Naukrani ki Jabardast Chudai – सेक्सी सावली नौकरानी की जबरदस्त चुदाई भाग -1

Naukrani ki Jabardast Chudai – सेक्सी सावली नौकरानी की जबरदस्त चुदाई भाग -1

दोस्तों, आज की X Story Hindi में सेक्सी सावली Naukrani ki Jabardast Chudai के बारे में।

तो चलिए Hindi X Story शुरू करते है ये सेक्सी नौकरानी की चुदाई की कहानी

मैं हूँ रोहित दिल्ली ( Karol Bagh ) से। मैं 25 साल का हूँ और मेरी हाइट 5’10” है।

मेरी बॉडी भी अच्छी है. चलिए अब Free sex Kahani की तरफ बढ़ते हैं। मैं अपनी आंटी के यहां जा रहा था, क्योंकि वह बुद्धि और बीमार थी। 

देर रात मैं उनके घर पंहुचा । उन्होंने मेरा स्वागत किया और मुझे खाना दिया। 

खाना बहुत स्वादिष्ट था, और मैंने उनसे पूछा कि किसने बनाया है । उन्होंने रसोई की तरफ से इशारा करते हुए कहा कि उनकी नौकरानी ने बनाया था। 

फिर मैं उधर गया तारीफ देने, और उसको देखते ही मेरा मुँह खुला का खुला रह गया।

नौकरानी का रंग सवाल था, लेकिन वह प्यारी थी। वो पतली थी, लेकिन उसकी बॉडी सेक्सी थी, जैसे मेरा सपना सच हो गया। 

मैंने कुछ देर तक उसको घूरा, लेकिन उसको इससे शर्म नहीं आ रही थी। फिर मैंने उसको कहा कि खाना बहुत अच्छा था। 

ये सुन कर उसके चेहरे पर मुस्कुराहट आ गई। उसका नाम सोनी था. उसके चेहरे की एक तरफ से पसीना बह रहा था, 

और वो अपने काम पर दोबारा लग गई। फिर मैं लिविंग रूम में वापस आ गया और अपनी आंटी से बातें करने लगा। 

लेकिन मैं नौकरानी के बारे में ही सोचे जा रहा था। मैं बहुत हॉर्नी मेहसूस कर रहा था। मुझे अपना लंड हल्का करने की जरुरत थी। 

अब मेरी आंटी का सोने का वक्त हो गया था, और सोनी उनको लेने आई थी। जाते हुए सोनी ने मुड़ कर पीछे देखा। 

मुझे उस औरत को चोदना था, लेकिन मेरी आंटी के होते हुए ये नामुमकिन सा लग रहा था। इसलिए मैंने सोने का सोचा. 

तभी सोनी मेरे लिए कुछ चादर लेके आई और उन्होंने बिस्तर पर रख दिया। जाते हुए उसने फिर मुझे देखा। उसने मुझे “गुड नाईट” कहा और चली गई। 

फिर मैंने लाइट बंद होने का इंतज़ार किया और फिर अपना लैपटॉप चालू किया। 

मैं अलग-अलग पोर्न साइट्स पर गया, लेकिन मुझे मजा नहीं आ रहा था। फिर मैंने गलती से एक विज्ञापन पर क्लिक कर दिया, जो मुझे एक नई वेबसाइट पर ले गई, 

जहां पर हॉट और सेक्सी भारतीय लड़कियां आपके लिए कुछ भी करने को तैयार थीं। अपनी हालत को देखते हुए मैंने एक बार कोशिश करने का सोचा। 

मैंने तब तक स्क्रॉल किया जब तक मुझे नताशा के नाम की एक सेक्सी औरत नहीं मिली। नताशा पूरी रंडी लग रही थी, साथ में मासूम भी थी। 

और ये मुझे बहुत अच्छा लगा. मैंने अपना अकाउंट बनाया और कुछ क्रेडिट खरीदे, ताकि मैं उसके साथ मजा कर सकूँ। फिर मैंने उसको ऑनलाइन आने का निमंत्रण भेजा। 

उसने मेरा निमंत्रण स्वीकार किया, और कुछ ही देर में ऑनलाइन आ गई। नताशा ने गुलाबी लेगिंग और एक टाइट जिम टैंक-टॉप पहना था। 

