गैंगबैंग सेक्स का मिला चांस » Pehli Gangbang Chudai 3

गैंगबैंग सेक्स का मिला चांस » Pehli Gangbang Chudai 3

पिछला भाग पढ़े:- Pehli Gangbang Chudai 2

तो चलो मेरी Pehli Gangbang Chudai 3 का मिला चांस की कहानी शुरू करते हैं।

अगर आपको ये Hindi Sex Story पसंद आ रही तो अपना प्यार दिखाए और कमेंट में ज़रूर बताये।

अमिताभ ने सब को इशारा किया,  और सब ने अपने कपड़े उतार दिए।

सबके लंड बहुत लम्बे 8″ से ज्यादा, काले, और मोटे थे, जैसा मुझे चाहिए था।

और बहुत गंदे थे सब के लंड. सबके लंडो पर सफेद रंग की गंदगी लगी हुई थी बहुत ज्यादा। 

थोड़ी देर बाद पूरे कमरे में लंड की महक आ गई, जो कि मेरी सबसे पहली चुदाई थी। 

सब लोग अपना लंड लेकर मेरे मुँह के पास आ गए। 

लेकिन मैं अमिताभ से शुरुआत करना चाहती थी। क्योंकि मैं अमिताभ को पसंद करने लगी थी। 

उसका लंड भी बहुत गंदा हो रखा था, जिसको मैंने चूँ-चूँ करके साफ कर दिया। फिर बारी-बारी से मैंने सबका लंड चूस-चूस कर, 

और चाट-चाट कर साफ़ किया, और एक-एक बार लंड का जूस पिया। 4 आदमियों का लंड चूसते-चूसते मुझे पसीना आ गया था। » Pehli Gangbang Chudai 3

मैं पूरी गीली हो चुकी थी, और मेरे बाल खुल गए थे। लेकिन जब सेक्स करने की बारी आई, तो पता नहीं क्यों उन लोगों ने मुझे नंगा नहीं किया। 

उन लोगों ने मेरी टाइट लेगिंग में छेद कर दिया था, जहां मेरी गांड थी और चूत थी। 

बस वहा छेड़ करके उन लोगों ने बोला-

वो लोग: रंडी तुझे हम ऐसे ही चोदेंगे। तुझे पूरा पसीने में भीगने देंगे। मुझे वहां पर किसी भी आदमी का नाम नहीं पता था अमिताभ को छोड़ कर। 

अंदर ही अंदर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, कि मैं अब रंडी बन चुकी थी। मेरा पति घर में सोच रहा होगा कि मैं अपनी मम्मी की सेवा कर रही हूँगी। 

लेकिन उसे क्या पता था कि मैं यहां 4 आदमियों की सेवा कर रही थी। 

फिर एक आदमी ज़मीन पर लेट गया. उसने मुझे अपने लंड पर बिठा लिया। फिर मेरी गांड में एक आदमी ने लंड घुसा दिया। 

मुझे बहुत दर्द हुआ और मैं ज़ोर-ज़ोर से चीखने लगी। 

वो सब मेरे मज़े लेते रहे. बाकी सब मेरे मुँह के पास खड़े हो गए, और मैं उन सब का लंड चूसने लगी

उन सबके लंड बहुत बड़े-बड़े थे, और मुझे दर्द भी हो रहा था। » Pehli Gangbang Chudai 3

मैं चुदते-चुदते कब पूरी पसीने में भीग गई, मुझे पता ही नहीं चला। 

सब लोग मुझे गालियाँ दे रहे थे, “आज इस रंडी को चोद-चोद मार देंगे”। 

और मेरी बहुत ज़ोर-ज़ोर से और तेज़-तेज़ चुदाई करने लगे। 

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, और बहुत दर्द भी हो रहा था। मैं बहुत चिल्ला रही थी, लेकिन मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। 

यही तो चाहती थी मैं हमेशा से। मैं चिल्लाती हुई उन सब को बोल रही थी, कि मेरी चुदाई बिना रुके चलनी चाहिए। 

मुझे बहुत मजा आ रहा था। फिर जैसे ही मेरे नीचे जो आदमी था, 

और जो आदमी मेरी गांड मार रहा था, उनके लंड का जूस निकलने वाला हुआ। 

तो वो जल्दी से लंड निकाल कर मेरे मुँह के पास आ गए। 

मैंने उनके लंड का जूस पिया, जिसे देख कर वो बोलने लगे की, “ऐसी रंडी तो हमने पहली बार देखी है”। 

फिर दोबारा एक आदमी नीचे लेट गया, और मैं उसके लंड पर बैठ गई। 

एक आदमी ने मेरी गांड में लंड डाला, और बाकी सब मेरे मुँह में लंड डाल रहे थे। मैं बहुत ज़्यादा चिल्ला रही थी, 

