मनाली में गांड मराली भाग 2 – Manali Me Gand Mara Li 2 – Threesome Gay Sex

मनाली में गांड मराली भाग 2 – Manali Me Gand Mara Li 2 – Threesome Gay Sex

पिछला भाग पढ़े:- Manali Me Gand Mara Li

मैं रोहित, 18 साल का हूँ, ये Manali Me Gand Mara Li 2 की कहानी पिछले साल की है।

चलिए अब आपको सीधे Hindi Gay Sex Story पे चलता हूँ।

अगली सुबह 7 बजे:-

सभी अभी भी नंगे सोए हुए थे। भैया ने मुझे कस्स के पकड़ रखा था। मैं उतर कर फ्रेश होने गया। मेरी गांड बहुत दर्द कर रही थी। 

रात में दारू की वजह से फील नहीं हुआ, लेकिन अब दर्द हो रहा था। मैं नंगा ही बालकनी का हीटर ऑन करके सिगरेट पीने लगा। 

बालकनी पूरी तरह से कांच से ढकी हुई थी। 15 मिनट बाद भैया ने मुझे पीछे से पकड़ लिया। 

भैया: रोहित तुझे लोड़ा लेना पसंद था, तो पहले क्यों नहीं बताया? मैं क्या मनाता क्या तुझे? थोड़ा शर्मीले हुए बोला-

मैं: भैया मुझे सिर्फ़ आपके साथ ही सेक्स करना था। लेकिन कल दारू की वजह से पता नहीं मैं सबके लिए कैसे सहमत हो गया। 

भैया: कोई नहीं, अब तो हो गया। सब सो रहे हैं. मेरे साथ कर ले अब कोई नहीं है। भैया मेरे होठों पर लाम्बा सा किस करने लगे। 

चारो तरफ मस्त पहाड़ों की वादियाँ, और घर-घर पहाड़ों पर बारिश थी। बालकनी के हीटर की गर्मी और मेरे बदन पर भैया की गर्मी थी। 

शायद सब्दों में समझा ही नहीं जा सकता। 10 मिनट किस करने के बाद मैं भैया का लौड़ा चूसने लगा। 

भैया: यार क्या मस्त लौड़ा चूसता है तू। बीसी लड़कियां भी नहीं चूसती ऐसे तो। चूसो, चूसो, जान चूसो इसे। भैया मेरे सर पर हाथ रख कर मेरा मुँह चोदने लगे। 

बहुत तेज़-तेज़ मुझे चोदने लग. 10 मिनट बाद भैया ने मुझे उल्टा खड़ा करके मेरे छेद पर अपना थूक लगा कर एक साथ पूरा लौड़ा मेरी गांड में डाल दिया। 

सूजन की वजह से बहुत दर्द हो रहा था। मैं बहुत तेज़ चिल्लाने लगा, “आआआआ भैया, बहुत दर्द हो रहा है।” भैया अब सुनने के मूड में नहीं थे। 

वो बहुत हार्ड मेरी गांड चोदने लगे. तेज़-तेज़ झटकों से मेरी गांड बहुत तेज़ दर्द कर रही थी। भैया मेरे मुँह पर हाथ रख कर चोदने लगे। 

भैया: चिल्ला मत, मामा जाग गए तो सोच ले तेरी गांड का क्या होगा। 15 मिनट इसी पोजीशन में चोदने के बाद भैया ने मुझे डॉगी पोजीशन में चोदना शुरू कर दिया। 

अब मेरी गांड का दर्द नॉर्मल होने लगा। अब हम दोनो बहुत मज़े लेने लगे चुदाई के। तभी अंदर से आवाज़ आई। भैया अंदर देखने गए। फिर आ कर बोले-

भैया: कुछ नहीं यार, नींद में कुछ-कुछ बोल रहे हैं। चल स्विमिंग पूल में चलते हैं। हम दोनो स्विमिंग पूल के साइड बेंच पर पूरी चुदाई के मजे लेने लगे। 

20 मिनट की चुदाई के बाद भैया ने पूरा माल मेरी गांड में ही निकाल दिया। फिर बम दोनो नहा कर कमरे में आये। सभी मामा अभी भी सो रहे थे। भैया (धीरे ​​से): रेडी हो जा, बाहर चलते हैं घूमने, इनको सोने दे।

 मार्केट में हमने दर्द की दवाई और क्रीम ली। उसके बाद बाजार घूमे. खाना खाने के बाद हम दोनो पूरी तरह से भूल भुलैया करके, 12:30 बजे तक हम सब का खाना लेकर रिसोर्ट पहुँच गए।

जीत मामा वॉशरूम में थीं, और बाकी तीनो अभी भी सो रहे थे। भैया और मैं बहुत थक गए थे, इसलिए भैया बिस्तर पर और मैं सोफे पर सो गया। 15 मिनट बाद:-

जीत मामा: कब आए, और सो भी गए क्या?

भैया: आप लोग खाना खा लो, मुझे नींद आ रही है। मैं कंबल के अंदर सो गया। जीत मामा खाना खाकर नहाने चले गए। करीब 30 मिनट बाद वो आए, और फिर मुझे बोलने लगे-

जीत मामा: रोहित यार साइड हो थोड़ा, मुझे भी जगह दे।

मैं अभी भी नींद में था. मामा ने मुझे पीछे से पकड़ लिया। फिर हम दोनो सोने लगे. थोड़ी देर बाद अचानक मेरी आंख खुली। मामा मेरे कपड़े उतारने लगे। 

पहले शर्ट, फिर पायजामा, और अंत में अंडरवियर। धीरे-धीरे वो मेरे शरीर को सहलाने लगे, और अपना अंडरवियर उतार कर अपना लौड़ा मेरी गांड पर ।

तभी प्रीत मामा की आवाज़ आई: यार अमर, जाग जा यार, खाना खा ले। फिर नहा कर चलते हैं बाहर। ये आवाज़ सुन कर जीत मामा मेरे जिस्म से खेलना बंद कर दिए और शांत हो गए। 

मुझे फिर नींद आ गयी। थोड़ी देर बाद अचानक हमारी कंबल प्रीत मामा ने हटा दी। अमर मामा अभी भी नहा रहे थे। प्रीत (धीरे ​​से): बीसी तू है क्या, मुझे लगा जस्सी है इसके साथ। 

तू सही मज़े ले रहा है इसकी गांड के। जीत: नहीं यार, ऐसा ही हो रहा है ये। रात से थक गया है, पहली बार है इसका। 

सोने दे. दोनो मामा ने मुझे नंगा ही बिस्तर पर लिटा दिया। फिर दोनो नंगे ही मुझे बीच में करके ले गये। एक मामा ने अपना चेहरा मेरे लौड़े के पास और अपना लौड़ा मेरे मुँह के पास रखा। 

और दूसरे ने अपना लौड़ा मेरी गांड से चिपका रखा था। मैं: क्या कर रहे हो? जीत: सोजा, कुछ नहीं बस नंगे सो रहे हैं, और कुछ नहीं, सोजा। 

हम तीनों ने बिस्तर पर कम्बल और पूरा ओढ़कर राखी थी। और बिस्तर पर दूसरे कम्बल में भैया थे। थोड़ी देर बाद अमर भी आ गया। 

अमर: सोने आये हो क्या? अमर मामा बोतल लेकर पीने लगे। अब मुझे नींद आने वाली थी। जब दो मर्द मेरे साथ नंगे लेते हो। 

मैंने भी एक का लोड़ा मुँह में ले लिया, और उन्होंने मेरा, और दूसरे ने मेरी गांड पर थूक लगा कर मेरी गांड में लोड़ा घुसा दिया। धीरे-धीरे दोनो मेरे दोनो छेदों को चोदने लगे। 

2-3 मिनट ऐसे ही करते रहे। अमर: बीसी ये क्या चल रहा है? बोल कर कंबल हटा दी। अमर: अकेले अकेले, गलत बात है यार। 

मैं: यहां भैया सो रहे हैं। हम तीनों स्पा रूम में चलते हैं।

अमर: रात की चुदाई के बाद लगता है हमारे लौड़े बहुत पसंद आ गए हैं। तेरे भैया के लोडे से डर लग रहा है क्या? 

(अब इनको कौन बताए भैया तो पहले ही छेद को गुफा बना चुके थे)

मामा मुझे कंडे पर बिठाकर स्पा ले गए। फिर एक-एक करके सब ने मुझे पूरी भूलभुलैया से छोड़ा। 10 मिनट चोदने के बाद स्पा में सब को गर्मी लग रही थी। 

हम बाहर स्विमिंग पूल के किनारे बेंच पर आकर पूरी चुदाई करने लगे। कभी एक का लोड़ा मेरी गांड में होता तो कभी दूसरे का। कभी एक मेरे मुँह की चुदाई करता, कभी दूसरा। 

प्रीत कमरे में जाकर लुब्रिकेंट लेकर आया। प्रीत: यार अब आएगा मज़ा। जब एक गांड और एक मुँह चोदता है, तो तीसरा फ्री होता है। 

ये अच्छी बात थोड़ी है. अमर: पागल, नहीं ले पायेगा ये। मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। ये क्या हो रहा था. जीत: ले लेगा, रात से अब तक कितनी खुल गई है इसकी। 

अब प्रीत मेरे नीचे, जीत मेरी गांड के आगे, और अमर मेरे मुँह के पास थे। अमर ने मेरे मुँह में लोड दिया, और बाकी दोनो अपने लोडों पर लुब्रिकेंट लगाने लगे।

फिर उंगलियों से मेरी गांड के अंदर तक लुब्रिकेंट भर दिया। फिर एक ने लोडा डाला, और बहुत आराम से घुसा दिया। अब दूसरे ने जैसा ही डाला। सब ने मुझे पकड़ लिया, और एक झटके में अंदर करने लगे। 

लेकिन पूरा नहीं हुआ. मैंने मुँह से लौड़ा निकाल कर बहुत तेज़ चीकने लगा। मैं: नहीं नहीं, ये मत करो। बहुत दर्द हो रहा है. प्लीज, आआआह.

स्विमिंग पूल हमारे कमरे के पास ही था, और पूरा कवर होने की वजह से कमरे में आवाज़ आती है। तभी भैया बहुत तेज़ भागते हुए स्विमिंग पूल पर आये। 

तभी मामा ने दूसरे झटके के साथ लोडा अंदर कर दिया। अब मेरी गांड में 2 लोड थे.

भैया (गुस्से में): मम्मा ये क्या है! बीसी रंडी है क्या ये, जो दो लोड घुसा रखे हैं? 

कुछ हो गया तो क्या करोगे? मैं बहुत तेज़ भागते हुए भैया के पास गया। मैं (रोते हुए): मैंने बोला भी एक-एक करके कर लो। प्रीत: कोई नहीं, तू भी आजा जस्सी। एक-एक करके गांड मार लेते हैं। 

अब खुश? फिर मैंने भैया का लोड़ा पकड़ लिया और पैंट उतार कर उनका लोड़ा चूसने लगा। अब सभी मेरी एक-एक करके गांड मारने लगे। 

ऐसे ही करते-करते सब एक-एक करके मेरे मुँह पर अपना माल निकाल कर चले गए।

अगले दिन तक सब ने मुझे चोद-चोद कर पूरी रांड बना दिया था। अगले दिन की रात को सेक्स करते हुए।

मैं: प्रीत यार 2 लोड ट्राई करें? प्रीत: हम तो तैयार हैं, तेरे भैया से पूछ ले।

भैया: मेरा लेगा तो करने दूंगा। बस फिर क्या था, भैया और प्रीत ने मेरी गांड में लोड डाल दिए। 

पहले तो बहुत दर्द हुआ, बहुत सारा लुब्रिकेंट लगने के बाद भी।

फिर धीरे-धीरे झटके देने से 10 मिनट बाद दर्द सामान्य हो गया। फिर क्या था, सब ने दो-दो करके मेरी गांड मारना शुरू कर दिया। 

वह रात हमारे रिसॉर्ट में कल रात थी। अगली सुबह सबने निकलने से पहले पहली बालकनी में अपने लड़कों के साथ मेरी गांड का भोंसड़ा बना दिया। घर आने के बाद सभी मामा अपने-अपने घर चले गए। 

लेकिन अब भैया को जब टाइम मिलता है तब ही गांड मार लेते हैं।

बहुत बार तो मैं मम्मी को बोल कर भैया के पास रात में भी रुक जाता हूँ। पिछले कुछ महीनों से भैया की पत्नी आई हुई थी, इसलिए जाना नहीं हो रहा था। 

लेकिन कल भैया की पत्नी के जाने के बाद आज जब मैं यह कहानी लिख रहा था, उससे पहले ही मैंने अपनी गांड की खुजली मिटाई है। तो कैसी लगी मेरी Gay Hindi Sex Stories दोस्तों