उसकी बॉडी पसीने से थोड़ी गीली थी और वो बोतल से ठंडा पानी पी रही थी। पानी पीते हुए कुछ बूंदें मुंह की तरफ से निकाल कर उसकी बॉडी पर बह रही थी। 

मेरा लंड अभी से खड़ा हो रहा था। नताशा (सांस लेते हुए)- सॉरी मुझे बहुत पसीना आया है। 

बेबी मैं अभी वर्कआउट करके आई हूं (बोलते हुए वो तेज़ सांसे ले रही थी)। 

मैं: क्यों ना तुम मुझे अपने बड़े बूब्स दिखाओ। मैं देखना चाहता हूं कि इस टॉप के नीचे उन पर कितना पसीना है। 

नताशा हँसी, और मेरे लिए अपना टॉप ऊपर खींचना। उसने पानी की बोतल उठाई और उसको अपने निप्पल पर रगड़ने लगी। 

वो और सख़्त हो गए, और उसने अपनी उंगलियों के बीच उनको मसला। फिर उसने अपना झूठ काटा और मेरी तरफ देखा। मैंने अपनी पैंट उतारी, और मेरा लंड स्क्रीन पर दिखने लगा। 

उसने आगे होकर कैमरे को ऐसे चाटा, जैसे मेरे लंड को चाट रही हो। फिर मैंने लंड हल्के-हल्के हिलाना शुरू कर दिया। 

उसने अपनी टाइट लेगिंग में हाथ डाला, और अपनी चूत रगड़ते हुए कराहने लगी। उसकी चूत वाली जगह पर गीला-पन दिखने लगा था। 

फिर मैंने उसको लेगिंग्स उतार कर अपनी रसदार चूत दिखाने को कहा, और वो कपड़े उतारने लगीं। तभी मुझे हॉल की तरफ से कुछ आवाज़ आई। 

नताशा ने विलाप किया, और मैं उसको चुप रहने का इशारा करके चेक करने गया। मुझे लगा वो आंटी की आवाज़ थी, लेकिन वो खराडे भर रही थी।

 रसोई की लाइट जल रही थी, तो मैंने दरवाजे के पीछे देखा। मैंने विलाप की आवाज़ सुनी, और दूसरी तरफ़ सोनी खड़ी थी।

Naukrani ki Jabardast Chudai -

उसका एक हाथ उसके मुँह में था, और दूसरा उसकी गीली पैंटी के अंदर था। वो कुतिया फिंगरिंग कर रही थी। मैंने इसे अपने साथ शामिल करने के मौके की तरह देखा।

मैं उसके सामने गया, और वो चुप-चाप खड़ी रही। अब हम रसोई की मंद रोशनी में एक-दूसरे को देख रहे थे। 

ये एक सामान्य बात थी कि हम दोनो में से कोई भी पीछे नहीं हटता। मैं उसकी तरफ बढ़ा, और वो पीछे वाले काउंटर से चिपक गई। 

फिर मैंने बिना बोले उसकी कमर में हाथ डाला, और उसको अपने साथ चिपका लिया। मैंने उसकी गर्दन को चाटते हुए उसकी गांड दबायी, और उसने मेरे बालों में अपनी सांस छोड़ी। 

उसने मेरे कान में विलाप किया और मैंने उसको घुमा लिया। फिर उसने अपना होंठ काटा, और पीछे मेरी आँखों में देखने लगी, 

क्योंकि मैं उसकी पैंटी के अंदर जाकर उसकी चूत रगड़ने लगा था। 

उसने मेरे ऊपर के होठ को किस किया, और मैंने उसकी जीभ चाटी, और फिर उसको अपनी तरफ घुमा लिया। 

फिर मैंने उसकी गीली पैंटी से अपना हाथ बाहर निकाला, और दो उंगलियां उसके मुँह में डाल दी। वो मुझे बालों से देखने लगी, और मैंने उसको डीप किस किया। 

मैं (फुसफुसाते हुए): चलो मेरे कमरे में चल कर चुदाई करते हैं। सोनी (मेरे कान को हल्के से काटते हुए): ठीक है (और किस करती रही)। 

फिर मैंने अपने कमरे में जाकर नताशा को सरप्राइज गेस्ट के बारे में बताया। नताशा उत्साहित हो गयी। वह स्क्रीन पर थी, और उसकी लेगिंग उसके घुटनों तक थी। 

उसकी गोरी ताँगे दिख रही थी, और वो अपनी चूत में उंगली के लिए हुए हमें देख रही थी।

सोनी: ये कौन है? मैं: मैंने इसको हमारी चुदाई देखने के लिए पैसे दिए हैं। क्या मैं इसको जाने को कहूँ? 

सोनी ने नताशा को उठते हुए फिंगरिंग करते देखा। मैंने सोनी को भी नीचे से नंगा कर दिया, और उसने मुझे रोका नहीं। 

फिर मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा और उसने कराह किया। मैंने उसकी पैंटी को उसके घुटनों से नीचे कर दिया, और उसकी सांसे तेज़ हो गई। 

नताशा: हे भगवान! तुम इसको मेरे सामने चोदनेवाले हो? 

सोनी: मुझे यकीन नहीं हो रहा मैं ये कर रही हूँ। 

मैं (उसकी जाँघों पर किस करते हुए): क्या मैं रुक जाऊँ सोनी (किस करते हुए)? उसने सांस ली और मेरा मुँह अपनी चूत की तरफ दबाया। 

फिर मैंने उसकी बहती चूत को आराम से चाटा। नताशा ने सोनी को देखते हुए अपनी फिंगरिंग की स्पीड बढ़ा दी। 

फिर मैंने अपना थोड़ा ही लंड सोनी की चूत में डाला, जिसकी आंखें ऊपर चढ़ गई, और मुँह से गहरी आह निकली। फिर पूरा लंड अंदर डालते हुए मैंने उसकी चोटी उतार दी। 

नताशा: हे भगवान! तुम्हारे निप्पल बहुत प्यारे हैं। सोनी: भाड़ में जाओ! तुम्हारी चूत बहुत गीली है। छोड़ो मुझे, जल्दी करो। 

फिर मैंने सोनी के मुँह में उसकी टॉप डाल दी, और लंड चलाने लगा। नताशा ने भी मोअन करते हुए अपनी चूत में उंगलियां डाल लीं, और उसी लय में चलने लगी। 

सोनी की चूत बड़ी मुलायम और रसदार थी। उसको अँधेरे में सिर्फ लैपटॉप की नीली रोशनी में छोड़ते हुए मेरी आँखें निकल रही थीं। 

चोदते हुए मैं आ गया, और उसकी गर्दन को चाटा, और बाल खींच कर चुदाई करता रहा। सोनी: हा छोड़ो, हा ज़ोर से!

नताशा: छोड़ो उसको, पापा! सोनी: हां छोड़ो मुझे पापा! मैं अब खुद को नहीं रोक पाया। मेरा लंड अपने चरम पर था, और उसको मैंने उसकी चूत की गहराई में उतार दिया। 

उसकी पसीने से भरी सेक्सी बॉडी को देखना कंट्रोल करना बहुत मुश्किल था। उसने पीछे देखा और कराहते हुए मुझे किस किया। 

फिर मैंने उसकी चूत की गहराई में अपना माल भर दिया, और उसने आँखें भरते हुए मेरे होंठ चुने। फिर मैंने बाहर निकाला, और माल मेरे लंड से भी निकल रहा था। 

सोनी घूम गई, और उसने नताशा को माल से सनी हुई अपनी चूत दिखाई। नताशा ने माल देखे हुए अपनी चूत को और ज़ोर से रगड़ना शुरू किया। 

नताशा: भाड़ में जाओ! ये बहुत सेक्सी है! मुझे भी ऐसे ही अपने माल से भर दो आह।

नताशा की बॉडी झटके मारने लगी, और हमें देखते हुए उसकी चूत का पानी निकलने लगा। 

मैंने सोनी को किस किया, और हम दोनों जल्दबाजी में पसीने वाली बॉडी से लिपटने लगे, अँधेरे कमरे में। 

नताशा ने हमें इतने लंबे ऑर्गेज्म के लिए थैंक यू कहा, और चली गई। सोनी ने फिर मेरे मुँह पर आह भरी, और मुझे किस करने मेरी बाहों में सो गई। 

हम सुबह जल्दी उठ गए, और एक बार जबरदस्त चुदाई की। 

आप भी इस साइट की सेक्सी लड़कियों के साथ मजा करने के लिए यहां क्लिक करें। Actress ki Chudai

अगला भाग – Naukrani ki Jabardast Chudai 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *