ट्रेन में सुंदर सुशील कुंवारी लड़की की गुलाबी चुत के दर्शन

ट्रेन में सुंदर सुशील कुंवारी लड़की की गुलाबी चुत के दर्शन

नमस्ते दोस्तों, मेरा नाम प्रीत है। मेरी उमर 20 साल है और मैं अभी तक वर्जिन हूँ। 

मैं एक अंतर्मुखी हूं, जिसके कारण मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है। खैर ये बातें तो होती रहेंगी। 

मैं इस लेखन के कार्य में नया हूं, और ये मेरी पहली ( लड़की की गुलाबी चुत ) Ladki Ki Gulabi Chut चुदाई की कहानी है। 

अगर गलती हो जाए तो माफ़ करना. ये Hindi Sex Story सच्ची है. आपका स्वागत है।

बात है दिसंबर 2023 की। मैं दिल्ली से अपने घर हैदराबाद जा रहा था। 

मेरे नाम की तरह मैं एक प्यारा हूं, और दिल्ली में पढ़ता हूं।

मैं दोपहर 3 बजे ट्रेन में चढ़ा और बीच वाली सीट पर बैठ गया। पर दिन का टाइम होने के कारण मैं नीचे बैठ गया। 

ट्रेन को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन छोड़ दिया गया, और अब अगला स्टॉप आगरा था, जहां एंट्री होती है इस कहानी की नायिका की। 

काला सूट, और सलवार एक-दम कसा हुआ, और काली बिंदी माथे पर, गुलाबी होंठ, कानों में झुमके, और चश्मा लगाए हुए।

नाम: अंजली, उम्र: 22, फिगर: 34-32-34 (ये सब मुझे बाद में पता चला है दोस्तों)। 

बेहद खूबसूरत लड़की थी. खैर मैं ठहरा कुंवारा, जिसकी हर तीसरी लड़की खूबसूरत लगती है।

वो मेरे कोच के सामने खड़ी थी. मुझे मेरी किस्मत का पता था। मुझे लगा इसका कोई और कोच होगा मुझे क्या,

मैं तो दीदार से ही खुश हो गया। पर कहते है ना जिस काम की उम्मीदें हो ना हो, और वो हो जाए तो क्या ही कहना। Ladki Ki Gulabi Chut

हुआ भी वही. वो मेरे कोच में चढ़ी, और एक बार मुझे क्रॉस करके आगे निकल गई। ये मेरे लिए कोई नई बात नहीं थी, तो मैं ज्यादा उदास नहीं हुआ।

फिर किस्मत ने साथ दिया, और वो मेरे पास आ कर रुकी। मैं गधा रील्स देख रहा था.

तभी एक-दम से एक गाली वाली फनी रील आ गई। मैंने देखा और मैंने मुस्कुरा दिया, और तभी वो भी हँसी।

हायईई…, कितनी प्यारी हँसी थी वो। अब मैं भी उसे देख कर परेशान हो गया और नर्वस होकर वापस रील्स स्क्रॉल करने लगा।

उसने सामान सेट किया और मेरे सामने आ कर बैठ गयी। मेरी तो सांस में सांस अटक रही थी।

शायद ये बात उसे समझ आई तो उसने मुझे पानी पास किया और उसने हाल पूछा।

अंजली: अरे क्या हुआ आपको? सब ठीक है? ये लो पानी पी लो.

मैं: अरे नहीं-नहीं मैं ठीक हूं। Ladki Ki Gulabi Chut

और मैं अपनी बोतल से पानी पीने लगा।

वो बहुत धीरे बोली: मैंने क्या अपने पानी में ज़हर मिलाया था जो खुद का पानी पी रहा है?

मैंने बात सुनी और हंस दिया और बोला: ऐसी कोई बात नहीं है।

और फिर एक घूंट उसकी बोतल से मार ली। वो भी हस दी और फिर हमारी बातचीत चालू हुई।

पता चला कि वह भी दिल्ली में ही रहती थी और नागपुर अपने घर जा रही थी।

और किस्मत से उसकी भी मध्य जन्म थी। वो मास्टर्स कर रही थी, और मुझसे बड़ी थी।

उसने मुझसे पूछा मेरे बारे में। मैंने बताया कि मैं फाइनल ईयर में हूं डिग्री के, और फिर वहीं से मास्टर करूंगा।

अंजली: कौन सी सीट है तुम्हारी?

मैं: बीच में है। और आपकी?

अंजली: मेरी भी बीच ही है। Ladki Ki Gulabi Chut

बस फिर बातें होती रहीं। हमारे कम्पार्टमेंट में लोग आते गए जाते गए, और इनमें ही 8 बज गए। ट्रेन ग्वालियर क्रॉस कर चुकी थी,

और वो भी थोड़ी बहुत फ्लर्टिंग कर रही थी, चुकी मैं शर्मा रहा था। लेकिन मैंने सोचा कि अभी नहीं तो कभी नहीं, और मैं भी चालू हो गया।

फिर हमने साथ खाना खाया और फिर हम अपनी-अपनी बातों में लग गए। अचानक उसने मुझसे पूछा-

अंजली: तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?

मैं: नहीं यार, मैं शर्मीला हूँ। लड़कियों से बात नहीं कर पाता।

अंजली: हा-हा वो तो दिख रहा है तुम कितने शर्मीले हो।

मैंने भी हस दिया. फिर वो उठकर वॉशरूम के लिए चली गई, और जाते ही वापस आ गई।

मैंने पूछा: क्या हुआ?

तो बड़ा मासूम सा चेहरा बना कर बोली-

अंजली: वहा अँधेरा है, और मुझे डर लग रहा है। तुम चलो ना. Ladki Ki Gulabi Chut

मैं यहां से दो बात समझी। एक तो लड़की मुझ पर भरोसा दिखा रही थी, और दोस्ताना भी थी। तो मेरा काम बन सकता था.

मैं: चलो ठीक है.

फिर हम वॉशरूम से आकर अपनी-अपनी सीट पर बैठ गए और बीच वाली पर सोने लगे। मैं अपनी चादर नहीं ले आया था,

तो उसने ये देख कर अपनी शॉल पास की। उसकी खुशबू ने मेरा मन मोह लिया।

मैं लेट गया और सोने की कोशिश कर रहा था, पर सो नहीं पाया क्योंकि जिंदगी में पहली बार मेरे साथ ये सब हो रहा था। मैं तो मानो प्यार में पड़ गया।

मैंने देखा वो फ़ोन चला रही थी, और मैंने ध्यान दिया कि वो सेक्स कहानियाँ पढ़ रही थी। मैं भी रात दिन पढ़ता हूं, तो ये बात समझने में देर नहीं लगी।

साथ में वो धीरे-धीरे अपने हाथ चला रही थी, जिससे किसी को पता न चले। रात का समय था, और 11 बज रहे थे।

सब सो चुके थे, पर हम नहीं। वो शायद ज़्यादा गरम हो चुकी थी। उसने मुझे आवाज़ लगाई, और मैं सोने का नाटक करता हुआ उठा।

“हाय, रात में कितनी खूबसूरत लग रही हो”, ये मेरे मुँह से निकल गया। वो मुस्कुराया.

अंजली: वॉशरूम जाना है। Ladki Ki Gulabi Chut

मैं: वापस?

अंजली: हाँ प्लीज चलो ना।

हम फिर गए. मैंने देखा उसको टाइम लग रहा था और वो सिसकारियां भरने लगी। बाहर मेरा भी लंड खड़ा होने लगा। मैंने मस्ती में बोला-

मैं: आवाज़ कम करो, रात का टाइम है, किसी ने सुन ली तो दिक्कत हो जाएगी।

वो बहुत गरम हो चुकी थी और बोली: अरे क्या करु, नहीं रह जा रहा है। तुम ही आ कर मदद कर दो।

और इतने में गेट खुला. मैंने सोचा आज ज्यादा मेहरबान थी किस्मत। मैं चला गया और जाते ही उसने मुझे गले लगा लिया।

हम दो जिस्म एक जान होने लगे. उसने मेरे पूरे चेहरे पर किस किया, जैसे हम प्रेमी बहुत दिनों बाद मिले हो।

मैं भी पीछे नहीं हटता. मैंने भी किया, पर मैं ठहरा अनाड़ी। वो स्मूच करने लगी, पर मुझसे तो किसी लड़की से बात तक नहीं होती थी, किस कहां से आएगा? अंगिनात बात ट्राई किया, पर नहीं हुआ।

अंजली: बेबी कोई बात नहीं, तुम भूल जाओ सिर्फ। फिर कभी सिखा दूंगी तुम्हें।

मैं (मन में): साला मैं तो आज ही यही सोच रहा था पर ये तो।

फिर किसिंग के बाद मैं उसकी चूत में उंगली करने लगा, और साथ में दूसरे हाथ से उसके 34″ के लगभग हुए बूब्स दबा रहा था।

वो और डीप किस करने लगी, और २ मिनट में झड़ गई मेरे हाथ में। मैंने हाथ अलग किया उसकी चूत के पास से, और उसकी आँखों में देख कर चाटने लगा।

पता नहीं मुझे क्या हुआ, बहुत अच्छा लगा, और दो बार चाटने के बाद वो मुझे फिर स्मूच करने लगी।

आप पढ़ रहे है :- Hindi X Story  » Ladki Ki Gulabi Chut

अबकी बार मैं भी थोड़ा साथ देने लगा, और अब मेरा लंड तो फटने को था। उसका हाथ लगते ही लंड और बड़ा होने लगा।

उसने मेरी आँखों में देखा और वो नीचे जाने लगी। मैंने रोका और बोला का प्रयोग किया-

मैं: नीचे जगह गंदी है, रहने दो।

उसने मेरी ये बात सुन कर पता नहीं क्या हुआ? वो उठी, और उसने मुझे “आई लव यू बेबी” बोला। मैंने भी आई लव यू टू बोल दिया, और मैं शर्मा गया। मेरे लिए सब नया था.

अंजली: अरे बेबी, तुम शर्मा गए। अब इसकी आदत डाल लो।

फिर एक गहरा चुंबन किया, और वह फिर नीचे जाने लगी। मैंने फिर मना किया, और उसे बहुत टाइट हग किया।

इसका लंड उसकी चूत में लगा और उसकी सिसकारियां निकल गयीं। आआह्ह… बेबी. फिर वो ऐसे ही हग करते हुए मेरा लंड सहलाने लगी और मेरा २ मिनट में ही गया।

अंजली: तुम वर्जिन हो बेबी?

मैं: हा बेबी.

और वो फिर मुझसे “आई लव यू” बोली।

मैंने अबकी बार उसके स्तन दबा कर, आई लव यू टू बोला। मैने टाइम देखा तो 12 बज चुके थे

मैं: बेबी अब चले, बहुत टाइम हो गया है? किसी को पता चला तो हम पकड़े जायेंगे।

अंजली: हाँ बेबी चलो, मैं भी नहीं चाहती कि इस कहानी का अंत इतनी जल्दी और ऐसा हो (इतना बोलकर उसने मुझे आँख मारी)।

मैंने तभी सोचा साला क्योंकि मैं चूतिया सा लड़का था और इसने मुझे क्या दिखाया?

फिर हम अपने कम्पार्टमेंट में आ गए। हम अकेले ही थे, और मैं उनके सामने बैठा। उसने मुझे प्यार से अपनी तरफ बुला कर गले लगा लिया। Ladki Ki Gulabi Chut

उसके शरीर की खुशबू मुझे मंत्र-मुग्धा कर रही थी।

मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा. मैंने उसके होंठों पर किस किया और फिर हम अपने काम-वासना में डूब गए।

मैंने उसके स्तन दबाने लगा, और फिर मेरी एक उंगली उसकी चूत में चली गई। वो अपनी आवाज़ कंट्रोल कर रही थी किस करते-करते। हो सकता है वह अनुभवी हो।

मुझे क्या मुझसे तो चूत मिल ही गई थी। पर पता नहीं कितने समय के लिए।

फिर उसने मेरा हाथ रोका, और मेरी आँखों में देख कर उसने अपने एक हाथ से मेरा खड़ा लंड पकड़ा। मेरे मुँह से आआह निकल गई, और वो मेरा लंड हिलाने लगी।

फिर वो मेरा लंड मुँह में लेने लगी और मुझे ब्लोजॉब देने लगी। मैं जन्नत में था. मेरी आंखें बहुत ज्यादा होने लगी, तो वो खड़ी हुई और इथलाते हुए बोली-

अंजली: बेबी आवाज़ मत करो, वरना सब मज़ा ख़राब हो जाएगा।

मैंने अपने हाथ अपने मुँह पर रखा, और 5 मिनट में मैं झड़ गया। वो मेरा पानी पी गई, और हम फिर अपने कपड़े ठीक करके ले गए।

भोपाल स्टेशन आया तो हम अलग हुए, अपनी-अपनी सीट पर गए, और फिर सो गए। उसका स्टेशन आने वाला था। जब मेरी नींद खुली तो वो मुझे निहार ही रही थी। मुझे उठता देख बोली-

अंजली: बेबी लेते रहो, बहुत क्यूट लग रहे हो। Ladki Ki Gulabi Chut

मुझे अब उससे प्यार होने लग रहा था। उसने मुझसे मेरा फोन मांगा और अपना मोबाइल नंबर सेव कर लिया,

और मेरा नंबर भी ले गई। फिर एक आखिरी बार गुड बाय किस देने लगी। तभी उसका स्टेशन आया। मैने उसकी शॉल देनी चाही तो वो बोली-

अंजली: रहने दो ना, ये तुम्हें मेरा एहसास देगी। तुम्हें गरम रखेगी.

मैं फिर शर्मा गया.

वो बोली: तुम शर्मते हुए कितने अच्छे लगते हो।

फिर मैं बाहर तक छोड़ आया, और देखा तो उसके पापा आये और उसे लेने लगे। वो मुझे बाय बोल कर चली गई।

मुझे लगता है मैं उसे अब प्यार करने लगा हूँ, और वो भी मुझसे प्यार करती है शायद। आप सोचोगे कितना चूतिया लड़का है, पर ये सब मेरे साथ पहली बार हो रहा है, इसलिए मुझे ये एहसास हुआ।

अब देखो ये कहानी क्या मोड़ लेती है। आगे क्या हुआ ये जानेंगे अगले पार्ट में। तब तक के लिए बाय.

और हाँ दोस्तों, ये मेरी पहली Travel Sex Stories है। अगर कोई गलती हुई हो तो माफ़ कर देना और फीडबैक के लिए मेरी मेल आईडी है,

आप उस पर मुझे मेल करिए। आपको Sex Stories in Hindi कैसी लगी बताईये.

One thought on “ट्रेन में सुंदर सुशील कुंवारी लड़की की गुलाबी चुत के दर्शन

Comments are closed.