Pathan Se Bhabhi ki Chudai ननंद ने भाभी को पठान से चुदवाया

Pathan Se Bhabhi ki Chudai ननंद ने भाभी को पठान से चुदवाया

नमस्कार दोस्तों, आज मैं अपनी नई Hindi Sex Kahani लेकर वापस आई हूँ, और इसका नाम है मेरी साली को किसी और से चुदवाया ताकि मैं उसे अपना गुलाम बना सकूँ। वो एक बदचलन औरत है जो मेरी माँ से लड़ती थी। उसके चरित्र पर लांछन लगाती थी। इसलिए मैंने उसे ऐसा करने पर पछताने का फैसला किया

Pathan Se Bhabhi ki Chudai सेक्सी कहानी का आनंद लें!

दोस्तों, मैं आपकी सेक्सी दोस्त पूजा हूँ… वैसे तो आप सभी मेरे बारे में जानते ही होंगे क्योंकि मेरी कुछ कहानियाँ इंटरनेट पर आ चुकी हैं।

लेकिन एक बात जो मैंने अभी तक अपनी किसी कहानी में नहीं बताई है वो ये कि मैं बहुत जिद्दी औरत हूँ। एक बार जब मुझ पर गुस्सा आ जाता है तो मैं उस चीज़ से छुटकारा पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हूँ। आज मैं आपको अपने बदले की कहानी बताऊँगी।

हम तीन भाई-बहन हैं। मैं छोटी हूँ, दोनों भाई बड़े हैं। दोनों की शादी हो चुकी है। बड़ा भाई बाहर दूसरे शहर में रहता है। लेकिन छोटा भाई हमारे पुश्तैनी घर में माँ के साथ रहता है।

बाकी सब बहुत ताकतवर हैं, घर में खूब खाया-पूजा है। पर पता नहीं क्यों वो बहुत दुबला पतला है और एक नंबर का कमीना है, सब से डरता है।

उसकी बीवी बहुत खूबसूरत है, और दिखने में भी अच्छी है और उसका नाम सोनिया था। शादी के बाद आते ही उसने मेरे भाई को अपना गुलाम बना लिया।

जब मेरी शादी नहीं हुई थी, तो मेरे भाई और सोनिया का कमरा मेरे कमरे के बिल्कुल बगल में था। हर रात मुझे अपने कमरे में सोनिया की सिसकियाँ सुनाई देती थी जब मेरा भाई सोनिया की चूत से बहुत देर तक खेलता था।

अब पता नहीं वो उसे चोदता था या सोनिया की चूत चाटता था। पर सोनिया की ‘हाय हाय’ खत्म नहीं होती थी।

भाभी की ‘हाय हाय’ सुनकर मेरी चूत से भी धार निकल जाती थी और फिर मुझे भी अपनी गर्म चूत को ठंडा करने के लिए उसके अंदर कुछ डालना पड़ता था। कभी उंगलियाँ, कभी हेयरब्रश, कभी छुपा हुआ गाजर मूली।

एक और बात थी कि मेरी भाभी की मेरी माँ से कभी नहीं पटती थी। जब भी दोनों को मौका मिलता, दोनों आपस में उलझ जाते। भाई हमेशा भाभी का पक्ष लेता। माँ अकेली पड़ जाती।

लेकिन मेरी माँ भी कम नहीं थी, उसके सामने भी घर में कोई बोल नहीं सकता था। घर में उसकी रौनक थी!

ये भाभी ही थी जिसने आकर माँ की सत्ता को चुनौती दी।

फिर मेरी भी शादी हो गई, और मैं अपने ससुराल आ गई। अब जैसे भाभी की सिसकियाँ निकलती थीं, वैसे ही मेरी भी निकलने लगी।

समय बीतता गया। एक बार मैं अपने मायके गई हुई थी। हमारे मोहल्ले में एक छोटा सा धार्मिक स्थल है, जिसकी देखभाल एक मौलवी करते हैं। वे अक्सर मोहल्ले के घरों में घूम-घूम कर दान इकट्ठा करते हैं और उस पैसे से उस स्थान का काम और रख-रखाव करते हैं।

तो मौलवी जी अक्सर हमारे घर आते हैं और हमारी भाभी इस बात का मुद्दा बनाती हैं। वह पहले भी कई बार कह चुकी हैं कि उनकी माँ के इस मौलवी से संबंध हैं। जब भी वो बूढ़ा आता है। माँ उसे बहुत प्यार से चाय पिलाएगी, खूब आवभगत करेगी।

पहले तो मेरी भाभी मुझसे मज़ाक में ही ऐसा कहती थी। लेकिन एक बार भाभी और माँ में किसी बात पर बहस हो गई, तो भाभी ने माँ पर खुलेआम आरोप लगा दिया कि तुम्हारा उस मौलवी से चक्कर है। आज भी बुढ़िया का रंगीन मिजाज़ खत्म नहीं हुआ है।

मुझे यह बात बहुत बुरी लगी और माँ रोने लगी। अब बेटी माँ का ही पक्ष लेगी। मेरे दिल में भाभी के लिए बहुत गुस्सा था।

उसके बाद माँ ने मुझसे कहा- पता नहीं तुम्हारे भाई को कहाँ से अच्छा लगा। अब एक तो वह अपना हाई-क्लास स्टेटस हम पर थोपती है, दूसरे घर के सभी सदस्यों को बेइज्जत करती है, तुम्हारे बारे में, मेरे बारे में अनर्गल गालियाँ देती है। इस कुतिया ने अपना जीवन बर्बाद कर लिया है।

वैसे तो मेरी भाभी कभी-कभी मुझे कुछ न कुछ सुनाती रहती थी, लेकिन इस बार उसने मेरी माँ के नाम पर छींटाकशी कर दी। मुझे बहुत बुरा लगा। मेरे मन में यह भी आया कि यह औरत जो अपने उच्च कुल की होने का इतना घमंड करती है और दूसरों से इतनी नफरत करती है, अगर मैं इस साल इसे किसी विधर्मी से नहीं चुदवाती, तो मेरा नाम भी नहीं होगा।

लेकिन अब मैं इसे ऐसे कैसे पटक सकती हूँ, और वैसे भी कोई मर्द मेरी बात क्यों सुनेगा? लेकिन मुझे यकीन था कि अगर इसने मेरी माँ का नाम खराब किया है, तो मैं इसकी शराफ़त न दिखाऊँ तो चैन से नहीं रहूँगी।

शाम को मैं और मेरी माँ बाज़ार गए। हमारे मोहल्ले में ही बहुत सी दुकानें हैं। इमरान पठान की एक दुकान है… वो औरतों के सामान की दुकान करता है। लिपस्टिक, बिंदी, पाउडर, क्रीम, ब्रा, पैंटी ये सब। तो मैं उनसे बहुत पहले ही सामान ले लेती हूँ।

वो अक्सर मुझ पर नज़र रखता, कभी-कभी तो मुझसे मज़ाक भी करता। मतलब एक ठरकी आदमी।

लेकिन दिक्कत यह है कि उसका रंग काला है, चेहरा बदसूरत है… पठानों जैसी खूबसूरती नहीं है। लेकिन हाइट 6 फीट दो इंच, चौड़ी छाती। कद-काठी बिल्कुल पठानों जैसी थी। रंग-रूप छोड़ कर ये देखने लगे कि अगर कोई औरत इसके नीचे लेट जाए तो ये मादरचोद उसे रुला देता है।

अब मैं बचपन से ही खूबसूरत हूँ, इसलिए पहले भी जब मैं उसकी दुकान से ब्रा पैंटी खरीदने जाती थी, तो वो मुझे अपना गंदा हाथ लगाकर मेरी ब्रा और पैंटी देता था, जैसे सोचता हो, ये ब्रा और पैंटी जिस पर मैं आज हाथ लगा रही हूँ। कल ये तुम्हारे गोल-गोल स्तनों और चूत को छू लेंगे।

Pathan Se Bhabhi ki Chudai

खैर… वो तो सबके साथ ऐसा करते ही होंगे।

लेकिन वो मेरे साथ कुछ ज़्यादा ही दयालु था।

तो जब सोनिया ने मेरी माँ पर गंदे आरोप लगाए, तो मेरी गांड जल उठी। मैं सोचने लगा कि मैं कुछ ऐसा करूँ कि सोनिया कभी मेरे सामने सिर न उठा सके, मैं उसे इस तरह से बेइज्जत करूँ कि उसकी नज़र हमेशा के लिए नीची हो जाए।

लेकिन मैं क्या करूँ?

एक दिन मैं घर में अकेली थी, बैठी-बैठी बोर हो रही थी, तभी मेरा हाथ माँ के हाथ से फिसलकर मेरी सलवार में घुस गया।

अब जब हाथ सलवार में घुसा, तो सीधा मेरी चूत पर रुका, चूत को थोड़ा सहलाया, फिर दिमाग घूमने लगा, और एक उंगली चूत के अंदर घुस गई।

फिर क्या था, मैंने अपनी सलवार का नाड़ा खोला और अपनी उंगली चूत के अंदर बाहर करने के लिए ठोकी। ऐसा करते हुए मैं सोचने लगी कि आज किससे चुदूँ। तो ऐसे ही इमरान भाई का ख्याल मन में आया… लंबा, चौड़ा, ताकतवर! बस उनके बारे में सोचते ही मैं मुठ मारने लगी। सोच कर बहुत मज़ा आ रहा था कि उन्होंने मुझे कितनी बेरहमी से चोदा। जब मेरी चूत का पानी निकल गया और मैं ठंडी होकर लेट गई तो मैंने सोचा कि अगर ये इमरान मेरी साली को थप्पड़ मारे तो जो इन लोगों से नफरत करती है, उसका मुँह बंद हो जाए। दूसरी बात अगर साली की चूत मेरे सामने चुदे तो वो मेरे सामने अपनी जुबान नहीं खोल पाएगी और तीसरी बात ये कि उसने मेरी माँ पर जो इल्ज़ाम लगाए हैं, उसका बदला मैं ले लूँगा। लेकिन सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि इमरान सोनिया की चूत क्यों चोदेगा। साली तो उसे पसंद ही नहीं करती तो उसे पास क्यों आने देगी? बहुत मुश्किल था। फिर मेरे दिमाग में एक आइडिया आया कि अगर मैं इमरान से सेट हो जाऊं तो वो मेरी चूत को भी ठंडा कर देगा और अगर मैं उससे किसी तरह से भाभी को शांत करने के लिए कहूं तो शायद ये बात बन जाए.

बेशक ये बहुत मुश्किल काम था, अगर भाभी नहीं पटती तो मेरी फटी जरूर जाती क्योंकि इमरान मुझे थोड़ा छोड़ देता, वो कहता, तूने कहा था भाभी को चोद, वो नहीं पटी, पर तू मेरे नीचे आ जा.

पर तुझे कोशिश करनी चाहिए.

इसलिए मैंने सबसे पहले इमरान को लाइन देना शुरू किया. मैं अक्सर किसी छोटे-मोटे सामान के बहाने उसकी दुकान पर जाती, वो अपने तर्क मुझ पर निकालता और मैं उसकी बातों का जवाब मुस्कुरा कर देती.

कुछ ही दिनों में बात मजाक से हटकर छूने तक पहुंच गई. अगर वो मेरे हाथ और कंधे को छूता तो मैं ऐसे रिएक्ट करती जैसे मुझे कोई फर्क ही नहीं पड़ता.

तो बस एक दिन हिम्मत करके इमरान ने बातों ही बातों में मेरे बूब्स को छू लिया. क्या छुआ… ब्रा दिखाते-दिखाते उसने ब्रा को मेरे स्तन पर रख दिया और पूरी तरह से फिट करके दिखाया। और इस फिटिंग को देखने के चक्कर में उसने मेरे दोनों स्तनों को पकड़ कर दबा दिया।

मुझे कोई आपत्ति नहीं थी तो उसने मुझे किसी दिन दोपहर में आने को कहा।

मैं अगले ही दिन दोपहर में उसकी दुकान पर गई। गर्मी की वजह से दुकान में कोई ग्राहक नहीं था। मैं फिर से अपने लिए ब्रा ढूँढने लगी।

लेकिन आज बिना ब्रा पहने ही इमरान ने मेरे दोनों स्तनों को पकड़ कर जोर से दबा दिया।

मैं जानबूझ कर नाटक करती रही- छोड़ो भाई, कोई देख लेगा, जाने दो, कोई आ जाएगा।

लेकिन इन कमज़ोर दलीलों का उस पर क्या असर होता… उसने मेरे दोनों स्तनों को दो नींबू की तरह निचोड़ा और मेरी गांड पर हर जगह हाथ फैलाते हुए कहा- अब सब्र नहीं होता मेरी जान, किसी दिन मैं तुम्हें जन्नत पहुँचा दूँगा।

और कहानियाँ पढ़ें :

लीला एम्बिएंस होटल

सम्राट होटल

वेलकमहोटल

मुझे पता था कि वो मुझे चोदने की कोशिश कर रहा था!

तो मैंने कहा- ऐसी बात नहीं है, मुझे तुमसे एक काम और करवाना है।

वो बोला- कौन सा काम?

मैंने कहा- मैं चाहता हूँ कि अगर तुम पहले मेरी भाभी की चूत मारो, तो मैं तुम्हें सब कुछ मुफ़्त में दूँगा।

वो बोला- तुम्हारी भाभी? तुम्हारी उससे क्या दुश्मनी है जो तुम चाहते हो कि मैं उसे चोदूँ?

मैंने कहा- बस इतना ही… तुम बताओ, क्या तुम ये कर सकते हो?

वो बोला- पक्का नहीं, पर मैं कोशिश कर सकता हूँ। लगता है कि वो भी कुछ चाहती है, पर अगर वो मान जाए तो!

मैंने कहा- अगर वो मान गई, तो मैं भी मान गया।

वो बोला- तो अभी कुछ और करो।

मैंने कहा- और अगर तुमने मुझे इतना खरोंचा तो?

वो अपने पजामे में लंड हिलाते हुए बोला- इसका कुछ इंतजाम करो।

मैंने दुकान के बाहर देखा और फिर अपना हाथ आगे बढ़ाया और उसके पजामे के ऊपर से ही उसका लंड पकड़ लिया और दबाने लगा। मोटा लंड मेरे थोड़ा दबाने से ही खड़ा हो गया। लेकिन जब मैं जाने लगा तो इमरान ने मुझे पकड़ लिया।

मैंने कहा- मुझे जाने दो.

वो बोला- बस एक मिनट.

ये कहते हुए उसने अपने पायजामे का नाड़ा खोला और अपना लंड बाहर निकाल लिया और मेरी तरफ घूम गया और मुझे दबाने लगा. मैं समझ गई कि साला लंड से चुप होना चाहता है.

मैंने उसका लंड मुँह में लिया और 5-7 बार जोर से चूसा और फिर मैं वहाँ से निकल कर भाग गई.

इससे उसे भी यकीन हो गया कि मैं उससे इम्प्रेस हो गई हूँ और मुझे भी कि अब वो मेरी साली को जरूर इम्प्रेस करेगा.

समय बीतता गया और करीब तीन महीने बाद जब मैं इमरान की दुकान पर गई, तो वो बोला- सुनो… अपनी जांघों पर तेल लगाओ!

मैंने पूछा- क्यों?

तो उसने अपने मोबाइल पर कुछ पिक्स दिखाईं, जिसमें सोनिया इमरान को चूम रही थी, उसे अपनी बाहों में भर रही थी.

मैंने कहा- इमरान भाई, बस अब एक काम करो, मेरी साली की चूत मेरे सामने ठोक दो, उसके बाद जब तुम कहोगे कि मैं तुम्हारी हूँ.

वो बोला- क्या दिक्कत है, मैं तेरी और सोनिया की एक साथ चूत मारूँगा, तू बता, पहले तू चुदेगी या तेरी भाभी?

मैंने कहा- पहले भाभी… वो भी मेरे सामने, उसके बाद मैं तुझे अपनी पूरी रात दूँगा। वो रात तेरी सुहागरात होगी।

अब अगर कोई खूबसूरत जवान लड़की किसी को ऐसा ऑफर दे तो कौन मना कर सकता है?

फिर एक दिन इमरान बोला- कल तेरा भाई बाहर जा रहा है, कल मैं तेरे घर आऊँगा, तेरी भाभी की चूत चोदने! तू बता, कल चोदेगा या बाद में?

मैंने कहा- उस्मान भाई तुझे पूरी रात दूँगा, बस मेरी भाभी की माँ-बहन एक कर दे, उसे खूब गाली दे, उसे मारे, उसे प्रताड़ित करे, उसे बेइज्जत करे। बस यही मेरी ख्वाहिश है!

वो मान गया।

अगले दिन वो करीब 12 बजे आया, तब मैं अपनी माँ के साथ किसी काम से बाजार गया था।

मेरी भाभी घर पर अकेली थी!

पर मैंने माँ को उनकी एक सहेली के घर पर बिठा दिया, और कहा ‘तुम बात करो, मैं आधे घंटे में आता हूँ’। वो अपने घर वापस आ गई।

जब मैं घर आया तो सोनिया के कमरे का दरवाज़ा बंद था। इसका मतलब इमरान अंदर था।

कुछ ही देर में मेरी भाभी की सिसकियाँ सुनाई देने लगीं।

जब मैंने सोनिया के कमरे का दरवाज़ा खटखटाया तो इमरान ने अंदर से दरवाज़ा खोला और मुझे अंदर खींच लिया।

जब मैंने अंदर देखा तो मेरी भाभी बिस्तर पर बैठी थी, शायद पूरी तरह से नंगी क्योंकि मुझे उनकी साड़ी, ब्रा और पैंटी दिखी

कोट नीचे पड़ा देखा, इमरान भी पूरी तरह से नंगा था।

काला शरीर, पर बहुत खतरनाक, जल्लाद जैसा, लंबा और डरावना।

और उससे भी ज़्यादा खतरनाक उसका लंड, काले कोबरा जैसा।

मेरी भाभी मुझे देखकर चौंक गई- पूजा… कहाँ से आ गए?

शायद वो अपना राज़ मुझे बताना नहीं चाहती थी।

पर इमरान बोला- अरे चिंता मत करो मेरी जान… तुम्हारे बाद मुझे उसकी चूत भी लेनी है।

मेरी भाभी थोड़ी हैरान हुई और बोली- पूजा तुम भी?

मैं मुस्कुराई- बस भाभी को क्या बताऊँ… पता नहीं उनकी बातों में क्या जादू था, मैं खुद को रोक नहीं पाई। और जब उन्होंने मुझे तुम्हारे बारे में बताया तो मैंने कहा कि ‘भाभी बड़ी हैं, पहले उनकी… फिर मेरी।’

मेरी भाभी के चेहरे पर आत्मविश्वास की चमक थी कि अगर मैं उनके सामने नंगी हो जाऊँगी तो वो भी इस पठान से चुदवा लेंगी।

मैंने भाभी को भरोसे में लेने के लिए अपनी सलवार उतारी और उनके सामने सोफे पर बैठ गई।

इमरान भाभी के पास गया और भाभी के बदन से चादर खींच कर उसे नंगी कर दिया.

क्या शानदार बदन है मेरी भाभी का… गोरा, बेदाग चिकना बदन.

दो बच्चों की माँ… पर ऐसी खूबसूरती किसी भी मर्द का ईमान बिगाड़ सकती है.

पर अब वो किसी इंसान के सामने नहीं… बल्कि एक वहशी के सामने नंगी लेटी हुई थी.

इमरान उसके ऊपर सीधा लेट गया और लेटते ही उसने भाभी की दोनों टाँगें खोली और अपना काला लंड भाभी की गुलाबी चूत में घुसा दिया.

भाभी इस अचानक हमले के लिए तैयार नहीं थी, शायद वो इमरान से पहले कुछ प्रणय निवेदन की उम्मीद कर रही थी. पर जब उसने सोनिया की चूत में अपना लंड डाला तो उसकी चीख निकल गई- हाय… आह उस्मान भाई धीरे से!

पर उसे तो जैसे जन्नत मिल गई थी और वो उसे जल्द से जल्द मार कर अपनी हवस मिटाना चाहता था.

बस कुछ ही सेकंड में उसने अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया. सोनिया मोटा, लंबा और खुरदुरा लंड पाकर खुश थी।

“इमरान, तुम्हारा औज़ार बहुत मज़बूत है।” उसने कहा

इमरान बोला – तुम्हारे पति का क्या?

शहनाज बोली – छोटा भी, पतला भी, और कमज़ोर भी। तुम बहुत मज़बूत हो!

और वो अपना लंड भाभी की मुट्ठी में अंदर बाहर करने लगा।

तो भाभी भी मोटे लंड की रगड़ से मस्ती में आ गई और सिसकारियाँ भरने लगी। वही सिसकारियाँ जो वो मेरे भाई से सेक्स करते समय निकालती थी।

और अपने सामने डायरेक्ट सेक्स होते देख मेरी चूत भी गीली होने लगी और मैं भी अपनी टाँगें खोल कर उन्हें देखते हुए अपनी चूत में उँगलियाँ करने लगी।

इमरान ने मेरी तरफ़ देखा और बोला – अरे, उँगलियाँ क्यों कर रही हो मादरचोद। इधर आओ… और पठान का लंड देखो, अगर मैं तुम्हारी चूत का भोसड़ा न बना दूँ तो कहना, इधर आओ।

मैं उठ कर उसके पास बेड पर बैठ गई तो इमरान ने मेरी शर्ट ऊपर करके मेरी जाँघें और मेरे चूतड़ नंगी कर दिए। मेरी हल्की झांटों पर हाथ फेरते हुए बोला- शर्ट उतारो! मैंने शर्ट उतार दी, और अब मेरे बदन पर सिर्फ़ ब्रा बची थी।

इमरान ने उसके स्तन थपथपाते हुए कहा- क्या मुलायम माल है सोनिया, माँ का मलाई मक्खन!

मेरी भाभी ने तुरंत कहा- तो क्या हुआ इमरान… तुमने हमारी माँ को भी चोदा है?

शायद वो जानना चाहती थी कि मेरी माँ का कोई कारनामा तो नहीं हुआ ताकि कल वो उस चीज़ का इस्तेमाल मेरी माँ के खिलाफ़ कर सके।

लेकिन इमरान बोला- अरे नहीं, मैंने तुम्हारी माँ को नहीं चोदा, लेकिन जब भी देखता हूँ तो सोचता हूँ कि बुढ़िया इस उम्र में इतनी खूबसूरत है, तो जवानी की क्या कयामत रही होगी। हाँ, अगर मौका मिला तो आज भी तुम्हारी माँ को चोदूँगा।

मैंने इमरान से कहा- पहले जिसको चोद रहे हो, उसे चोदो।

इमरान बोला- अरे अब वो कहाँ जाएगी, आज के बाद अगर वो अपने पति के पास भी जाएगी तो मेरा नाम बादल रखना।

मेरी भाभी बोली- अच्छा, ऐसा क्या है तुझमें?

इमरान बोला- तो ले सोनिया, अब देख, तेरी चीखें तेरी माँ ने न सुनी हों, तो कहना।

उसके बाद इमरान ने भाभी की चूत खूब चाटी, इतनी जोर से चाटी कि भाभी का गला चीखों से भर गया, आँखों से आँसू बहने लगे- इमरान, धीरे से नहीं इमरान, नहीं, उम्मह… आह्ह… हाय… ओह… मर गई मैं मेरी माँ… नहीं इमरान धीरे… आह… बस कर कमीने… बस आह।

लेकिन एक कमज़ोर औरत जिसे इमरान ने इस तरह से कस कर पकड़ रखा था कि उसकी भाभी हिल भी नहीं सकती थी। बस रो रही थी, चिल्ला रही थी।

इमरान वाकई मेरी भाभी को बेरहमी से चोद रहा था।

उसे देखकर मुझे डर लगने लगा कि जब वो मेरे ऊपर चढ़ेगा, तो मेरा क्या होगा?

साली जितनी चीख रही थी, इमरान को उतना ही मजा आ रहा था और वो उसे उतना ही परेशान भी कर रहा था- चिल्ला साली, मैं तेरी माँ को चोदूँगा, कुतिया, और शोर मचा साली, साली ऐसे चिल्लाना तुझे किसने सिखाया, तेरी माँ ने या तेरी बहन ने।

शहनाज, क्या वो भी तेरी तरह ऐसी रंडियाँ हैं? बुला उन्हें भी… मैं तेरी माँ को तेरे सामने इसी बिस्तर पर चोदूँगा, कुतिया, शहनाज… मैं तेरी बहन की गांड भी इसी बिस्तर पर फाड़ दूँगा। और ये तेरी साली है, इसकी भी चूत का फूल खिला दूँगा।

और पता नहीं इमरान शहनाज और घर की सभी औरतों को गालियाँ देता रहा या नहीं।

लेकिन जब वो शहनाज को कस कर चोद रहा था, तो मुझे उसे देखने में बहुत मजा आ रहा था।

मैं भी अपनी साली की चूत को अपने सामने चोदते हुए देख कर अपनी चूत में उंगली कर रहा था। पाँच मिनट में मैंने वीर्य छोड़ दिया लेकिन इमरान नहीं रुका।

मेरी भाभी भी कुछ देर बाद बोली- इमरान भाई, मेरा हो गया, बस तुम भी अपना पानी डालो.

लेकिन इमरान बोला- अरे रंडी की बेटी, अभी तो शुरू हुआ हूँ, अभी तेरी माँ कहाँ है?

देख अभी तेरी चूत गोरी है, लाल हो जाने दे.

मैं कुछ देर और बैठा रहा उसकी चुदाई देखता रहा लेकिन फिर मैं उठ गया और अपने कपड़े पहनने लगा.

इमरान बोला- अरे तूने कपड़े क्यों पहनने शुरू कर दिए?

मैंने कहा- मुझे अपनी माँ को लेने जाना है.

वो बोला- अरे यार क्या हुआ? अब इस कुतिया को चोदने में मज़ा आने लगा था.

लेकिन मैं चला गया. बाद में शायद इमरान भी चला जाता.

जब मैं अपनी माँ के साथ घर आया तो सोनिया घर पर अकेली थी. लेकिन उसके चेहरे को देखकर ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने उसे शांति से पीटा हो.

मैंने सोनिया से पूछा- क्या हुआ, तुम्हारी हालत बहुत खराब लग रही है.

वो बोली- अरे मत पूछो, मैंने कहाँ गड़बड़ कर दी। तुम्हारे जाने के बाद इमरान ने भी मुझे पीटा, और मुझे गुस्सा आया, फिर उसने जबरदस्ती मेरी गांड में अपना लंड डाल दिया। नीचे इतना दर्द है, क्या बताऊँ?

बेशक मैं उसका दुख बाँट रही थी, पर अंदर ही अंदर खुश थी कि सोनिया, तूने मेरी माँ पर इल्जाम लगाया, नतीजा देखा, और गांड फाड़ दी।

अभी के लिए बस इतना ही,

कैसी लगी मेरी भाभी की चूत चुदाई की कहानी?

नमस्ते मेरे दोस्तों मेरा नाम सोनी राइ है।  अगर आप सभी को हमारी X Story Hindi अछि लगी है तो आप हमे Comments मे बता सकते है। आगे आप को हमारी Daily Post की Update चाइये होतो आप हमे Twitter पर Follow कर सकते ह।