गैंगबैंग सेक्स का मिला चांस » Pehli Gangbang Chudai 2

गैंगबैंग सेक्स का मिला चांस » Pehli Gangbang Chudai 2

पिछला भाग :- Pehli Gangbang Chudai

तो चलो मेरी Pehli Gangbang Chudai 2 का मिला चांस की कहानी शुरू करते हैं।

मोहित के साथ गैंगबैंग करने के बाद हम दोनों ने एक-दूसरे को फिर कभी डिस्टर्ब नहीं किया। 

मुझे लगा था कि एक बार गैंगबैंग सेक्स करूंगी तो मेरी प्यास बुझ जाएगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ. मेरे पति भी घर वापस आ चुके थे, 

और उनके साथ सेक्स करने के बाद भी मुझे मजा नहीं आ रहा था। मुझे अब पहली बार गैंगबैंग सेक्स करने का मन कर रहा था। 

लेकिन अब तो मेरे पति भी घर पर थे। वो सुबह में ऑफिस जाते थे और शाम को घर आते थे। बस उसी के बीच मुझे अपना दूसरा गैंगबैंग सेक्स प्लान करना था। 

मैं चाहती थी कि इस बार थोड़े ज्यादा आदमी हो। तो मैं फिर अपने गैंगबैंग के लिए आदमी ढूंढने लगी। 

मैं मॉल गई, कॉलेज के बाहर गई, रेस्टोरेंट में गई, पार्क में गई, लेकिन मुझे ऐसे आदमी नहीं मिले जो मोहित को टक्कर दे पाए। 

मुझे लम्बे, मोटे, काले और गंदे लंड पसंद है, जो मुझे नहीं मिल रहे थे। फिर मैं ढूंढते-ढूंढते एक औद्योगिक क्षेत्र में पहुंच गई। 

वहा बहुत सारे ट्रक खड़े थे, और वहा सब ट्रक ड्राइवर मुझे घूर-घूर कर देख रहे थे, कि जैसे मुझे अभी चोद देंगे। ~ Pehli Gangbang Chudai 2

मैंने उस समय काले रंग का टाइट जिम वाला लोअर पहना था, और लाल रंग की शर्ट पहनी थी, जिसमें मेरा फिगर भी अच्छा दिख रहा था। 

तभी मुझे आइडिया आया कि क्यों ना इस बार ट्रक ड्राइवरों के साथ मिलकर मज़ा किया जाए। 

उनके पास भी गंदा लंड होता है और दारू भी पीते हैं वो लोग। 

तो मुझे और भी मजा आएगा। लेकिन मैं उनसे बात कैसे करती मुझे समझ नहीं आ रहा था। 

फिर मैंने एक ट्रक ड्राइवर को देखा जो कि अपने ट्रक में बैठा था और बस निकलने वाला था। पास में एक पेट्रोल पंप था, जहां पर सभी ट्रक ड्राइवर डीजल भरवाते थे। 

तो मुझे पक्का पता था कि ये भी पहले वही जायेगा। तो मैं उससे पहले पेट्रोल पंप पर पहुंच गई। ट्रक ड्राइवर का नाम अमिताभ था, 

और उम्र 29 साल थी। वो अपने ट्रक को पेट्रोल पंप पर लाया, और तभी मैंने उससे बात शुरू की कि “आप कहाँ जाओगे, और कितने टाइम में निकलोगे”?

 मेरे पूछते ही अमिताभ समझ चुका था कि मैं उसके पास क्यों आई थी। ~ Pehli Gangbang Chudai 2

उसने कहा: आप ट्रक में बैठ जाओ, पेट्रोल पंप से निकलते ही हम बात करते हैं। 

पेट्रोल पंप से निकलने के बाद मैंने अमिताभ से डायरेक्ट कह दिया कि, “मुझे गैंगबैंग सेक्स करना है, और मैं उसके लिए आदमी ढूंढ रही हूं।

” क्या तुम मेरी मदद करोगे”? अमिताभ थोड़ा चौंक गया और बोला: इससे पहले कभी किया है? 

फिर मैंने अपना पहला गैंगबैंग सुना, जिसको सुन कर अमिताभ का लंड खड़ा हो गया, जिसे देख कर मेरा मन करने लगा कि एक बार लंड चूस लू। 

तो मैंने अमिताभ से कहा: मुझे तुम्हारा लंड देखना है। अमिताभ मान गया, और ट्रक की पीछे वाली सीट पर लेट गया। 

वो 12 दिन से नहीं आया था, और उसके लंड में से बहुत गंदी महक आ रही थी। 

जो की मेरी पहली कमज़ोरी है. उसका लंड भी 8″ का था, और मोटा भी था। बिल्कुल वैसा जैसा मुझे चाहिए था। 

फिर मैंने उसका लंड चूसा और उसके लंड का वीर्य पिया जिसको देख कर अमिताभ बोलता है कि-

अमिताभ: तुम तो बहुत बड़ी खिलाड़ी लगती हो।

और फिर मैंने उसका फोन नंबर लिया और अपनी डिमांड बताई कि मुझे
लंबे, मोटे काले, और गंदे लंड ही पसंद हैं, और कम से कम 4 आदमी होने चाहिए। 

अपनी डिमांड बता कर मैं अपने घर आ गई। अमिताभ ने मुझसे कहा था:
6 दिन का इंतजार कर लो, मैं जब तक गैंगबैंग के लिए आदमी तैयार करता हूं। ~ Pehli Gangbang Chudai 2

 वह उस समय बंगाल की तरफ जा रहा था, इसलिए उसे वापस आने में समय लग गया था। 

6 दिन मात्र 6 साल जितने निकले। फिर एक दिन अमिताभ का फोन आया और बोला-

अमिताभ: सब कुछ तैयार हो गया है। लेकिन आपको अलीगढ़ की तरफ आना पड़ेगा और फिर आगरा की तरफ आना पड़ेगा। 

वहा पर एक ढाबा है। वहा पर मैंने अरेंज किया है। मैं आपको बता दूं कि मैं दिल्ली में रहती हूं। 

अमिताभ ने 2 जगहों पर मेरा गैंगबैंग सेक्स अरेंज करवाया था। दोनो जगह 10 आदमी थे, जैसी मेरी मांग थी वैसे किया उसने। 

लेकिन एक समस्या थी. मुझे घर से कम से कम 6 दिनों के लिए जाना पड़ा था, 

और मैंने अपने पति को क्या बोलकर घर से निकलती, यह सोचकर मुझे टेंशन हो रही थी। फिर मैंने अमिताभ से बात की.

उसने बोला: अभी तुम्हारे पास 15 दिन का समय है। आराम से सोच लो. 15 दिनों में मेरी और अमिताभ की बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी। 

मैं रोज उसके कमरे में जाती थी, और उसने मुझे दारू और सिगरेट पीना सिखाया था। 

हमारे प्लान के अनुसार मुझे अमिताभ के साथ ट्रक में जाना था पहले अलीगढ़, फिर उसके बाद आगरा।

 मुझे 2 जगहों के हिसाब से अपने कपड़े चुनने थे। तभी मेरे पास मेरे मायके से कॉल आया कि मेरी मम्मी की तबीयत खराब हो गई थी, 

और वो मुझे घर बुला रही थी कुछ दिनों के लिए। बस फिर मुझे घर से निकलने का एक बहाना मिल गया था। 

मैंने अमिताभ को कॉल किया और बताया कि घर से निकलने का इंतजार हो गया था। पर अभी भी 2 दिन बचे थे, तो अमिताभ ने बोला-

अमिताभ: तुम मेरे कमरे में आ जाओ, हम दोनों यहीं से साथ में चल देंगे। ~ Pehli Gangbang Chudai 2

2 दिन तक मैं अमिताभ के कमरे में रही थी, और अमिताभ ने आपको गंदा करने के लिए 15 दिन से अपना लंड साफ नहीं किया था। 

उसने बाकी सब को भी बोल रखा था कि कोई अपना लंड साफ नहीं करेगा। हम दोनो दारू पीते थे, सिगरेट पीते थे, 

लेकिन पता नहीं अमिताभ ने उस समय सेक्स करने से मना कर दिया था। बोलता था कि एक साथ गैंगबैंग करेंगे। 

फिर वो दिन आ गया था जिसका मुझे इंतज़ार था। मैं घर से सेक्सी कपड़े और मेकअप का सामान ले आई थी। 

मेरे पास दो टाइट सूट हैं, एक हरे रंग का, और एक गुलाबी रंग का। 

बाकी डेली यूज़ वाले कपड़े थे और अमिताभ ने बहुत सारे कंडोम के पैकेट लिए थे। 

अमिताभ ने अपने ट्रक के पीछे एक छोटा सा कमरा बना दिया था, जहां पर सेक्स करने से पहले कपड़े बदल सकते थे, 

और मेकअप कर सकते थे। हम सुबह तीन बजे दिल्ली से निकले और दिल्ली बॉर्डर क्रॉस करने के बाद सो गए। 

फिर हम सुबह 9 बजे अलीगढ़ के लिए निकल गए, और अंदाज़े से हमें करीब दोपहर के 2 बजे तक उस ढाबे पर पहुंच जाना चाहिए था, 

जहां पर मेरा गैंगबैंग सेक्स होना था। 2 बजे तक हम उस ढाबे पर पंहुंच चुके थे। 

वो धाबा एक-दम सुनसान था। वहा पर दूर-दूर तक कोई नहीं था। बस एक ढाबा था. लेकिन मैं बहुत थक गई थी, 

तो मैंने अमिताभ से बोला कि मुझे सोना था। तो अमिताभ ने कहा सो जाओ तुम्हारी गैंगबैंग तो रात में होगी। 

मैं रात में आठ बजे सोके उठी। तब तक सब आ चुके थे। अमिताभ ने बोला कि सब आ गए थे, और मेरा इंतजार कर रहे थे। 

तो मैं रेडी हो जाउ. मैं अमिताभ के ट्रक के पीछे वाले कमरे में चली गई, जहां पर मैंने हरे रंग का टाइट सूट पहना और पूरा मेकअप किया। 

गैंगबैंग सेक्स के लड़किया बुक करे » Pehli Gangbang Chudai 2

Click Here For Booking » Escort Services in South Ex

ढाबे के पीछे एक छोटा सा कमरा था 10×10 का, जिसमें अमिताभ को मिलाकर 4  आदमी थे।

 उस कमरे में पंखा भी नहीं था और कोई खिड़की भी नहीं थी। बस

एक दरवाज़ा था, जो मेरे अंदर जाते ही बंद हो गया। सब आदमी मेरा इंतज़ार करते-करते पसीने में भीग चुके थे। 

जब मैं उस कमरे में गई, तो एक साथ 4 आदमियों को देख कर मैं अंदर से डर गई थी। 

लेकिन मुझे एक तरफ से ये सोच के मज़ा आ रहा था कि ये सब मुझे चोदने वाले थे। 

वहा कमरे के बीच में एक कुर्सी रखी थी जिस पर जाकर मैं बैठ गयी। और फिर कमरे का दरवाजा बंद हो गया। 

कमरे में बहुत महक आ रही थी और बहुत गर्मी भी थी। कमरा बहुत गंदा हो रखा था। 

सब ने दारू पी रखी थी। ये बात अमिताभ ने मुझे बताई, और, ~ Pehli Gangbang Chudai 2

मैंने भी दारू पी और सिगरेट भी पी, जिसको देख कर सब बोलने लगे कि दिल्ली वाली रंडी तो मॉडर्न है एक-दम।

इससे आगे क्या हुआ वो हम अगले Gangbang Kahani के भाग में जानेगे 

अगला भाग पढ़े:- Pehli Gangbang Chudai 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *