर सीधा मुँह लगा दिया, 

जिससे वो एक-दम पागल हो गई, और उसने सोनी की चुचियों को ज़ोर से दबा दिया। इस सोनी के मुँह से भी ज़ोर की आह निकल गई। सोनी: आह मोना, धीरे। मार डालेगी क्या, धीरे दबा।

पर मोना उसकी एक भी नहीं सुन रही थी, क्योंकि मैं लगातार उसकी चूत के अंदर अपनी जीभ घुमा रहा था, और वो बस अपना कामरस छोड़ रही थी, और अपनी आग को कंट्रोल करने में लगी थी। 

मोना: सोनी क्या करुँ जान, इतना मज़ा तो आज तक नहीं आया। ये अमरजीत पता नहीं क्या-क्या कर रहा है। ये तो कभी मेरे बॉयफ्रेंड ने भी नहीं किया।

मुझे नहीं पता था इसमें इतना मज़ा आता है। उसे देख कर सोनी भी पूरी गरम हो गई, और उसके शरीर से अपने शरीर को रगड़ने लगी। 

इसके सोनी का तौलिया भी उसके जिस्म से अलग हो गया। वो दोनो फिर नंगी हो गई, और एक दूसरे को किस करने लगी। मैं मोना की चूत को चाटते हुए उन दोनों को देख रहा था। ( Gand Chudai Ki Kahani 4 )

मैंने देखा सोनी उसके ऊपर झुक कर किस कर रही थी, जिसकी सोनी की चूत और गांड भी मुझे साफ दिख रही थी। सोनी की गांड जो मैंने अभी चोदी थी, थोड़ी सूज गई थी, 

और सोनी की चूत से भी उसका काम-रस निकलने लगा था, जिसकी चूत पूरी चमक रही थी। दोस्तों क्या नज़ारा था. दो नंगी जवान लड़कियां जो मेरे सामने एक-दूसरे के ऊपर एक-दूसरे को छू रही थी, चढ़ रही थी। 

तो दोस्तों आगे की Hindi Sex Stories with Pictures अगले भाग में जल्दी ही अपलोड करूंगा, कि कैसे हमारी चुदाई हुई, और फिर थ्रीसम भी हुआ।

कोई भाभी लड़की आंटी कॉलबॉय सर्विस चाहती है तो South Ex Escorts पर जाएं।

Series Navigation<< Gand Chudai Ki Kahani 3 ऑफिस की लड़की की गांड चुदाई की कहानी भाग – 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *