Gay Dost Ki Gand Mari » Hindi Gay Sex Stories

Gay Dost Ki Gand Mari » Hindi Gay Sex Stories

हेलो दोस्तों , आप सब का स्वागत है इस Hindi Gay Sex Stories में।

आज कहानी लेके आया हूँ कॉलेज में मिले एक Gay Dost Ki Gand Mari की।

मेरे कॉलेज में दूसरा साल शुरू हुआ है। मैं उस वक्त कॉलेज बस से आना-जाना करता था। वही मेरी मुलाक़ात बंटी से हुई। 

बंटी ने इसी साल कॉलेज में प्रथम वर्ष में एडमिशन लिया था। 

बंटी दिखने में एक दम गोरा चिट्टा लड़का था, और बहुत शांत और सुशील टाइप का था।

मैंने जब पहली बार उसे देखा तो मेरे दिल की धड़कन बढ़ गई, और उसका नाम भी एक-दम सब से अलग ही था। 

मुझे वो पहली नज़र में पसंद आ गया था। और सौभाग्य से मेरी उसकी बात पहले दिन हो गई। फिर रोज कॉलेज में आना-जाना करते वक्त साथ में बात होती थी। 

वैसे मेरा नाम अमिताभ है, और मैं उससे सिर्फ एक साल बड़ा हूं। मैं दिखने में एवरेज हूँ. और मुझे Gay Poan करना बहुत पसंद है।

आज तक मैंने कुछ खास करीब दोस्तों के साथ वक्त बिताया है। उनके सामने नंगा हुआ और उनका लंड चूसना । 

पर आज तक ऐसा कोई नहीं मिल पाया, जो मेरी गांड की प्यास बुझा सके। मेरा दिल बंटी पर आ गया था। 

पर मुझे ये पता नहीं था कि उन लड़कों में दिलचस्पी थी कि नहीं। और अगर ऐसा था, तो क्या वह टॉप या बॉटम था।

कुछ दिनों बाद मेरा जन्मदिन था, और मैं अपने दोस्तों को पार्टी देने वाला था, और वहीं मैंने बंटी को भी आमंत्रित किया। ( Gay Dost Ki Gand Mari )

उसे मैंने इनवाइट किया इसलिए उसे बहुत अच्छा लगा। फिर एक दिन बंटी कॉलेज बस में मेरे बाजू वाली सीट पर आके बैठ गया। 

बंटी का हाथ मुझसे छू रहा था, और इसलिए मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था।

उसके दूसरे दिन बंटी ने मुझसे कॉलेज से वापस जाते वक़्त कहा, क्या मैं आज रात के लिए उसके कमरे पर आकर रुक सकता था, 

क्योंकि उसका पार्टनर घर गया था, और उसे रात में अकेले रहने में डर लगता था। 

मैं मान गया. मैं एक बैग लेके और कुछ सामान लेके उसके कमरे पर चला गया। उसने मुझे रिसीव किया और रूम में ले गया।

हम दोनो एक ही बिस्तर पर लेटे हुए थे। और दोनो अपने मोबाइल पर लगे हुए थे। कुछ देर बाद उसकी तरफ से मुंह करके अपना मोबाइल इस्तेमाल करने लगा। 

कुछ देर बाद मैंने मोबाइल साइड में रख दिया, और अपनी आंखें बंद कर दी। गलती से मेरा हाथ बंटी के हाथ को छू गया। तो मैं सीधा लेट गया.

कुछ देर बाद बंटी ने अपने हाथ मेरे हाथ पर रख दिया। मुझे पहले लगा कि गलती से टच हुआ होगा, पर उसने अपना हाथ हटाया नहीं। 

मैंने हल्की उंगलियों से उसका हाथ पकड़ना चाहा, और उसी बंटी ने भी हल्के हाथों से मेरा हाथ दबाया। 

बंटी का सपोर्ट देख कर मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और सोने का नाटक किया।

मैंने कुछ देर तक उसका हाथ पकड़कर रखा था,
और कुछ देर में मैंने अपने मुँह उसकी तरफ से किया। 

मैंने आँखें खोली तो देखा कि बंटी मुझे देख रहा था,
मैं उसे देख मुस्कुराया और जवाब में बंटी भी मुस्कुराया और मेरे करीब आया।  ( Gay Dost Ki Gand Mari )

उसने एक हाथ से मेरी गाल पर सहलाया और कहा,
“आप सुंदर लग रही हैं”। 

मैं बताना भूल गया कि बंटी को सिर्फ कन्नड़ भाषा आती थी, और इसलिए हम सिर्फ अंग्रेजी में बातें करते थे।

मैंने कहा, “तुम मुझसे ज्यादा सुंदर हो”। यह सुन उसकी आंखें झुकी,
और उसने अपना एक हाथ मेरी छाती पर रखा,
और दूसरा हाथ मेरे हाथों में तो था ही।

हम दोनो एक दूसरे को देखते-देखते करीब आने लगे,
और पता ही नहीं चला कि हमने कब किस करना शुरू कर दिया।

मेरा लंड यहाँ नीचे टाइट हो चुका था,
और ऊपर मेरे होंठ बंटी के होंठो का पानी चूस रहे थे। 

तो वही बंटी भी मेरे होठों को चूम रहा था,
और देखते ही देखते मैं अपना शुद्ध-बुद्धि खो बैठा। 

फिर कुछ देर में मैंने उसके होठों से होते हुए उसके गाल पर चूमना शुरू कर दिया।

उसके मुँह से आह्ह आह्ह की आवाज़ निकलने लगी। उसने कोई विरोध नहीं किया, तो मेरी हिम्मत और बढ़ गई। 

मैंने उसकी गर्दन को दोनों तरफ से छुआ और चाटा। फिर मैं रुक गया. 

बंटी ने मेरी छाती पर अपना सर रखा, और मैंने उसका एक हाथ अपने हाथ में लेकर दूसरे हाथ से उसके सर के बालों को सहलाने लगा।

Cheap Rate @₹5K-15K/ Call Girls Visit Here – Delhi Escorts

बंटी को मेरा प्यार मिल रहा था। उसने मेरी टी-शर्ट ऊपर की, और मेरे पालतू जानवर को सहलाने लगा। 

मैंने कुछ नहीं कहा इसका उपयोग करें। उसने धीरे से अपने हाथ मेरे लंड पर रख दिया। उसके चूसने से वो और बड़ा हो गया। ( Gay Dost Ki Gand Mari ) 

मैंने बंटी को नहीं रोका तो उसने उसे दबाना शुरू किया। कुछ देर दबाने के बाद मैंने बंटी को बिठाया और उसकी टी-शर्ट उतार दी। 

मैंने उसकी पीठ और नंगी चाटी पर हाथ घुमाए।

उसने मेरी टी-शर्ट भी उतारी। वो मेरे ऊपर आया, और मेरे निपल्स चूसने शुरू किये। 

मैंने उसके बाद मुझे अलग करके बिस्तर पर लिटाया। फिर मैंने उसकी पैंट की ज़िप खोली, और उसकी पैंट के जोड़े को बिस्तर से नीचे फेंक दिया। 

उसने भी मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने ऊपर खींच लिया। फिर उठ कर मेरी पैंट उतार फेंकी। हम दोनो अब सिर्फ चड्डी में थे।

उसने मेरी और देखा और मेरी चड्डी के दोनों तरफ से पकड़ा, और बिना कुछ कहे मेरी और देखने लगा। 

मैंने भी बिना कुछ कहे उसे मुझे नंगा करने की इजाजत दे दी। उसने मेरी चड्डी उतारी, और मेरा लंड जो ६” का था उसके सामने खड़ा हो गया। 

उसने बिना देर किये मेरे लंड को हिलाया, और फिर एक झटके में पूरा लंड मुँह में ले लिया। ( Gay Dost Ki Gand Mari )

जैसे ही उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया। मैं किसी और दुनिया में जा चुका था। उसने धीरे-धीरे मेरा लंड चूसा और फिर स्पीड बढ़ाई। 

मैने भी उसका सर पकड़ कर अपना लंड चूसा। वैसे तो मुझे लंड चूसने का भी शौक है। पर पहली बार कोई मेरा लंड चूस रहा था, और मैं भूल चुका था कि मैं नीचे भी हूँ।

उसने मुझे दर्द से ब्लोजॉब दिया। जब मुझे लगा मेरा निकल जाएगा, तब मैंने उसे रोका। 

मैंने बिस्तर से नीचे उतारा और खुद बिस्तर की तरफ बैठ गया। मैंने उसकी चड्डी उतारी, और उसे मेरी जांघ पर बिठाया। 

उसकी गोरी-गोरी मुलायम गांड जब मेरी जांघ पर चिपकी, और वो बैठा तो मैंने क्या बताया। वो कुछ और ही महसूस कर रही थी।

ऐसा महसूस हो रहा था कि उसने दो-चार तमाशे उसकी गांड पर मारू। और साथ ही उसकी गांड को चाटु, काटु, और खा जाउ। 

फिर मैंने कंट्रोल किया, और उसकी गांड पर एक हाथ रखा,
और दूसरे हाथ से उसका चेहरा मेरी और करके फ्रेंच किस किया।
फ़िर बंटी बिस्तर पर बैठा, और अपनी दोनों टांगे उठाई। ( Gay Dost Ki Gand Mari )

मैं समझ गया कि वो अपनी गांड मरवाना चाहता था। मैं भी बहुत नीचे था, पर उसे देख कर पता नहीं मुझे क्या हो गया। 

मेरा मन किया उसकी गांड मारने का। मैंने टेबल पर तेल देखा तो चिकनाई की तरह इस्तेमाल करके बंटी की गांड पर अपना लंड सेट किया। 

फिर मैंने उन दोनों को उठाया।

कुछ देर धीरे-धीरे धक्का देते हुए पहले कुछ अंदर गया, और फिर आधा और फिर पूरा लंड उसके अंदर था। 

वो चीखा, चिल्लाया, और लंड बाहर निकालने के लिए रोया। पर पहली बार था,
तो दर्द तो होना ही था। फिर जैसे-जैसे मैंने उसकी गांड धीरे-धीरे मारी, उसे मजा आने लगा। ( Gay Dost Ki Gand Mari )

पहले उसकी आँखों से आँसू आ गए, पर बाद में खुद उसने मुझे गांड मारने को कहा।
मैंने भी पहली बार उसकी गांड मारी और 15-20 मिनट तक चुदाई की।
मैंने अपना सारा माल उसकी गांड और लंड पर निकाल दिया।

फिर मैंने भी उसका लंड मुँह में ले लिया और ज़ोर से चूसने लगा।
अभी उसकी गांड का दर्द कम नहीं हुआ था,
कि मैंने उसका लंड चूसना शुरू किया।
3-4 मिनट बाद वो मेरे मुँह में ही झड़ गया,
और मैं भी उसका सारा माल पी गया। ( Gay Dost Ki Gand Mari )

उस रात तो हम क्लीन करके, और मैं बंटी को अपने ऊपर लेके सो गे। सुभा उठा तो बंटी मेरे ऊपर ही था, बिल्कुल नंगा, और उसका लंड मेरे लंड को छूकर सोया था। 

उस दिन के बाद मैं बंटी का टॉप बन गया, और बंटी भी बॉटम बन कर मुझसे खूब चुदाई करवाता।

मुझे गांड मरवाने में बहुत मजा आने लगा। हमने अलग-अलग जगह अलग-अलग तरीके से गांड चुदाई की। 

अगर आपको Indian Gay Sex Stories in Hindi पसंद आई तो मैं इसके आगे का पार्ट जरूर लिखूंगा।