क्योंकि सबके लंड बहुत बड़े थे, और मज़ा आने वाला दर्द भी बहुत हो रहा था। 

गैंगबैंग सेक्स के लड़किया बुक करे » Pehli Gangbang Chudai 3

Click Here For Booking » Escort Services in Pitampura

सब ने बारी-बारी से पहले मेरी चूत मारी, फिर गांड मारी, 

और अपने लंड का जूस मुझे पिलाया। अंजान मर्दों के साथ जिनका मुझे नाम भी नहीं पता था। मैं पहली बार मिल रही थी। 

उनकी रंडी बन कर चुदने में, और उनके लंड का जूस पीने में मुझे बहुत मजा आ रहा था। 

मेरी चूत और गांड तो वो लोग एक साथ मार रहे थे, 

और मुझे गंदी-गंदी गालियाँ भी दे रहे थे। मुझसे एक-दम रंडी जैसा व्यवहार कर रहे थे, 

जो कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। 

10×10 का छोटा सा कमरा, जिसमें खिड़की भी नहीं थी, और बहुत गर्मी थी। उस कमरे में मेरी चुदाई हो रही थी। 

थोड़ी देर बाद उस पूरे कमरे में मेरी चुदाई की महक आ गई थी। उनके लंड के जूस की महक हो गई थी।

लगभाग सब ने मुझे ४ बार चोद  लिया था। रात 9 बजे से मुझे चोद  रहे थे, और सुबह के 1 बजे चुके थे। 

तब जा कर उन लोगों ने मुझे चोद । सेक्स करने के बाद हम सब बहुत ज्यादा थक चुके थे, और नींद भी बहुत तेज आ रही थी।

लेकिन उन लोगों ने मुझे इतना चोद  था कि मैं ठीक से चल भी नहीं पा रही थी। मेरी गांड में बहुत दर्द हो रहा था मुझे। 

मैं पूरी गीली हो रही थी पसीने में। उन लोगों ने मेरे कपड़े नहीं उतारे, बस लेगिंग में छेद करके चोदा था। » Pehli Gangbang Chudai 3

मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं हर जगह से गीली हो चुकी थी और मेरे पूरे कपड़ो पर लंड के जूस के निशान थे। 

मेरी हालत देख कर सब बोल रहे थे, कि ऐसी रंडी कहीं नहीं देखी हमने, साली चुदने के बाद भी हॉट लग रही है। 

अमिताभ ने मुझसे कहा: तुम ट्रक में जाकर आराम कर लो। फिर हम बात करते हैं। लेकिन वहा पर जो आदमी थे, 

उन लोगों ने बोला कि ये कहीं नहीं जायेगी, लेकिन हमारे साथ सोयेगी यहीं पर। मैं उनके साथ सोने के लिए मान गई, 

और फिर अमिताभ और 10 मर्दों के साथ मैं उसी कमरे में सो गई। लेकिन वहा किसी ने भी मुझे चोदने के बाद कपड़े नहीं पहने थे। 

पहले तो किसी ने अपना लंड मेरी गांड में डाल रखा था, और किसी ने अपना लंड मेरे मुँह के सामने रखा था। 

सब मर्द मेरे जिस्म के पास अपना लंड लेकर सो रहे थे। मैं पूरी गीली हो रही थी। मेरे कपड़े मेरे बदन से चिपक रहे थे, 

और उसमें सब मर्दों के साथ मैं चिपक कर सो रही थी। कभी किसी का लंड मेरी गांड में जाता है, तो कभी चूत में। 

सब मेरे पति बन चुके थे। पूरे कमरे में चुदाई की महक हो रखी थी, और उन सबके लंडो में से भी महक आ रही थी। 

पर उस समय मुझे बहुत तेज़ नींद आ रही थी, तो मैंने इन सब बातों पर ज़्यादा ध्यान नहीं दिया और सो गई। 

अगले दिन जब मैं सो कर उठी, तो मैंने देखा कि बहुत सारे आदमी जा चुके थे। अमिताभ भी निकलने की तैयारी कर रहा था। 

क्योंकि हमें आगरा जाना था, और वहां पर भी मेरी चुदाई होनी अभी बाकी थी। अंजन मर्दों के साथ सेक्स करें, उनका लंड मुँह में लें, » Pehli Gangbang Chudai 3

और उनके साथ सोने में जो सुख मिला, मैं बहुत खुश थी, कि मैंने दूसरी बार गैंगबैंग किया। 

फिर उसके बाद मैंने अमिताभ को खाना खिलाया और हम दोनो आगरा के लिए अमिताभ के ट्रक में निकल गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *