मेरी गांड का दीवाना मेरा दोस्त – Gand Ka Deewana

मेरी गांड का दीवाना मेरा दोस्त – Gand Ka Deewana

मेरा एक दोस्त था आदिल, जो मेरी Gand Ka Deewana था। जब उसे पता चला था कि मैं गे हूँ, तो थोड़ा शर्मीला था। तो एक दिन मैंने उसको हॉर्नी करके लंड चूसा था और गांड मरवाया था। 

चलिए अब Hindi Gay Sex Story शुरू किया जाए

उसके बाद से बहुत बार मुझे चोदा। उसको मेरी गांड का नशा हो गया था। कॉलेज में भी मेरे साथ बैठा करता था। 

उसमें हवस बहुत था। वो मेरी गांड का दीवाना था. जब भी मिलता था तो मेरी गांड पर थप्पड़ मार के मुझसे बात करता था। वो जानवरो की तरह मेरी गांड मरता था। 

एक बार उसने हमारे दोस्तों के सामने मेरी खुले में गांड मारी। एक बार हम एक दोस्त के घर पर थे।

हम 4 लोग थे, उसमें वो भी था। हम उस दोस्त के घर की छत पर थे। 

और वो हॉर्नी था. बातों-बातों में उनको मेरी गांड के साथ खेलते-खेलते हवस चढ़ गई। फिर वो पैंट से अपना 5 इंच का खड़ा लंड निकाल कर हम सभी को दिखाने लगा, खास कर मुझे। 

आदिल (लंड पैंट से निकलते हुए): आया, मेरा खड़ा है। देख लो मेरा लंड. ये देख राज तेरी मोटी गांड देख कर मेरा लंड कैसा खड़ा है। मैं: अरे वाह, अभी से हॉर्नी हुहहह।

फिर मैं उसके लंड को अपने हाथों में लेकर हिलाता हूं। मेरे दूसरे दोस्त: अबे क्या कर रहे हो तुम दोनो? पागल हो गए हो क्या? 

कोई देख लेगा. मैं: देख लेने दे आज सब को मुश्किल करके रखूंगा। फिर मैं सबके सामने उसका लंड मुँह में लेकर चूसने लगा।

फुल रंडियों वाले एक्सप्रेशन देते हुए उसका लंड चूम रहा था। मेरे बाकी के दोस्त शॉक में घूर-घूर कर देख रहा थे। फिर मैंने पैंट खोली, और आदिल ने अपना लंड मेरे छेद में घुसा दिया। 

उफ्फ्फ क्या चोदता है साला। उसका 5 इंच का लंड एकदम अंदर घुसा था। ऐसा लगता था मेरा छेद उसके ही लंड के लिए बना हो। 

पूरा अंदर तक जाता था, और ज़ोर से चोदा गया था। पूरी तरह से चुदाई करता था मेरी। गांड से थप थप करने की आवाज़ आती था। 

उसने मुझे घोड़ी बना के सबके सामने पेला। गांड में अपना माल भी निकला. उसका माल भी बहुत ज्यादा निकलता था। छेद से क्रीमपाई लीक करता था मेरा। 

उफ्फ़, उसकी चुदाई में मज़ा था। एक दोस्त का तो लंड खड़ा हो गया मुझे चुदते देख। वो घूर-घूर कर मेरी मोटी गांड को देख रहा था, और उसका लंड भी खड़ा हो गया था। 

मैं: क्यों बे, मेरी चुदाई देख के खड़ा हो गया तेरा। वो दोस्त: हट, मैं ये सब नहीं करता। ये बोल कर वो चला गया. मुझे पता था वो सीधे होने का नाटक कर रहा था। 

पर अब वो मेरे बारे में सोच कर मुंह मारेगा। मेरी और आदिल की चुदाई खूब चलती था। वो इतना चोदता था, और अपना माल इतनी बार मेरी गांड के छेद में निकाला, कि अगर मैं औरत होती, तो 10 बच्चे पैदा कर देता। 

उसका भी टाइमपास होता था मेरी गांड मारने में। एक बार हम कॉलेज में थे, और एक सेमिनार चल रहा था। मैं कॉलेज में थोड़ी देर रुका था तो वो आखिरी बेंच में अकेला बैठा था। 

मैं जाकर उसके पास बैठ गया। देखा तो उसने मेरी फोटो को टेबल के नीचे रख के पैंट के ऊपर से अपना लंड मसल रहा था। मैंने उसकी जांघों पर अपना हाथ रखा। 

आदिल: अरे South Ex की रंडी तू आ गया। इतनी देर कहाँ लगा दी? आज कोई फिर लंड देने आया था तुझे, है न? मैं: अरे ट्रैफिक तो बहुत हो गया।

आदिल: अच्छा देख तेरी याद में मेरे लंड की हालत। आज माल पिएगा या अपनी गांड में लेगा? और फिर उसने टेबल के नीचे अपनी ज़िप खोल कर अपना खड़ा टाइट लंड बाहर निकाला। 

मैं उसका लंड पकड़ कर हिलाने लग गया। उसके लंड को मसल ही रहा था मैं, कि सेकंड लास्ट बेंच पर बैठा एक लड़का हमें देख रहा था। 

वो जाने की कोशिश कर रहा था कि हम लोग टेबल के नीचे क्या कर रहे थे। कक्षा बड़ा था, और 100 से अधिक छात्र वहां थे। तो टीचर का भी ध्यान नहीं था हम पर. फिर उसका लंड इतना टाइट था कि मैं भी हॉर्नी हो गया। 

वो मेरी पैंट के अंदर हाथ डालकर मेरी गांड छू रहा था। फिर मैं चुप-चाप टेबल के नीचे गया, और उसके लंड को थूक लगाकर चूसने लगा। 

उसका मोटा टाइट लंड को रंडियों वाले एक्सप्रेशन देते हुए चूज़ कर रहा था मैं। आदिल: आआह्ह, चूस मेरा लंड साली रंडी, चूस।

मुख्य: उम्म उम्म.

वो दूसरा लड़का हमें देखने के लिए चुपके से पीछे वाले बेंच पर आ गया, और आदिल की बगल वाली सीट पर बैठ गया। वो लड़का: अबे तुम लोग क्या कर रहे हो। 

लाइव क्लास चल रही है. कोई देख लिया तो निकाल देंगे तुम दोनों को। आदिल: चुप भोंसड़ी के. देख नहीं रहा रंडी लंड चूस रही है। आज इसकी गांड फाड़ुंगा। 

मेरा लंड इसके छेद के लिए तरस रहा है। चूस मादरचोद चूस मेरा लंड (मेरे सर के बाल पकड़ कर मुँह चोद रहा था)।

वो लड़का: तूने इसकी गांड मारी है? 

आदिल: अरे चोद-चोद के छेद बड़ा कर दिया इसका। 

वो लड़का: वाह, सही है। इसकी गांड मस्त चलती है जब ये चलता है। क्लास में सारी लड़कियों से भी मस्त गांड है इसकी। पीछे से पूरा नोरा फतेही लगता है ये साला। 

आदिल: सही बोला भाई, इसकी मोटी गांड मारने का जो मजा है ना, कोई लड़की उतना मजा नहीं देगी। इसकी गांड मारेगा बोल? 

वो लड़का: जरूर-जरूर. फिर मैंने उस लड़के की पैंट पे हाथ फेरने लगा। मेरे मुँह में पहले से ही आदिल का लंड था। वो लड़के का लंड भी टाइट था. फिर वो लड़के ने भी ज़िप खोल कर अपना खड़ा लंड बाहर निकाला। 

एक-दम 5 से 6 इंच का काला लंड था। मैंने उसके लंड को मसल-मसल कर हिलाया और थूक लगाई और चूसना शुरू किया। वो लड़का: आआह्ह उफ्फ़ यार, क्या मस्त मज़ा देता है ये बहन का लौड़ा। 

मैं दोनो के लंड को बारी-बारी से चूस रहा था। दोनो का लंड मेरी थूक से गीला हो गया था। पूरी रंडियों की तरह चूसा जा रहा था। थोड़ी ही देर में आदिल झड़ गया, और मेरे मुँह के अंदर अपना माल चोद दिया। 

मैं पूरा चूज़ पी गया। फिर वो लड़के के चूत-चूतड़े उसका भी चूत में वीर्य निकल गया। दोनो ओर्गास्म में आंखें बंद करके रखे। अच्छा हुआ क्लास बहुत बड़ी था, और कोई बुधिया जैसी मैडम था। 

तो उसका और बाकी छात्रों का ध्यान हम पर नहीं गया। मैंने उन दोनों का लंड मस्त चूसा, और उन दोनों का वीर्य पी गया। फिर कुछ देर बाद वो सेमिनार ख़त्म हुआ और हम कैंटीन की तरफ़ चले गए। 

फिर और भी दोस्तों से मिले. उन लोगों को कुछ पता नहीं था कि मैं आखिरी बेंच पर 2-2 लंड चूस कर वीर्य पी गया था। फिर जब ब्रेक ख़त्म हुआ, और हम क्लास की तरफ जा रहे थे। 

वो दूसरा लड़का मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे बुलाने लगा। आदिल ने भी ये देखा और हम तीनो रुक गए। सभी के जाने के बाद हम कैंटीन के पीछे एक छोटी सी गली है, वहां कोई आता-जाता नहीं था। 

वो लड़का मेरी गांड पर ज़ोर का थप्पड़ मारा। फिर आदिल भी मेरी गांड को पकड़ के दबाने लगा। आदिल: चल रंडी पैंट खोल, आज तुझे चोद-चोद के तुझे प्रेग्नेंट करूंगा। 

मैंने अपनी पैंट खोली और आदिल ने मेरे अंडरवियर को पकड़ कर फाड़ दिया। फिर मेरी गांड के छेद में उंगली घुसने लग गई। वो लड़के ने अपना लंड निकाला और मैं चूसने लग गया। 

फिर पीछे से आदिल मेरी गांड में उंगली करते हुए जीभ मेरे छेद में डाल रहा था। वो मेरे छेद को गीला कर रहा था। फिर आदिल ने मेरी गांड के छेद में लंड सेट किया, और एक शॉट में पूरा अंदर तक चला गया। 

उसके बाद जो चुदाई हुई, घपा-घप एक-दम। गांड में से थप थप थप करके ज़ोर-ज़ोर से आवाज़ आ रही था। दूसरी तरफ वो लड़का मेरा मुँह चोद रहा था। इसमें मैं हॉर्नी हो गया और मजे से चुदने लगा। 

क्या चुदाई हो रही था, दोनो तरफ से दोनो छेद भर रहे थे। फिर थोड़ी देर बाद दोनो ने जगह स्विच की, और चोदने लगे। 

आदिल मेरा मुँह चोदा, और वो दूसरा लड़का मेरी गांड का छेद। उसका भी लंड मेरी गांड चीर रहा था, और बहुत मज़ा आ रहा था। ऐसे ही चुदाई हुई, और फिर आदिल ने आइडिया दिया कि साथ में बारी-बारी चोदते हैं। 

वहा पुरानी ऑफिस कुर्सियां ​​और मेजें रखे थे। एक घूमने वाली कुर्सी पर मुझे डॉगी स्टाइल में खड़ा करवाया, और एक-एक शॉट बारी-बारी करके मेरी गांड को चोदा। 

पूरा अंदर तक दाल के निकलता था। गांड पर थप्पड़ भी मारता था, और ज़ोर से चोदता था। ऐसे ही रफ चुदाई के बाद आदिल ने डबल पेनिट्रेशन का आइडिया दिया। मैं डर गया. 

मैं सोचा अंदर 2 गए तो गांड सच में फट जाएगी। मैंने मना किया, पर आदिल ने मुझे थप्पड़ मारा और कहा-

आदिल: चुप मादरचोद। नहीं चुदेगा ना तो तेरे घर में घुस के तेरी माँ को चोदूंगा। फ़िर आदिल उस कुर्सी पर बैठा, और मैं उसकी गोद में। 

मेरी गांड में लंड डाल दिया उसने, और 3- 4 शॉट मार दिए। फिर वो दूसरा लड़का आया और मेरी गांड में लंड घुसाने लगा। 

शुरू में बहुत दर्द हुआ. आँखों में आँसू आ गए २ लंड एक साथ लेने में। पर जैसे-तैसे दोनो ने एक साथ घुस दिया। आदिल मेरे मुँह में हाथ रखा था कि मैं चिल्लाऊ नहीं। 

दोनो का लंड मेरी गांड चीरते अंदर तक चोद रहा था। दोनो ने एक साथ चोदा, और फिर जब दोनो ने लंड निकाला, मेरा छेद और चौड़ा हो गया था। 

गांड की स्किन थोड़ी जल रही था, और दर्द भी हो रहा था। फिर दोनो ने मुझे घुटनों के बल बिठाया और मेरे मुँह के पास हिलाने लगे। फिर दोनो झड़ गए। 

मेरे पूरे चेहरे पर दोनों का मुंह भर गया। फिर दोनो का लंड चूसे हुए साफ किया, और सारे वीर्य की बूंदें चूसे हुए पी गया। ऐसी हुई था मेरी रफ चुदाई। 

मैं मेरे दोस्त को पहली बार मेंशन कर रहा हूं। क्योंकि मुझे उसकी अनुमति चाहिए था।

ये कहानी मुझे 2 दिन लगे लिखने में। और आपको जान कर मजा आएगा कि ये सच्ची कहानी मेरी और आदिल की मैंने आदिल को पढ़ने दी। 

और वो इतना हॉर्नी हो गया कि ये कहानी पढ़कर मुझे अपने घर पे चोदने लगा। अभी वो मेरे मुँह पर झड़ गया है, और मैं उसका लंड चूसने का साफ़ कर रहा हूँ। 

अभी ये आखिरी पैराग्राफ उसका लंड मुँह में लेकर लिख रहा हूँ। आप लोग जब ये पढ़ोगे तो अपना लंड हिलाना जरूर, और मेरे नाम की मुठ मारना जरूर। 

आप कल्पना कर सकते हो कि Meri Chudai होते हुए मैंने ये कहानी लिखी है। अपना लंड हिला-हिला कर मेरी गांड चोदिये। मेरी गांड का छेद चुदने के लिए ज्यादा बना है। 

मुझे ये रंडी बनने में बहुत मज़ा आ रहा है। आप लोग भी मुझे अपनी रंडी बना सकते हो। मुझे मैसेज करने के लिए.

One thought on “मेरी गांड का दीवाना मेरा दोस्त – Gand Ka Deewana

Comments are closed.